बुधवार, 7 दिसंबर 2016

बाल साहित्य - 'बन्दर बन गया अफसर' तथा 'चींटी लायीं तरबूजा' का लोकार्पण

image

साहित्यकार सम्मान एवं पुस्तक लोकार्पण समारोह सम्पन्न

हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी आलोक पब्लिक स्कूल, पंचवटी कॉलोनी, मथुरा में साहित्यकार सम्मान एवं पुस्तक लोकार्पण समारोह सम्पन्न हुआ। सबसे पहले मुख्य अतिथि डॉ0 अशोक अग्रवाल, बाल रोग विशेषज्ञ एवं सपा प्रत्याशी (मथुरा-वृन्दावन) तथा समारोह अध्यक्ष डॉ0 अनिल गहलौत ने माँ शारदे के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्ज्वलन कर समारोह का शुभारम्भ किया। तत्पश्चात विशिष्ट अतिथि डॉ0 वी0डी0 गौतम, सीनियर मैनेजर, मथुरा रिफाइनरी ने स्व0 आलोक प्रताप सिंह के चित्र पर पुष्प अर्जित कर श्रद्धान्जलि अर्पित की।

कार्यक्रम के प्रथम चरण में तीन साहित्यकारों का सम्मान मुख्य अतिथि, अध्यक्ष एवं अन्य विशिष्ट अतिथियों ने सामूहिक रूप से किया। 'आलोक स्मृति साहित्य भूषण सम्मान' पाने वाले तीन साहित्यकारों के नाम हैं - सर्वश्री ललित कुमार वाजपेयी 'उन्मुक्त',मथुरा, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ0 शेषपाल सिंह 'शेष', आगरा तथा कविवर श्री मोहनलाल गौतम 'मोही', वृन्दावन। इन्हें सम्मान स्वरूप सम्मान पत्र, शॉल तथा स्मृति चिह्न प्रदान किया गया।

द्वितीय चरण में मथुरा के कवि एवं बालसाहित्यकार सन्तोष कुमार सिंह द्वारा रचित बाल साहित्य की दो पुस्तकों का लोकार्पण मुख्य अतिथि डॉ0 अशोक अग्रवाल एवं अन्य अतिथियों के कर कमलों से सम्पन्न हुआ। पहली पुस्तक का नाम 'बन्दर बन गया अफसर' है। इस पुस्तक की समीक्षा डॉ0 रमाशंकर पॉण्डेय ने प्रस्तुत की। दूसरी पुस्तक का नाम 'चींटी लायीं तरबूजा' है। इस पुस्तक की समीक्षा आचार्य नीरज शास्त्री ने पढ़ी।

इस अवसर पर डॉ अशोक अग्रवाल ने कहा - वास्तव में साहित्य अत्यन्त महत्वपूर्ण होता है। जिस देश का साहित्य अच्छा नहीं है वह देश कुछ भी नहीं है। सन्तोष कुमार सिंह बहुत अच्छा साहित्य लिख रहे हैं, यह गर्व की बात है। यह बाल साहित्य लिख रहे हैं और प्रौढ़ साहित्य भी। सच में ही ये बधाई के पात्र हैं। अन्य अतिथियों ने भी सन्तोष कुमार सिंह के साहित्य सृजन पर प्रकाश डाला।

कार्यक्रम के तृतीय चरण में काव्यपाठ हुआ। इस भव्य समारोह में 25 कवि एवं साहित्यकार उपस्थित थे। सभी कवियों ने कविता पाठ करके अपनी कविताओ से उपस्थित श्रोताओं को तालियाँ बजाने पर मजबूर कर दिया। कवियों ने सजल, गजल, गीत, मुक्तक, हास्य-व्यंग्य तथां हाइकु कवितायें सुना कर समां बाँध दिया। कवियों में डॉ0 अनिल गहलौत, डॉ0 रमाशंकर पॉण्डेय, डॉ0 के0 विवेकनिधि, डॉ0 शेशपाल सिंह 'शेष' आगरा, सुश्री रीता शर्मा आगरा, मदनमोहन 'अरविंद', हरिदत्त चतुर्वेदी हरीश, नीरज शास्त्री, डॉ0 दिनेश पाठक शशि, डॉ0 धर्मराज, टीकेन्द्र शाद, अंजीव रावत 'अंजुम',दौसा, रवीन्द्रपाल 'रसिक', अमर अद्वितीय, अनुपम गौतम, आर0के0 भारद्वाज, देवी प्रसाद गौड़, भगवान सिंह, मोहन मोही, ललित कुमार वाजपेयी डॉ0 योगेश निर्भीक तथा सन्तोष कुमार सिंह ने कविता पाठ किया।

सभागार में तेजपाल सिंह सेंगर, ब्रजभूषण वर्मा, डॉ0 महेन्द्र सिंह, दिनेश कुमार, देवेन्द्र कुमार, धर्मवीर सिंह, अग्गा सिंह, सुन्दर सिंह चौहान, सुमन सक्सैना, सुभाष रावत, अरुण दीक्षित, भगवती चतुर्वेदी, नीटू शर्मा, गौरव सारस्वत, कमल हिन्दुस्तानी, सुन्दर सिंह चौहान, सुमित कुमार तथा स्कूल के कई शिक्षक व शिक्षिकायें एवं छात्र श्रोता के रूप में उपस्थित थे। संचालन अनुपम गौतम तथा धन्यवाद ज्ञापन जितेन्द्र सिंह सेंगर ने किया।

 

सन्तोष कुमार सिंह बी 45, मोतीकुंज एक्सटेन्शन, .मथुरा।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------