रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

बाल सोम गौतम : सादर श्रद्धान्जलि डा. राधेश्याम द्विवेदी ’नवीन’


बाल सोम गौतम(18 जुलाई 1928-20 नवम्बर 2016) का जन्म श्रावण शुक्ला द्वितीया संवत 1985 विक्रमी/18 जुलाई 1928 ई. को उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के सल्टौआ गोपालपुर व्लाक के खुटहन नामक गांव के एक कुलीन परिवार में हुआ था। उनकी ससुराल टिनिच के पास शिवपुर में है और वे वहां भी रहते थे। जीवन के अन्तिम दिनों में टिनिच में रहते हुए उन्होने साहित्य की साधना की है।उन्होने गन्ना विभाग में सुपरवाइजर पद की नौकरी कर बस्ती बहराइच तथा गोण्डा जनपद में काफी भ्रमण तथा कार्य किया है।
उन्होने ’’मौलश्री’’ नामक मासिक पत्रिका का संपादन भी किया है। वे उच्चकोटि के गीतकार थे तथा देश के अनेक ख्यातित कवियों के सानिध्य में रह चुके हैं। नवोदितों को प्रायः मार्ग दर्शन करते रहते थे।
20 नवम्बर 2016 को टिनिच बाजार स्थित सरस्वती सदन में उन्होने जीवन की अंतिम सांसे ली। बस्ती के राज्य मंत्री रामकरन आर्य कृत काव्य संग्रह ‘व्यथा’ के विमोचन के अवसर पर बाल सोम गौतम जी को अंग वस्त्र देककर अभी हाल ही में सम्मनित भी किया जा चुका है। समारोह में माननीय मंत्री जी ने अपने विचार और उदगार व्यक्त किये हैं। छंद सम्राट सतीश आर्य के संचालन में प्रो. माता प्रसाद पाण्डेय, अष्टभुजा शुक्ल, अनुभव प्रकाशन के पराग कौशिक, विनोद श्रीवास्तव, डा. प्रीती कौशिक, जन कवि शोभनाथ, दीन मोहम्मद दीन, डा. रामनरेश सिंह मंजुल, डा. रामनरेश सिंह ‘मंजुल’ सत्येन्द्रनाथ मतवाला, रहमान अली रहमान, लालमणि प्रसाद, के साथ ही अनेक कवियों, विचारकों ने अपनी रचनाओं और समीक्षा से जीवन जगत के महत्वपूर्ण बिन्दु उठाये।सपा नेता चन्द्रभूषण मिश्र के संयोजन में आयोजित कवि सम्मेलन और सम्मान समारोह में जमील अहमद, कपिलदेव सिंह मम्मू, फूलचन्द श्रीवास्तव, राजेश रमन आर्य, देवनाथ, गोविन्द, संजय पाण्डेय, संतराम आर्य के साथ ही अनेक कवि, रचनाकार, विचारक कार्यक्रम में उपस्थित रहे।
बाल सोम गौतम का “तरुमंगल” एक लघु काव्य, जो अभी विगत दिनों प्रकाशित हुआ है, इसमें पर्यावरण से सम्बन्धित अनेक सरल गीतों का संकलन किया गया है। उन्होंने वैसे तो गीतों की बहुत बड़ी सीरीज लिख छोड़ी है। वह अनगिनत कविताओं के सुप्रसिद्ध रचनाकार रहे हैं। हम उनके पावन स्मृति को सादर नमन करते हैं । उनके कुछ की एक-दो पक्तियां नमूना स्वरुप यहां प्रस्तुत करने का प्रयास कर रहा हॅू।–
‘‘ ये शाम और ऐ फूलों का मुरझाना देख उदासी क्यों,
जब तय है होगी सुबह, खिलेंगे फूल हजारों नये-नये ।।’’
‘‘ओ मन्दिर के नभचुम्बी शिखरासीन कलश,
तुम बन्धु नींव के ईटों का सम्मान करो।।’’
“अब ना पपीहे का स्वर अच्छा लगता है।
अब न भीड़ भौरे की अच्छी लगती है।
पकड़ लिया बाजार की जबसे गीतों ने।
गाने से सौ कोस तबीयत भगती है।।’’
“तेरे महलों की चहल पहल, तेरे बैभव की चमक दमक, मेरे खेतों में रोज सुबह भिखमंगिन बनकर आती है।।”
विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget