रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

आलेख / कवि कर्म की अवधारणा / रेवती रमण शर्मा

साझा करें:

आलेख कवि कर्म की अवधारणा रेवती रमण शर्मा विश्वनाथ प्रसाद तिवारर हिन्दी के एक समर्थ समकालीन कवि हैं. उनका ‘गद्य में, पद्य में समाभ्यस्त’ ह...

आलेख

कवि कर्म की अवधारणा

रेवती रमण शर्मा

विश्वनाथ प्रसाद तिवारर हिन्दी के एक समर्थ समकालीन कवि हैं. उनका ‘गद्य में, पद्य में समाभ्यस्त’ होना बड़ी बात है, किन्तु उससे भी बड़ी बात है उनका एक बेहतर आदमी होना, जिसके जीने के पीछे एक तर्क हो. शरीर में जैसे ‘रीढ़’ होती है, उनके शब्द और कर्म में वैचारिक-नैतिक दृढ़ता है. वह नदी का द्वीप नहीं है, न बहती धारा है. उन्हें हम किनारे का गायक भी नहीं कह सकते. उनका प्रोटेस्ट उनके समष्टि चित्त का प्रतिबिम्बन है. विश्वनाथ जी का जीवन-संघर्ष कड़ा है, जिसे प्रतिबिम्बित करनेवाला उनका लेखन भी विविध रूपात्मक है. उसकी एक अवधारणा है. हम उन्हें कलावादियों के परिसर के बाहर चहलकदमी करते देखते हैं. उनका देश-राग अलक्षित नहीं है, अभिजनान्मुख नहीं है. शास्त्र और लोक में से एक को चुनना पड़े तो विश्वनाथ जी लोक का वरण ही करेंगे, लेकिन वह वस्तुस्थिति है कि वह शास्त्र को जानते और मानते हैं. उनका आधुनिक होना परम्परा की पुकार कान लगाकर सुनने जैसा है. उनकी सिसृक्षा अमूर्तन नहीं जानती, बल्कि उनके साहित्य में अन्तर्दृष्टि ही संरचना है. उन्होंने शिल्प को अनुसन्धान का विषय न बनाकर अहसास की सांस के रूप में अर्जित किया है.

विश्वनाथ जी जाहिर है, कलाकार और अदीब हैं. उनका मूल्यांकन इस रूप में ही अपेक्षित है, किन्तु क्या वह व्यक्ति विश्वनाथ से अलग है? विश्वनाथ जी अपने से किसी को छोटा करके नहीं देखते. उन्हें नदी की वेगपूर्ण धारा गति का सुख देती है और हिमालय पर उनकी दृष्टि टिकी रहती है. सहत् और उदात्त के प्रति उनका आकर्ष स्वाभाविक है. उनका पैत्रृक घर उनके गोरखपुर वाले आवास से उत्तर दिशा में है, जहां से हिमालय उत्तर दिशा में विद्यमान है. उनके व्यक्तित्व को अनन्य साधारण बनाने वाली चीज है उनकी अंतःप्रज्ञा यानी वैयक्तिक प्रतिभा लोक संवेदना से रस ग्रहण करती है और समाजोन्मुख सहज ही बनी रहती है. वे अक्सर ‘अनन्त रूपात्मक जगत’ की चर्चा करते हैं और ‘लोकमंगल’ की भी. ये दोनों आचार्य शुक्ल के समीक्षा शास्त्र के शब्द हैं. इन्हें सार्थकता मिली है विश्वनाथ जी के साहित्य में. उन्होंने एक अवधारणा के साथ स्वानुभूत यथार्थ की अभिव्यक्ति की है, घूम-घूमकर दुनिया देखी है. महापंडित राहुल सांकृत्यायन और अज्ञेय की परम्परा में विश्वनाथ जी यायावर हुए हैं. जीवन यायावर हो तो साहित्य विश्व-बोध से सम्पन्न होगा ही. उनमें कुछ कबीर जैसी बातें हैं-सत्यनिष्ठा और आनृशंस्य. भाषा में एक खास चमक के साथ नैतिक और जातीय स्मृति को लाने का उपक्रम.

विश्वनाथ जी की कविताएं जिन्दगी से संवाद करती हैं. कहीं वे खुद से तो कहीं अपने अनन्यों से संवादरत हैं. अपनी सदिच्छा और लोक चिन्ता में वे भारतीय मनुष्य की छवि प्रस्तुत करते हैं. जयादा लोग जो जी रहे हैं, वह नहीं लिख रहे हैं. साहस का अभाव लालच का मध्यवर्गीय संस्कार होता है. विश्वनाथ जी में साहस पर्याप्त है, वह कभी-कभार दुस्साहस भी हुआ है.

संगठनों ओर संस्थानों के खिलाफ शुरू से ही लिखने-बोलने वाले विश्वनाथ जी अकेला होने को कभी गौरवान्ति नहीं करते. उन्होंने सार्त्र के प्रसिद्ध कथन, ‘द अदर इज हेल’ का विखंडन किया है. अस्तित्वाद की इस अवधारणा के खिलाफ उन्होंने अपने अनुभव का आख्यान लिखा है, ‘द अदर अज हेवेन’. वे जब भोगी हुई जिन्दगी की इबारत लिखते हैं तो उनकी सिसृक्षा का रहस्योद्घाटन होता है. जिन्दगी की कविता भाषा की सलीब पर प्रत्यक्षानुभूति की तरह प्रभावशाली होती है. उनमें यात्रा के प्रसंग आते हैं, अविराम यात्रा के, ‘आत्म की धरती’ और ‘अंतहीन आकाश’ के. उन्हें जो प्रश्न बेचैन करते हैं, वे आज की राजनीति और समाज-व्यवस्था को कठघरे में खड़ा करनेवाले प्रश्न हैं. उन प्रश्नों से अज्ञेय भी जूझते रहे, निर्मल वर्मा भी, किन्तु प्रसन्न अभिव्यक्ति तो विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की ही है. इसलिए भी कि वे ‘अंत’ को नहीं शुरुआत को अहसास में जगह देते हैं. ‘हर आशा कहीं कुछ तोड़ देती है, हर जिज्ञासा प्रश्नों की अन्धी गली में छोड़ देती है’-यह विश्वनाथ जी की आरम्भिक स्थिति है, किन्तु ज्यों-ज्यों उनकी रचना-यात्रा आगे बढ़ती है, ‘मानव की जय-यात्रा’ का विश्वास बढ़ता जाता है.

विश्वनाथ जी के लिए कविता लिखना पौधा रोपने की तरह है. वह घटित यथार्थ की जमीन पर सम्भावित यथार्थ का सपना है. उसमें स्वार्थ-सम्बन्धों के संकुचित मंडल से ऊपर उठकर लोक सामान्य भावभूमि के उपार्जन की कोशिश है. मुक्तिबोध जिसे ‘परम अनिवार आत्मसम्भव अभिव्यक्ति’ कहते हैं, उसी की तलाश में उनके शब्द सृष्टि की कुंजी बने हैं. एक धारणा यह भी हे कि जो बेहतर कविता लिखता है, वही श्रेष्ठ गद्य भी लिख सकता है. भाव-विचार का उत्कृष्ट संकेन्द्रण, मितकथन का अभ्यास गद्य-शिल्प को समृद्ध करता है. वह सदैव काव्याकांक्षा का प्रसार ही हो, आवश्यक नहीं. कविता शब्द चित्र है, भाव-नृत्य है और गद्य विचार विह्वल. गद्य में विचार-मात्रा लोकेट होती है, कविता की तुलना में अधिक स्पष्टता से, तथापि हम मानते हैं कि विश्वनाथ प्रसाद तिवारी मूलतः और स्वाभावतः कवि हैं. वे भाषा और साहित्य के गम्भीर अध्येता और आर्चा भी रहे हैं, यह हमें नहीं भूलना चाहिए, लेकिन उनकी संवेदनशीलता और आत्म सजगता ने उन्हें ‘साहित्य का दारोगा’ बनने से रोका है.

अच्छी-अच्छी बातें बोलना, लय के आरोह-अवरोह के साथ और दूसरों की अपेक्षा अपनी अनुगूंजों से खुद ही प्रमुदित होते रहना एक खास तरह की असह्य आत्ममुग्धता के अधीन होता है. श्रोता-समूह को प्रसन्न करनेवाली अभिव्यक्ति ईमान की बात कम ही होती है. सत्याग्रही की वाणी सदैव श्रुतिमधुर नहीं होती. एक सच्चे सर्जक की सबसे बड़ी मुश्किल होती है सत्य को स्वार्थवश अनाहत रखने की. याचिक परम्परा के आचार्य समाज के अंतर्विरोधों पर संकेतों में बोलते हैं तो चीजों को उनके वास्तविक नाम से पुकारने की कला का सत्यानाश हीकरते हैं. विश्वनाथ जी के बोलने और लिखने में उनकी मान्यताओं की शक्ल समझौतावादी नहीं दिखती. स्वत्व और समाज के दो कगारों पर उनकी अभिव्यक्ति उस प्रसन्न पुल की तरह होती है, जिसका निर्माता आत्मा का इंजीनियर है. वह भवभूति को कभी भूलता नहीं, इसलिए कविता उसके लिए आत्मा की कला बनी रहती है.

आचार्य शुक्ल कविता को ‘मनुष्यत्व की साधना’ मानते थे. विश्वनाथ जी शुक्ल जी से सहमत हैं. मनुष्यत्व की साधना के भीतर मानवेतर प्राणियों-पशु-पक्षियों और शेष सृष्टि से लगाव भी आता है. इसलिए विज्ञान के प्रभाव में सब समय मानववादी निष्कर्ष सही नहीं माने जा सकते. विश्वनाथ जी कवि-कलाकार को दार्शनिकों-वैज्ञानिकों से श्रेष्ठतर मानते हैं. यह सृजन में उनकी ‘निज की उपस्थिति’ का सुदृढ़ आधार है. वे जिस माध्यम के प्रयोक्ता हैं, उसमें अटूट आस्था रखते हैं. ‘करुणा’ की हिमायत उनकी इस रचना-मनीषा का ही प्रतिफल है. करुणा भाव नहीं, महाभाव है. कबीर को विश्वनाथ जी याद करते हैं-

पाती तोरेउ मालिनी, पाती माहे जीउ.

जा मूरति का पाती तोरे, ता मूरति निरजीउ...

(मालिनी फूल तोड़ रही है. पत्ती में जीव है. जिस मूर्ति के लिए वह पत्ती तोड़ रही है, वह मूर्ति निर्जीव है. वैज्ञानिक जगदीश चन्द्र बोस ने इसे छह सो वर्ष बाद अपने प्रयोग में सिद्ध किया कि वनस्पतियों में जीवन होता है.)

(अस्ति और भवति)

विश्वनाथ जी ब्रह्माण्ड के रहस्य-रूपकों पर विज्ञान साहित्य के विशष अध्येता की तरह बोलते हैं, पर उनकी वाग्मिता ज्ञान-गर्व से दूर ही रहा करती है. उन्हें पंडित हजारी प्रसाद द्विवेदी सदैव याद रहते हैं, इसलिए अपनी पंडिताई को वे पाठक पर बोझ नहीं बनने देते. उनके लेखन में अहंकार से बचाव की तमाम हिकमतें हैं. परदुःखकातरता और कृतज्ञता को भारतीय जीवन मूल्यों में रेखांकित करना उनकी आदत में शामिल है. सबसे बड़ी विशेषता उनके लेखन में गूढ़ बात को भी सादगी और सफाई से व्यक्त करने की कला है. उनकी काव्य-भाषा भी उतनी ही सहज है, लेकिन अनुभव-संसार व्यापक है. यायावरी ने विचार-व्यवहार में उन्हें उदार बना दिया है. विश्वनाथ जी पेंचदार आदमी नहीं हैं, सब मानते हैं, तथापि लेखक के रूप में स्वीकृति पाने हेतु उन्हें बहुत पापड़ बेलने पड़े हैं. वह अवांगार्द हो सकते थे, बोहेमियन हो सकते थे, खानाबदोशों में शामिल हो सकते थे, पर नहीं हुए. उन्होंने सन्तुलन बनाए रखा. इसलिए कि उनमें एक भारतीय किसान का धीरज है. वह इन्तजार करते हैं और विश्वास डिगने नहीं देते. उन्हें दुर्गम यात्राओं का खासा अभ्यास है. उन्हीं का कथन है-

मैंने खुद अपनी आंखों से

सूरज को डूबते हुए देखा है (साथ चलते हुए)

‘देखना’ संक्रमक क्रिया है और यह वैविध्य के साथ उनके साहित्य में घटित हुआ है. उनकी कविताओं में ‘अंधकार’ के नितय नूतन बिम्ब आते हैं. अंधकार में असंख्य ध्वनियां हैं. उन ध्वनियों की पहुंच मिट्टी, पानी, धूप और हवा तक है. सब मिलकर उनकी भाषा रचते हैं. संशय के द्वीप आस्था के प्रवाह को रोक नहीं पाते. अपनी रचनाशीलता को लेकर कहीं एक संशय भी उन्हें हुआ है. उन्हीं की पंक्तियां है-

‘कुछ निकम्मे लोग/जो ठेकेदारी नहीं कर सकते

मेम का पेटीकोट नहीं धो सकते/लिखते रहेंगे कविताएं

उनके बीवी-बच्चे/राशन, तेल की चिन्ता में

उन्हें कोसते रहेंगे/कविता किसी को नहीं मार सकती

सिवा अपने रचयिता के.’ (साथ चलते हुए)

सच है, साहित्य में बने रहने के लिए साहित्य से निर्वासन जरूरी है. एक दौर उनके जीवन में ऐसा भी आया था, जब उन्हें लिखना पड़ा था-

भाषा की ताकत आजमाते हुए जहां पहुंचा हूं-एक खाली

कोटर है/अंडों को निगल गए हैं सांप/

एक चिचियाती चिड़िया साथ में/

साथ में न कोई संपादक न आलोचक.

‘एक चिचियाती हुई चिड़िया हाथ में’ युद्ध का संकेत है. बचाने का उद्यम, जीवन के पक्ष में, जिजीविषा के पक्ष में.

‘कविता क्या है?’ काफी मशक्कत के बाद विश्वनाथ जी समझ पाते हैं कि ‘रचना सतय की सगुण और संवेदानात्मक अभिव्यक्ति है.’ ‘अभिव्यक्ति की खोज कवि-कर्म है और कविता अभिव्यक्त करने की क्रिया.’ एक कवि को अर्थहीन दुनिया को अर्थ देना होता है. उसे शब्दहीन को शब्द देना होता है. ‘शब्द और अर्थ की साधना है कविता.’ सत्य को अधिक सार्थक ढंग से पकड़ने की कोशिश ही उनकी कविता-यात्रा है. एक कवि क्या करता है? वह मौन जीवन को मुखरित करता है यानी नश्वरता को निर्मूल करता है. उसे जो मिलता है, वह जिन्दगी को लौटा देता है.

विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की छवि शुरू से अब तक व्यवस्था-विरोधी कवि की रही है. उनका आत्म-रूप `िसिफस का मिथक है. नश्वरता के संज्ञान के बावजूद, सब समय अमरता की आराधना में लगे. वह महारथियों के चक्रव्यूह को भेदने को अभिमन्यु भी बना है. वह लड़ता है और मारा जाता है. जो मारते हैं, पर मारने पर उसे अमर घोषित कर देते हैं-

अपने अंधकार के मलबे में ही

चमकदार कणों को टटोलता हूं

तो भी टूटे शस्त्र हैं मेरे पास

उन्हीं से लड़ता हूं. (साथ चलते हुए)

कवि का जुझारूपन व्यक्तित्व और विचार की दृढ़ता में भी झलकता है. वह देख पाते हैं-

सब अपनी-अपनी आग में जल रहे हैं....

अलग-अलग/अकेले-अकेले

आग केवल आग

सब अपनी-अपनी आग में जल रहे हैं

(बेहतर दुनिया के लिए)

कवि के भीतर आग है. उस आग में वह खुद भी जला है, बल्कि खुद ही जला है, झुलसा है, कंचन की तरह निखर आया है. वह व्यवस्था की विसंगतियों को जला देना चाहता है, पर शब्द के जलाने से व्यवस्था नहीं जलती. शब्दों पर भी कवि का कब्जा नहीं रहा. समाज में चाटुकारों की चलती है. उन्हें शब्दों कोमांजना आता है, भांजना भी. कभी वे शब्दों के जाल को फैलाते हैं, तो कभी उसे सिक्के-सा भुनाते हैं. वे मसीहा हैं, उद्धारक हैं, हैं नहीं, होने की अफवाह फैलाते हैं. विश्वनाथ जी महसूस करते हैं कि ‘शब्द के लिए यह वक्त बहुत बुरा है.’ खासतौर से प्रतिरोध की शब्दावली इतनी बेअसर कभी नहीं हुई. जबकि होना यहा चाहिए कि-

जब मैं कहूं आग तो जले लग शहर

जब मैं कहूं ‘प्यार’ तो बच्चे सटा दें अपने नर्म-नर्म गाल

मेरे होंठों से.

कवि की मुश्किल यही होती है. इस मुश्किल से जूझने वाले कवि का नाम है विश्वनाथ प्रसाद तिवारी. उनकी आकांक्षा का भूगोल वागर्थ का वैभव है. एक कवि के रूप में विश्वनाथ जी चाहते हैं कि दुनिया को बेहतर बनाने में उनकी एक भूमिका हो. वक्त बुरा है ता किस युग के कवि का वक्त अच्छा होता है? क्या वेद व्यास को वह मिला था, भवभूति और कबीर को अच्छा वक्त मिला था? समय का अच्छा या बुरा होना कवि के महसूस करने पर निर्भर है. बोलने-लिखने की आजादी तो चाहिए ही, पर्यावरण भी अनुकूल चाहिए. चारों तरफ चीख-पुकार मची हो तो कवि कृष्ण की तरह बांसुरी कैसे बजा सकता है? बहरहाल, विश्वनाथ जी की आकांक्षा अर्थसघन है. उन्होंने लिखा है-

मैं अपने लाल-लाल शब्दों के साथ

पहुंचना चाहता हूं धमनियों के रक्त तक

मैं अपने उजले-उजले शब्दों के साथ

पहुंचना चाहता हूं स्तनों के दूध तक.

आखिर एक कवि क्या करता है, जो दूसरे नहीं करते हैं? वह हर मुश्किल में जीवन के प्रति आस्था रखता है. वह अपना लहू पाठक के दिल में उड़ेलकर उसे सहृदय बनाता है. अंततः वह जो गाता है, वह स्वछन्द वायुमण्डल का गान होता है.

विश्वनाथ जी आज के कवि हैं, आधुनिक और मुठभेड़ करने वाले कवि हैं. लिख-छपकर सन्तुष्ट हो जाने वाले नहीं. इसलिए ‘स्वगत’ में भी कई बार वे प्रश्नाकुल हो उठते हैं-

कवि जी, लिखीं आपने खूबसूरत कविताएं

तो दुनिया क्यों नहीं हुई खूबसूरत

चला नहीं सकते थे आप सुदर्शन चक्र

उठा नहीं सकते थे गोवर्धन

पर पहुंचा तो सकते थे घायल को अस्पताल.

(आखर अनन्त)

सही है कि विश्वनाथ जी संगठनों, प्रतिष्ठानों की प्रतिबद्धता के साथ नहीं हैं. उन्हें हम नास्तिक भी ठीक-ठाक नहीं मान सकते. उनका आत्मा पर बल है. वे ऐसे किसी शरीर पर विश्वास नहीं करते, जिसमें आत्मा न हो और ऐसी किसी आत्मा पर भी नहीं, जिसका न हो शरीर. आत्मा बड़ी चीज है. वह शरीर में रहती है तो ही प्राणी सजीव होता है. अब जीवन है, मनुष्य का जीवन तो कर्म-योग से दूर कैसे रह सकता है? बड़ी तपस्या से मानव-देह मिलती है तो सिर्फ भोग के लिए नहीं. स्वार्थन्धता से जीवन व्यर्थ हो जाता है. विश्वनाथ जी भयमुक्त समाज चाहते हैं. इसके लिए मनुष्य-मात्र को भयमुक्त करना होगा. शरीर तंत्र पर अधिक भरोसा करना अनुचित है.

इसलिए कवि का अपनी कविताओं में प्रयुक्त शब्दों की सार्थकता को लेकर प्रश्नाकुल हो उठना बेवजह नहीं हो सकता. उसके मूल में नैतिकता का आग्रह है. उसे उपयोगितावादी कहकर टहलाया नहीं जा सकता. विश्वनाथ जी ने

अवधारणात्मक लिखते हुए यदि अवधारणाओं के संकट को महसूस किया है और विचारधारा का उपनिवेश बनने से मना कर दिया है तो उनकी चर्चा उत्तर-आधुनिकतावादी के रूप में भी हो सकती है. उन्होंने स्त्रीवादी विमर्श को अपनी रचनात्मक सहमति दी है. उनकी शुरू की कविताओं पर अस्तित्ववाद का असर ढूंढ़ा जा सकता है. जीवन की तरह मृत्यु भी उनकी चिन्तन-सरणि में मिल सकती है, किन्तु कालानतर में स्थितप्रज्ञता दृढ़ हुई है. विश्वनाथ जी उतने ही आधुनिक या अनाधुनिक हैं, जितने महात्मा गांधी थे, पर मैं एक और बात कहना चाहूंगा. विश्वनाथ जी की लघुकाय कविताएं ऊपर-ऊपर समकालीन काव्य-धारणा के अनुरूप हो सकती हैं, जबकि तत्त्वतः वे कुछ और ही हैं. हम उन्हें महाआख्यान की मनीषा से परिचालित देखते हैं. विश्वनाथ जी करुणा को ‘महाभाव’ कहते हैं और अर्थ के बिना शब्द का अस्तित्व स्वीकार नहीं करते. वे उन लोगों के गायब होने की खबद देते हैं, जो अच्छे-खासे हट्टे-कट्टे होने पर भी एक अदृश्य हाथ के छूने भर से छूमन्तर हो जाते हैं. उन्हें ‘मनुष्यों की दुर्लभ प्रजाति के गायब होने’ की चिन्ता है. ‘आत्मा की धुन’ कविता में कवि अमृतसर के स्वर्ण मन्दिर का चित्र खड़ा कर देता है-

...देखा मन्दिर के सिंहद्वार के ऊपरी भाग में

बड़ी-बड़ी पेंटिंग्स सिखों के बलिदान की

आरे से चीरा जा रहा था एक

तवे पर भुना जा रहा थ दूसरा

दीवार से चुना जा रहा था तीसरा

हाथों से कुचलवाया जा रहा था चौथा...

इस दृश्य से कवि का रोमांचित होना, उस महान जाति को माथा झुकाना क्या साबित करता है कि ‘अब भी इच्छा होती है/ सुनने की वह धुन/ वह धुन विपाशा की तरह उसे पाशमुक्त करती है, शतद्रु की शत-शत धाराओं की तरह/ हीर और रांझाा की तरह/ वह धुन मन से नहीं निकलती/ वेदना की जिजीविषा की/ आत्मा की वह धुन.’

(आखर अनन्त)

कवि तो संतोष तो यही कि ‘उसने चुराए कुछ अमर बीज/ और छींट दिए कागज पर.’ वह स्वयं बेहतर दुनिया के सपने देखता है और जो भी दुनिया को बेहतर बनाने में लगे हैं, उन्हें नमस्कार करता है. उनकी दृष्टि में शब्द और अर्थ अभिन्न हैं, किन्तु ‘शब्द और अर्थ नहीं है कविता/ सबसे सुन्दर सपना है/ सबसे अच्छे आदमी का.’ स्वप्न के बिना कवि क्या, एक सही अर्थ में आदमी होना भी असम्भव है. कवि स्वप्न-दृष्टा होता है और दुनिया से प्रेम करता है. प्रेम करना और कविता लिखना दोनों साथ-साथ हैं-

जो लिखते हैं कविताएं

और करते हैं प्यार

वो धरती को थोड़ा और चौड़ा करते हैं

थोड़ा और गहरा

थोड़ा और नम! (बेहतर दुनिया के लिए)

‘बेहतर दुनिया के लिए’ विश्वनाथ जी ने समर्पित किया है ‘उसे जो महान है हमसे भी/ जिसके लिए हम मर जाते हैं.’ हक के लिए, आजादी के लिए मरते हुए साथियों को देखकर कवि का विश्वास पुख्ता हुआ है-

कि कुछ है

कुछ है जो महान है हमसे भी

जिसके लिए हम मर जाते हैं

(बेहतर दुनिया के लिए)

विश्वनाथ प्रसाद तिवारी की अधिसंख्य कविताएं मुक्ति-संघर्ष का रूपक हैं. उसमें बचे हुए के, लड़ते हुए जीने और मरने के वृतान्त हैं. वह एक ऐसे व्यक्ति की छवि है, जो सपने देखता है-

सपने आकाश की तरह अनन्त

सपने क्षितिज की तरह अजनबी

सपने बच्चों की तरह मुलायम

सपने परियों की तरह पंख फैलाए

सपने कोहरे में सोए जंगलों की तरह

उगते दिन की तरह सपने. (एक बेहतर दुनिया के लिए)

कवि का मनोजगत शायद ऐसा ही होता है. कविता भी सपना ही है. कवि के भीतर थोड़ी आसक्ति होती है तो थोड़ी अनासक्ति भी, वैराग्य भी, पर विश्वनााि जी लिखते हैं-

मगर मैं वहां नहीं हूं/जहां वे देख रहे हैं मुझे

मैं उस हरे मैदान में हूं/

जहां रंग-बिरंगे बच्चे खेल रहे हैं

मैं उस समुद्र के किनारे हूं/

जहां प्रेमी-प्रेमिकाएं टहल रहे हैं

मैं उसे आकाश के नीचे हूं/

जहां पक्षी उड़ानें भर रहे हैं

बाहर पराजित/भीतर मैं अजेय हूं

(बेहतर दुनिया के लिए)

याद आते हैं ‘गीतांजलि के रवि ठाकुर-

Where the mind is without Çer

And the head is held high;

Where knowledge is free;...

where word come out from the depth of truth...

Into the heaven of freedom, my mother, let my

Country wake

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2770,कहानी,2095,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,820,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1907,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,68,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: आलेख / कवि कर्म की अवधारणा / रेवती रमण शर्मा
आलेख / कवि कर्म की अवधारणा / रेवती रमण शर्मा
https://lh3.googleusercontent.com/-OHo7kNfJflk/WEqIqhk0q3I/AAAAAAAAxcU/X7gL2VHvdcA/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-OHo7kNfJflk/WEqIqhk0q3I/AAAAAAAAxcU/X7gL2VHvdcA/s72-c/image_thumb%25255B1%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2016/12/blog-post_46.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2016/12/blog-post_46.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ