रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

लघुकथा / बोनसाई / ललिता भाटिया

बोनसाई
निशु के जाते मानो घर में भूचाल आ गया. माता जी यानि के मेरी सास , तिया की दादी ने घर में शोर मचा दिया ॰ असल में निशु टिया के लिए मेडिकल का फ़ार्म ले कर आई थी ॰ मेडिकल का फ़ार्म भरने का अर्थ है टिया की शादी ५ साल के लिए टल जाना, जो माता जी हरगिज़ नहीं चाहती थी. वो तो बस यही चाहती थी कि टिया किसी लोकल कालेज़ से बी ए कर ले. और इसी टाइम में उस की शादी निबटा दे. मुझे तो पति और सास का ग़ुस्सा सहने की आदत है, पर टिया तो कमरा बंद कर के मानो कोप भवन में बैठ गई । रात का खाना भी नहीं खाया । इतिहास स्वयं को दोहरा रहा था । + २ के बाद मैं फैशन डिजाइनिंग करना चाहती थी । हम ने अपनी बेटी को दरजी नहीं बनाना कह कर मेरे अरमानों पर पानी फेर दिया गया था । और बी ए पूरी होने से पहले ही मेरी डोली भेज दी । अगले दिन रविवार होने के कारण सभी घर पर थे । मेरे पति बहार माली से काम करवा रहे थे । मैं चाय लेकर बाहर ही आ गई । ये माली से एक पेड़ बनते पौधे की शाखायें कटवा कर बोनसाई बनवाना चाहते थे । नहीं इसे प्राकृतिक रूप में बढ़ने दो हमें बोनसाई नहीं चाहिए । मेरे तेवर देख ये हैरान रह गए । माली के हाथ की कैंची रुक गई।

[ads-post]

मैं अपनी बेटी को बोनसाई नहीं बनने दूँगी। मैं बड़बड़ाने लगी मेरे मुख पर आई दृढ़ता से सब हैरान थे ।
अब तक टिया और उसकी दादी भी बाहर आ गए ।
टिया अपना फार्म लेकर आओ अभी पाप के साथ बैठ कर भरो । तुम्हें कोई नहीं रोकेगा । मैं तुम्हें बोनसाई नहीं बनने दूँगी ।

Lalita bhatia

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget