रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

माँ नर्मदा पर पाँच गीत / विवेक रंजन श्रीवास्तव

माँ नर्मदे !

शांति दे माँ नर्मदे !


प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"

द्वारा .. विवेक रंजन श्रीवास्तव
अतिरिक्त अधीक्षण इंजीनियर
क्वार्टर नम्बर ओ बी ११
म. प्र. राज्य विद्युत मण्डल , जबलपुर
मो ९४२५४८४४५२

सदा नीरा मधुर तोया पुण्य सलिले सुखप्रदे
सतत वाहिनी तीव्र धाविनि मनो हारिणि हर्षदे
सुरम्या वनवासिनी सन्यासिनी मेकलसुते
कलकलनिनादिनि दुखनिवारिणि शांति दे माँ नर्मदे ! शांति दे माँ नर्मदे !


हुआ रेवाखण्ड पावन माँ तुम्हारी धार से
जहाँ की महिमा अमित अनुपम सकल संसार से
सीचतीं इसको तुम्ही माँ स्नेहमय रसधार से
जी रहे हैं लोग लाखों बस तुम्हारे प्यार से ! शांति दे माँ नर्मदे !


पर्वतो की घाटियो से सघन वन स्थान से
काले कड़े पाषाण की अधिकांशतः चट्टान से
तुम बनाती मार्ग अपना सुगम विविध प्रकार से
संकीर्ण या विस्तीर्ण या कि प्रपात या बहुधार से ! शांति दे माँ नर्मदे !

तट तुम्हारे वन सघन सागौन के या साल के
जो कि हैं भण्डार वन सम्पत्ति विविध विशाल के
वन्य कोल किरात पशु पक्षी तपस्वी संयमी
सभी रहते साथ हिलमिल ऋषि मुनि व परिश्रमी  ! शांति दे माँ नर्मदे !


हरे खेत कछार वन माँ तुम्हारे वरदान से
यह तपस्या भूमि चर्चित फलद गुणप्रद ज्ञान से
पूज्य शिव सा तट तुम्हारे पड़ा हर पाषाण है
माँ तुम्हारी तरंगो में तरंगित कल्याण है  ! शांति दे माँ नर्मदे !


सतपुड़ा की शक्ति तुम माँ विन्ध्य की तुम स्वामिनी
प्राण इस भूभाग की अन्नपूर्णा सन्मानिनी
पापहर दर्शन तुम्हारे पुण्य तव जलपान से
पावनी गंगा भी पावन माँ तेरे स्नान से  ! शांति दे माँ नर्मदे !


हर व्रती जो करे मन से माँ तुम्हारी आरती
संरक्षिका उसकी तुम्ही तुम उसे पार उतारती
तुम हो एक वरदान रेवाखण्ड को हे शर्मदे
शुभदायिनी पथदर्शिके युग वंदिते माँ नर्मदे  ! शांति दे माँ नर्मदे !


तुम हो सनातन माँ पुरातन तुम्हारी पावन कथा
जिसने दिया युगबोध जीवन को नया एक सर्वथा
सतत पूज्या हरितसलिले मकरवाहिनी नर्मदे
कल्याणदायिनि वत्सले ! माँ नर्मदे ! माँ नर्मदे !  ! शांति दे माँ नर्मदे !


माँ नर्मदा की मनोव्यथा

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"
द्वारा .. विवेक रंजन श्रीवास्तव
अतिरिक्त अधीक्षण इंजीनियर
क्वार्टर नम्बर ओ बी ११
म. प्र. राज्य विद्युत मण्डल , जबलपुर
मो ९४२५४८४४५२

जो मीठा पावन जल देकर हमें सुस्वस्थ बनाती है
जिसकी घाटी औ" जलधारा सबके मन को भाती है
तीर्थ क्षेत्र जिसके तट पर हैं जिसकी होती है पूजा
वही नर्मदा माँ दुखिया सी अपनी व्यथा सुनाती है

पूजा तो करते सब मेरी पर उच्छिष्ट बहाते हैं
कचरा पोलीथीन फेंक जाते हैं जो भी आते हैं
मैल मलिनता भरते मुझमें जो भी रोज नहाते हैं
गंदे परनाले नगरों के मुझमें डाले जाते हैं

जरा निहारो पड़ी गन्दगी मेरे तट औ" घाटों में
सैर सपाटे वालों यात्री ! खुश न रहो बस चाटों में
मन के श्रद्धा भाव तुम्हारे प्रकट नहीं व्यवहारों में
समाचार सब छपते रहते आये दिन अखबारों में

ऐसे इस वसुधा को पावन मैं कैसे कर पाउँगी ?
पापनाशिनी शक्ति गवाँकर विष से खुद मर जाउंगी
मेरी जो छबि बसी हुई है जन मानस के भावों में
धूमिल वह होती जाती अब दूर दूर तक गांवों में

प्रिय भारत में जहाँ कहीं भी दिखते साधक सन्यासी
वे मुझमें डुबकी , तर्पण ,पूजन ,आरति के अभिलाषी
सब तुम मुझको माँ कहते , तो माँ सा बेटों प्यार करो
घृणित मलिनता से उबार तुम सब मेरे दुख दर्द हरो

सही धर्म का अर्थ समझ यदि सब हितकर व्यवहार करें
तो न किसी को कठिनाई हो , कहीं न जलचर जीव मरें
छुद्र स्वार्थ ना समझी से जब आपस में टकराते हैं
इस धरती पर तभी अचानक विकट बवण्डर आते हैं

प्रकृति आज है घायल , मानव की बढ़ती मनमानी से
लोग कर रहे अहित स्वतः का , अपनी ही नादानी से
ले निर्मल जल , निज क्षमता भर अगर न मैं बह पाउंगी
नगर गांव, कृषि वन , जन मन को क्या खुश रख पाउँगी ?

प्रकृति चक्र की समझ क्रियायें ,परिपोषक व्यवहार करो
बुरी आदतें बदलो अपनी , जननी का श्रंगार करो
बाँटो सबको प्यार , स्वच्छता रखो , प्रकृति उद्धार करो
जहाँ जहाँ भी विकृति बढ़ी है बढ़कर वहाँ सुधार करो

गंगा यमुना सब नदियों की मुझ सी राम कहानी है
इसीलिये हो रहा कठिन अब मिलना सबको पानी है
समझो जीवन की परिभाषा , छोड़ो मन की नादानी
सबके मन से हटे प्रदूषण , तो हों सुखी सभी प्राणी !!


आया महा कुंभ का मौका

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"
द्वारा .. विवेक रंजन श्रीवास्तव
अतिरिक्त अधीक्षण इंजीनियर
क्वार्टर नम्बर ओ बी ११
म. प्र. राज्य विद्युत मण्डल , जबलपुर
मो ९४२५४८४४५२

आया महा कुंभ का मौका , चलो माँ के दर्शन करें
मैया  का लगा है दरबार, चलो माँ के दर्शन करें

माता के दरसन है पावन सुहावन लहरों  से झरता है करुणा का सावन

भक्तों की माँ ही आधार, आया महा कुंभ का मौका ,चलो माँ के दर्शन करें

माता के घाटों  की शोभा निराली , उड़ती ध्वजा  मन हरने वाली

खुला सबके लिये मां का पाट ,आया महा कुंभ का मौका  चलो माँ के दर्शन करें

मंदिर में जलती सुहानी वो जोती ,जो मन के सब मैल किरणो से धोती

माता सुनती हैं सबकी पुकार ,आया महा कुंभ का मौका  चलो माँ के दर्शन करें



माँ दरशन की अभिलाषा ले हम घाट  तुम्हारे आये हैं

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"
द्वारा .. विवेक रंजन श्रीवास्तव
अतिरिक्त अधीक्षण इंजीनियर
क्वार्टर नम्बर ओ बी ११
म. प्र. राज्य विद्युत मण्डल , जबलपुर
मो ९४२५४८४४५२


माँ दरशन की अभिलाषा ले हम घाट  तुम्हारे आये हैं

एक झलक मैया  की पाने सपने ये नैन सजाये हैं

पूजा की रीति विधानों का मैया  है हमको ज्ञान नही

पाने को तुम्हारी कृपादृष्टि के सिवा दूसरा ध्यान नहीं

फल चंदन माला धूप दीप से पूजन थाल सजाये हैं

दरबार तुम्हारे आये हैं, मां घाट तुम्हारे आये हैं
जीवन जंजालों में उलझा, मन द्विविधा में अकुलाता है

भटका है भूल भुलैया में निर्णय न सही कर पाता है

मां आँचल की छाया दो हमको, हम माया में भरमाये हैं
हम घाट  तुम्हारे आये हैं , हम बाट  तुम्हारे आये हैं


जिनका न सहारा कोई माँ , उनका तुम एक सहारा हो
दुखिया मन का दुख दूर करो, सुखमय संसार हमारा हो


आशीष दो मां उन भक्तों को जो, तुम से आश लगाये हैं


हम घाट  तुम्हारे आये हैं,सब बाट  तुम्हारे आये हैं

 



जय नर्मदे जय जय नर्मदे

प्रो सी बी श्रीवास्तव "विदग्ध"
द्वारा .. विवेक रंजन श्रीवास्तव
अतिरिक्त अधीक्षण इंजीनियर
क्वार्टर नम्बर ओ बी ११
म. प्र. राज्य विद्युत मण्डल , जबलपुर
मो ९४२५४८४४५२

दर्शन के लिये

, पूजन के लिये,मैया  के दरबार चलो
मन में श्रद्धा विश्वास लिये

, मां का करते जयकार चलो !! जय नर्मदे जय जय नर्मदे  !!
है डगर कठिनमैया तट  की

, माँ पथ मेरा आसान करो
मैं घाट तिहारे  तक पहुँचू

,इतना मुझ पर एहसान करो !! जय नर्मदे जय जय नर्मदे !!
उँचे पर्वत  गहरी खाई

, अनुपम है छटा छबि न्यारी है
लहरों  से बरसती है करुणा

, कहता हर एक पुजारी है !! जय नर्मदे जय जय नर्मदे !!


मां थपकी  तेरी लहरों की

, जीवन में जगाती है आशा
हरयारी हरे कछारों  की

, करती शीतल दुख की ज्वाला !! जय नर्मदे जय जय नर्मदे !!


जगजननि माँ बहती धारा

महिमा अनमोल तुम्हारी है
जिस पर करती तुम कृपा वही

, जग में सुख का अधिकारी है !! जय नर्मदे जय जय नर्मदे !!


तुम सबको देती हो खुशियाँ

, सब भक्त यही बतलाते हैं
जो निर्मल मन से जाते हैं वे झोली भर वापस आते है

!! जय नर्मदे जय जय नर्मदे !!

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget