रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

लघु-व्यंग्य / दादाजी की संगीत संध्या / कुमार करन मस्ताना

आयशा सलीम की कलाकृति

आज रविवार था और मैं अपने कमरे में बैठकर मुंबई के कुछ खास घूमने योग्य स्थानों पर जाने का विचार कर रहा था! यूँ तो मुंबई के सड़कों पर भीड़ प्रायः हमेशा रहती है लेकिन रविवार को अत्यधिक हो जाती है, अतः मैंने मुंबई भ्रमण की योजना को रद्द करना ही उचित समझा! मैं इसी उधेड़-बुन में खोया था कि गाँव से दादा जी का फोन आ गया! तो आज मैं सोचता हूँ कि आप लोगों को अपने दादाजी की कुछ वॉयोग्राफी बताऊं!


हमारे दादा जी अपने गाँव में अच्छी ख़ासी शख़्सियत रखते हैं, कहा जाता है कि वह अपने जमाने के प्रतिष्ठित कीर्तनिया सिंगर थे! उनके आगे अच्छे-अच्छे गायकों की धोती ढीली हो जाती थी, यह समझिए कि उन्हें अपने गांव में पॉप सिंगर माइकल जैक्सन की उपाधि मिली थी! देखा जाए तो उनकी गायकी का अंदाज एकदम गजब का है और मुझे लगता है कि शायद उनके गले में साक्षात सरस्वती माँ निवास करती हैं,क्या गाने का धुन तैयार करते हैं लाज़वाब, एकदम बप्पी लहरी की तरह! बस एक धुन मैं उनकी आज तक नहीं समझ पाया हूँ और शायद समझ भी नहीं पाऊँगा, वह भजन गाते- गाते अक्सर रास्ता भटक कर हिंदी और भोजपुरी दुनिया में चले जाते हैं, उनकी गायन शैली में तब और भी चार चांद लग जाता हैं जब उनके माइंड के गोदाम से सारे हिंदी-भोजपुरी गाने,ग़ज़ल,भजन-कीर्तन खत्म हो जाते हैं और वह अचानक भगवान को ही गाली बकने लगते हैं! नये लोग उनकी गायकी देखकर यही समझते हैं कि वृद्धावस्था के कारण वो सठिया गये हैं लेकिन आप उनकी गालियों को सुनेंगे तो आपको बेहद कर्णप्रिय भी लगेगा और बुरा भी लगेगा, क्योंकि वह गाली संगीत के सातों सुर पर सजा कर देते हैं!

[ads-post]

उनके गानों का घोर विरोधी पूरे घर में एकमात्र मेरा सगा छोटा भाई है, वह हमेशा दादा जी को मुंबई बॉलीवुड में जाने की सलाह देता रहता है बाकी के लोगों में मेरी दादी जी को तो कुछ सुनाई देता ही नहीं,चाहे उनके आगे रफ़ी साहब के सदाबहार नगमें बजाइए या शकीरा के पॉप गाने सुनाइए उनके लिए तो सब बराबर है, तो उन्हें दादाजी के गाने से कोई प्रभाव पड़ता ही नहीं! दूसरे मेरे माता-पिता जी हैं तो वह भी दादाजी के संध्या-संगीत में टांग अड़ा कर खतरा मोल लेने की हिम्मत नहीं करते हैं हलांकि पीठ पीछे उनकी गायकी से खोट निकालने में नहीं चूकते! बस एक मेरा छोटा भाई है जो पास से नहीं बल्कि दूर से ही उनका विद्रोह करना उचित समझता है, देखा जाये तो पास जाने में उसे भी जान जोखिम में डालने जैसा महसूस होता है क्योंकि लाठी और चमड़े का जूता, ये दोनों मेरे दादा जी के प्रिय हथियार हैं और इन्हें हमेशा अपने साथ रखते हैं!

खतरे को भांपते ही गुस्से में वो सबसे पहले छोटा हथियार अर्थात जूते का इस्तेमाल बड़े फुर्ती के साथ करते हैं! एक दो-बार मेरा छोटा भाई उनके इस छोटे हथियार के चपेट में आ चुका है! हालांकि मेरे छोटे भाई को दादा जी के गायकी से एलर्जी इसलिए होता है क्यूंकि उसे पढ़ने में और सोने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है! मामला कुछ यूँ है कि दादा जी भजन गाते-गाते तालियों से म्यूजिक भी कंपोज़ करने लगते हैं और गाते-गाते इतने इमोशनल हो उठते हैं कि लगता है अब ये डांस मुद्रा में खड़े हो जाएंगे! उनका यह सुर-संग्राम करीब रात 12:00 बजे तक और पुनः सुबह 3:00 से शुरू हो जाता है ऐसी परिस्थिति में मेरे छोटे भाई का विरोध करना जायज है लेकिन "जान बची तो लाखो पाये" वह यही सोच कर बेचारा संतुष्ट रहता है!

kumar karan mastana

रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget