गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

जीत - बालकथा - आशीष कुमार त्रिवेदी

रोहित कक्षा छह का छात्र था. एक बार उसकी हिंदी की अध्यापिका ने कक्षा के सभी विद्यार्थियों को 'पर्यावरण की सुरक्षा' विषय पर लेख लिख कर लाने को कहा. उन्होंने बताया कि जो लेख सबसे अच्छा होगा वह स्कूल की मैगज़ीन में छपेगा. रोहित अपने सहपाठियों पर रौब झाड़ना चाहता था.
अतः उसने इंटरनेट इस विषय पर मौजूद हिंदी लेख में से एक को कॉपी कर पेस्ट कर लिया. फिर उसका प्रिंट निकाल कर उसे अपनी नोटबुक में नकल करने लगा. उसके पापा को जब यह पता चला तो उन्होंने उसे पास बिठाकर समझाया "यह गलत है. गलत तरीके से मिली सफलता कभी आत्मविश्वास नही देती. जबकी अपनी मेहनत से तुम जैसा भी करोगे वह तुम्हारे आत्मविश्वास को बढ़ाएगा." उन्होंने स्वयं इंटरनेट पर पर्यावरण पर मौजूद सारी जानकारी उसे दिखाई और अपने भी कुछ अनुभव बताए. उसके बाद रोहित को उन जानकारियों के आधार पर स्वयं लेख लिखने को कहा.
अपने पिता की बात मान कर रोहित ने वैसा ही किया. लेख पूरा होने पर उसके मन में अपनी क्षमता के प्रति विश्वास उत्पन्न हुआ. कुछ दिनों बाद जब अध्यापिका ने बताया कि उसका लेख सबसे अच्छा था व मैगज़ीन के लिए चुना गया है तो वह खुशी से उछल पड़ा.

परिचय 
नाम - आशीष कुमार त्रिवेदी

जन्म तिथि - 7-11-1974

शिक्षा - B .COM [1994]

पेशा- प्राइवेट टयूटर

अपने आस पास के वातावरण को देख कर मेरे भीतर जो भाव उठते हैं उन्हें लघु कथाओं एवं लेख के माध्यम से व्यक्त करता हूँ।

C -2072 इंदिरा नगर

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------