रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

हाइकु शतक / प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

image

 

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
----------------------------

image

            हाइकु शतक
           ---------------

01.
झूठा दर्पण
झूठ को कर रहा
मौन अर्पण ।
-----0-----
02.
हीरे हैं जड़े
जेवर देख शीशे
चटक पड़े ।
-----0-----
03 .
गम का मांझी
किनारे लगा देता
खुशियाँ सारी ।
-----0-----
04.
हिम लाया है
कोहरे की रजाई
धरा ओढ़ ली ।
-----0-----
05.
उपमानों से
रूठते उपमेय
मनाऊँ कैसे ।
-----0-----
06.
काली है रात
सन्नाटे सुना रहे
मौन दास्तान ।
-----0-----
07.
अज्ञान मेघ
गरज रहे ज्यादा
बरसे कम ।
-----0-----
08.
प्रातः की बेला
सेहरा बांध दूल्हा
रवि निकला ।
-----0-----
09.
आया अकाल
किसान के पेट में
लाया भूचाल ।
-----0-----
10.
स्वार्थ कहानी
अंकित हैं उनमें
दर्प निशानी ।
-----0-----
11.
धर्म धांधली
जादूगरी दिखाये
संसद छड़ी ।
-----0-----
12.
रिश्ते सुमन
रौंद दिए उन्होंने
लुटी महक ।
-----0-----
13.
काँच सा मन
देखता रहा स्वप्न
टूटा वहम ।
-----0-----
14.
खुशी वेदना
पल पल जीवन
आते पहुना ।
-----0-----
15.
नेता के पाँव
पाँच वर्ष के बाद
गाँव में ठाँव ।
-----0-----
16.
एकांत मन
लिख रहा हाइकु
प्रकृति संग ।
-----0-----
17.
महकी यादें
सुमन खिल उठे
आशा पनपी ।
-----0-----

[ads-post]

18.
छिपता कहाँ
बादलों की ओट में
चाँद सा मुख ।
-----0-----
19.
धान की बाली
महकती कूटिया
खुश कृषक ।
-----0-----
20.
प्यार की बात
अमावस के दिन
चाँदनी रात ।
-----0-----
21.
नभ के माथे
बादल का टूकड़ा
काजल टीका ।
-----0-----
22.
नई खबर
अनजाने ठण्ड से
उठी सिहर ।
-----0-----
23.
स्वप्न के वृक्ष
कोंपलाने लगी हैं
फूल पत्तियाँ ।
-----0-----
24.
पीला सूरज
हरियाली बाँटता
प्रसन्न धरा ।
-----0-----
25.
हिम का हाथी
पर पिघला देती
धूप गठरी ।
-----0-----
26.
अंधे के पास
दिवा हो या हो रात
एक ही बात ।
-----0-----
27.
गुलाब खिले
डाली पर उसकी
काँटे नूकीले ।
-----0-----
28.
धँसते जाते
रेतीले समय पे
फैसले पैर ।
-----0-----
29 .
प्यास बुझाये
प्याऊ खोले बादल
मेघ बरसे ।
-----0-----
30.
दुःख हरती
मरहम की पट्टी
वक्त लगाती ।
-----0-----
31.
विनाश काल
टूट गया विश्वास
संशय द्वार ।
-----0-----
32.
आया चुनाव
चूम रहा है गाँव
नेता के पाँव ।
-----0-----
33.
आँखों के मेघ
मोती बरसा रहे
आँसू छलके ।
-----0-----
34.
दिन है दूल्हा
दूल्हन सज रही
चाँदनी रात ।
-----0-----
35.
खाने दिखाने
रखे हैं दोनों दाँत
वाह इंसान ।
-----0-----
36.
दुःख घेरते
भगवान के नाम
याद दिलाते ।
-----0-----
37.
चाँद रो रहा
शरद ओस आँसू
टपका रहा ।
-----0-----
38.
देखे चेहरा
मन देख न पाया
दर्पण झूठा ।
-----0-----
39.
भीतर राज
गहरी खामोशी है
छिपी आवाज ।
-----0-----
40.
लाख मिलाएँ
किनारे से किनारे
कब हैं मिले ?
-----0-----
41 .
मोम पिघला
बत्ती का जल जाना
सह न सका ।
-----0-----
42.
नेता रावण
लोकतंत्र सीता का
करे हरण ।
-----0-----
43.
उर में चूभे
नफरत के कील
भाव रो पड़े।
-----0-----
44.
सफर छोटे
पर पैर सबके
बेड़ियाँ बंधे ।
-----0-----
45.
सच की आग
सख्त झूठा लोहा भी
पिघला आज ।
-----0-----
46.
प्यारे बच्चों को
तारे गिनवा रहा
चाँद शिक्षक ।
-----0-----
47.
भूखी है बिल्ली
मत बाँधो उसके
गले में घण्टी ।
-----0-----
48.
पीर बादल
सदा नैनों में छाये
ऋतु न माने ।
-----0-----
49.
नदी के रेत
सपनों को हमारे
रखे सहेज ।
-----0-----

[ads-post]


50.
महान झूठ
सबने रट लिया
बदला युग ।
-----0-----
51.
कार्तिक भोर
धान की पत्तियों ने
थाम ली ओस ।
-----0-----
52.
बादल प्यारे
प्यासे देख जग को
सच रो पड़े ।
-----0-----
53.
प्रेम के घाव
कोई कुरेदे फिर
उठते टीस ।
-----0-----
54.
हँसी की ओट
छिपा नहीं सकते
गमों के खोट ।
-----0-----
55.
विकट रात
एक दीया बताये
उसे औकात ।
-----0-----
56.
कर लगन
होगा वश में तेरा
चंचल मन ।
-----0-----
57.
दूर बहने
लहरों में समाया
मुझे ही मैंने ।
-----0-----
58.
मौत की आंधी
मिट्टी की इमारत
ढहा ले जाती ।
-----0-----
59.
देखे हमने
विश्वास में जहर
घोले अपने ।
-----0-----
60.
कली बुलाई
भौंरे गुनगुनाये
बहार लाये ।
-----0-----
61.
जग सो जाता
अकेले वो जागता
घाव टीसता ।
-----0-----
62.
गहरे भाव
अविरल प्रवाह
मिली न थाह ।
-----0-----
63.
गाँव का कद
पुराना बरगद
बताता सच ।
-----0-----
64.
रिश्तों की क्यारी
लहराती फसलें
बालि महकी ।
-----0-----
65 .
लोरी के बीज
नींद वृक्ष उगाने
बोतीं माताएँ ।
-----0-----
66.
धरा को सदा
ऊँचा गगन खड़ा
सिर झुकाया ।
-----0-----
67.
फँसे तिनके
आँसू के मौसम थे
रुक न सके ।
-----0-----
68 .
ममता माँ की
आँचल में उसकी
सदा छलकी ।
-----0-----
69.
गाँव-शहर
इंसानियत यहाँ
हुई बेघर ।
-----0-----
70.
दीप जो जला
अज्ञान का अंधेरा
भाग निकला ।
-----0----
71.
दूनिया गोल
जग के लोग पढ़े
यही भूगोल ।
-----0-----
72.
व्यर्थ का अर्थ
ढूँढने में हो जाते
समय नष्ट ।
-----0-----

[ads-post]


73.
ज्ञान का नूरी
अज्ञानता गुरुर
भगाता दूर ।
-----0-----
74.
लिखे नसीब
कौन किसके होंगे
कल करीब ।
-----0-----
75.
नारी पहेली
वो भूल भूलैया की
है पगडण्डी ।
-----0-----
76.
सहज मिली
भाव से परिणति
कल्प से कृति ।
-----0-----
77.
आत्मा की व्याह
परमात्मा के संग
होता निर्वाह ।
-----0-----
78.
लक्ष्य की प्राप्ति
आशाएँ आदमी को
पास खींचती ।
-----0-----
79.
फूल गुलाब
हिफाजत के लिए
काँटों का साथ ।
-----0-----
80.
अश्रु के लिये
नहीं ऋतु अपेक्षा
बहे हमेशा ।
-----0-----
81.
झुका क्षितिज
सोंधी महक पाने
मिट्टी की ओर ।
-----0-----
82.
दूर न होती
दीया तले पलती
ये अंधियारी ।
-----0-----
83.
गहरा पानी
कागजी नाव होती
ये जिंदगानी ।
-----0-----
84.
पत्थर नहीं
आदमी की तरह
होते निर्दय ।
-----0-----
85.
संयम छंद
महके ज्यों संबंध
हुये स्वच्छंद ।
-----0-----
86.
ले आता होली
मस्ती भरे मन में
हँसी ठिठोली ।
-----0-----
87.
बासंती गीत
महकी अमराई
कोयल गाती ।
-----0-----
88.
प्रेम के रंग
भीग जाते सबके
तन व मन ।
-----0-----
89.
हवा ले आती
जीवन में जगाती
मधुर प्रीति ।
-----0-----
90.
आँसू हँसते
नये गीत सुनाते
मुस्कात रोते ।
-----0-----
91.
सनन..सन.
गुनगुनाती हुई
बही पवन ।
-----0-----
92.
आया शरद
मोती बिखर पड़े
रोया है चाँद ।
-----0-----
93.
भाव सहारे
उम्मीद आसमान
छूना आसान ।
-----0-----
94.
खुदा तो देता
रखना था सहेज
गँवाते हम ।
-----0-----
95.
भाव उमड़े
कटे पंख पाखी के
फिर से जुड़े ।
-----0-----
96.
प्रीत की आस
सदा प्रिय उसके
रहता पास ।
-----0-----
97.
साँसों की रस्सी
जीवन के कदम
मापती चली ।
-----0-----
98.
मेघ गरजा
नभ का जल कूप
छलक पड़ा ।
-----0-----
99.
धूप ही धूप
जीवन के पड़ाव
कहीं न छाँव ।
-----0-----
100.
सत्य-असत्य
मर्यादा तोड़ देते
उभय पक्ष ।
----00----
     -- प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
       Mob.n. 7828104111

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget