सोमवार, 5 दिसंबर 2016

कहानी / व्रत भंग / डॉ. श्रीमती तारा सिंह

नेहा राजपूत की कलाकृति

व्रतभंग

अश्व के पद-शब्द जैसे पाँव से आवाज निकालकर बेटी सालवी का चलना, उसकी माँ, मैनकी को बिल्कुल पसंद नहीं था । वह अपने पति करोड़ी से बार-बार कहती थी, सालवी के बाबू गाँठ बाँध लो --”तुम्हारे लाड़ में यह लड़की,इस कदर बिगड़ गई है देखना ,एक दिन हमदोनों को कहीं का नहीं छोड़ेगी’ । इस बेढ़ंगी को ढ़ंग सिखाओ, क्योंकि मुझे इसका पैर पटक-पटक कर चलना, असह्य हो जा रहा है । तुम पिता होकर, क्यों इसके भविष्य को अनिष्ठ करने पर तुले हुए हो ?

पत्नी की बात सुनकर करोड़ी के गुस्से की अग्निशिखा उसके मुख तक पहुँच गई । उसका मुख-मंडल लाल हो गया; जिसे देखकर मैनकी हतबुद्धि सी खड़ी ताकती रह गई । फ़िर अचानक एक ठंढ़ी साँस खींचकर बोली---- माफ़ करना, सालवी के बाबू ! तुम्हारे अन्याय पूर्ण हठ का मैं सम्मान नहीं कर पा रही हूँ, करूँ भी तो कैसे ? मैं एक माँ जो हूँ , नजर के सामने बेटी के भविष्य को बर्बाद होते नहीं देख पाती हूँ । लड़की तुम्हारे लाड़ –प्यार में खुद को लड़का समझती है । करोड़ी ने पत्नी की बात पर खिसियाकर कहा----- चुप भी करो, दिन भर बक-बक करती रहती हो ; तुम्हारा मुँह नहीं दुखता ।

मैनकी को पति की बात शर सी लगी; वह तिलमिलाकर बोली----- इसी गाँव में सज्जन की बेटी को देखो । तुम्हारी ही बेटी के उम्र की है ; कितनी समझदार , अच्छे भावों से परिपूर्ण , अपना समय और चित्त,हमेशा अपनी माँ के साथ घर के काम-काज में लगाये रखती है न कि इसकी तरह बेढ़ंगी । देखना, जब यह लड़की ससुराल जायगी, सबों से झिड़की सुनेगी, तब तुम इसकी जगह रोने जाना ।

मैनकी और करोड़ी के झगड़े की तरह सालवी भी दिनों-दिन बढ़ती चली गई, उसकी यौवनमयी उषा, उसके गोरे कपोलों पर फ़ैलने लगी । उसकी धवल आँखें गुलाबी होने लगी, अंग-कुसुम से मकरंद छलकने लगा; जिसे देखकर मैनकी ने करोड़ी से कहा---- सालवी के बाबू,अब सोच क्या रहे हो, सालवी जवान हो गई है । अच्छा घर-वर देखकर इसका ब्याह कर दो, अपने घर चली जायगी । हमलोग कब तक पराये धन को अपना समझकर रखे रहेंगे ।

करोड़ी क्रोधित हो बोला------ तुम्हारे कहने का तात्पर्य, मैं उसकी शादी कर दूँ, उसे अपने घर से निकाल दूँ । अरि भाग्यवान ! माता-पिता को अपनी संतान कभी भारी नहीं लगती । ऐसे भी सालवी अभी बच्ची है । दूसरे के घर जाकर वह जी नहीं सकेगी ; थोड़े दिन और ठहर जाओ, फ़िर अच्छे घर-वर भी तो मिलने चाहिये । सिर्फ़ चाहने भर से कुछ नहीं होता ।

तभी मैनकी को चक्रधरपुर के मास्टरजी (जीवत राम ) की याद आई । उसने कहा----चक्रधरपुर वाले मास्टर जी का बेटा, कैसा रहेगा ? 20 बीघा जमीन है, लड़का बी० ए० में पढ़ता है, और सबसे बड़ी बात , मास्टर जी , नेता भी हैं । एक बार बात चलाकर तो देखो, ऐसे सब कुछ भाग्य- भोग है । कहीं बात बन गई, तो सालवी रानी बनकर राज करेगी ।

मैनकी की बात करोड़ी को भा गई ; बोला---- ठीक है , जब तुम्हारा यही विचार है, तो प्रयास कर देखता हूँ ।

इधर सालवी को शादी की जीवन-लालसा, उसके हृदय-आकाश के क्षितिज को रंजित करने लगा था । उसे उछल-कूद , अब अच्छा नहीं लगता था । वह किसी थके पथिक की तरह

चाहती थी कि किसी के बाँहों पर सिर रखकर विश्राम करूँ ।

मैनकी जैसा चाहती थी, सालवी की शादी , मास्टर जी के एकलौते बेटे के साथ बड़े धूम-धाम से हो गई । सालवी ससुराल जाकर बहुत खुश थी ; विशेषकर ज्वाला प्रसाद जैसे गठीले रूपवान पति को पाकर । करोड़ी भी बहुत खुश था, यही तो उसकी अभिलाषा थी कि सालवी खुश रहे ।

लेकिन , सालवी का ससुर बहुत ही कड़े स्वभाव के थे , विशेषकर औरतों के प्रति । मजाल क्या, कि घर की औरतें दरवाजे पर जाकर खड़ी हो जाएँ । उसका कहना था, औरतें घर की लाज होती हैं, इसलिए उन्हें घर में चहारदीवारी के भीतर रहना चाहिये । स्वेच्छाचारिता का भूत स्त्रियों के कोमल हृदय पर बड़ी सुगमता से कब्जा कर लेता है, जिससे औरतों में निर्लज्जता आ जाती है , और मैं ऐसी हरकतों को बर्दाश्त नहीं कर सकता । औरतों को मर्द के वनिस्पत अधिक गर्वणी, दृढ़-हृदय और शिक्षा सम्पन्न होना चाहिये ,लेकिन आत्मिक बल का विनाश न हो । इसका अर्थ यह कदापि नहीं होता कि कोई स्त्री , स्त्री-धर्म ही भूल जाय ।

सालवी भी ससुर द्वारा बनाये संविधान का अक्षर-अक्षर पालन करने के लिए मजबूर थी । किसी से आँख उठाकर बात नहीं करती थी , आँखें अपने आप झपक जाती थीं । फ़ुर्सत मिलने पर सास के साथ बैठकर रामायण पाठ करती थी । एक दिन ससुर के मुँह से सिर्फ़ इतना निकला---- बहू दाल में नमक हिसाब से डाला करो । सुनकर सालवी के हाथ-पाँव काँपने लगे थे, मानो इससे अधिक वेदना उसने अभी तक नहीं पाई हो ।

एक दिन जीवतराम संध्या समय रामयण पढ़ रहे थे । भरत जी , रामचंद्र जी की खोज में निकले थे । वे भरत- विलाप के दृश्य का वर्णन करते-करते इस कदर खुद भरत के किरदार में घुस गये कि वहीं विलख-विलखकर रोने लगे, जिसे छुपकर देख रही सालवी , गाँव वालों की मौजूदगी में , नियम का घड़ा और धर्म का किला तोड़ती हुई खिल-खिलाकर हँस पड़ी । लगा जैसे वर्षों से घड़े में बंद हँसी अचानक फ़ूटकर निकल आई हो । यह देखकर जीवतराम की क्रोधाग्नि भभक उठी । मगर, अपने अपमान और इस प्रकार के कुठाराघात को बड़ी ही उदारता के साथ सहने की कोशिश करने का अभ्यास करते हुए वहाँ बैठे लोगों से बोले---- भाइयो ! अन्य यात्राओं की तरह ,विचारों की यात्रा में भी पड़ाव होते हैं , लेकिन हम सभी इस बात को भूल जाते हैं । इतिहास साक्षी है , हम उस वातावरण में पले हैं , जहाँ स्त्रियों की उँची आवाज को लोग अपशकुन मानते थे । आज वैसी बातें नहीं हैं, और होनी भी नहीं चाहिये । अगर मर्दों को दिल खोलकर हँसने का अधिकार है तो स्त्रियों को क्यों नहीं; जब कि दोनों को जन्म देने वाला ईश्वर एक है । अगर स्त्रियाँ ,अपनी स्वेच्छा से जी नहीं सकतीं, तब केवल सदभावना के आधार पर उनकी दशा नहीं सुधारी जा सकती । अगर कोई स्त्री अपनी स्वेच्छा से अपना स्वार्थ छोड़ दे, तो अपवाद है; मगर शासन और नीति केवल किसी के स्वार्थ को छोड़ने के लिए बनाया जाय, तो यह कायरता है । उपजीवी होना शर्म की बात है, लेकिन अधिकार के साथ जीना ,प्राणी मात्र का धर्म है । यह भी सच है कि रूढ़िवादी किला की दीवार को तोड़ने का अर्थ, अपने चारो तरफ़ शत्रु को जनम देना होता है । मगर जीवतराम को यह सब कहते, लेशमात्र भी याद नहीं रहा कि स्त्रियों के प्रति उनका यह वक्तव्य उनके अब तक के विचारों का कहीं मखौल तो नहीं उड़ा रहा ! मगर वहाँ बैठे हुए लोगों पर बज्राघात सा हो गया ,लोग एक-एककर उठकर चले जाने लगे । किसी ने कहा--- बाबूजी ! अपना भाषण अग्निदेव को अर्पण कर देना ; क्योंकि अब आपके आत्मिक बल का विनाश हो चुका है । आप में स्वार्थग्यान आ गया है ।

जीवतराम आसन से उठ खड़े हो गये, और कठोर दृष्टि से देखकर गंभीर भाव से बोले ---- सज्जनो ! मित्रो ! क्या आप जानते हैं, अति -उदारता वास्तव में सिद्धांत से गिर जाने, आदर्श से च्युत हो जाने का ही दूसरा नाम है । आज मैं ऐसा कहने के लिए विवश हूँ, आप सभी मुझे क्षमा करें । हम बाहर से पूर्व और भीतर से पश्चिम होते जा रहे हैं । हमारा शत आदर्श लुप्त होता जा रहा है, पूर्व की भावना हमारे संचित समय के जड़ों को हिलाने लगी है ।

ससुर जीवतराम की , हर बात को सालवी बड़े ही ध्यान से सुन रही थी । जब सभी लोग चले गये, तब सालबी दौड़कर जीवतराम के पाँव पकड़कर चिपट गई ; बोली-----पिताजी ! मैं सिर्फ़ आपका ही नहीं, पूरे समाज का गुनहगार हूँ : आप जो चाहें, मुझे सजा दें , मगर आप इस कदर उदास न हों ।

यह सुनकर ,मिश्रित पशुता और बर्बरता के कृत्यों से भरा जीवतराम का हृदय पसीज गया । उसने सालवी को उठाकर अपने गले से लगाते हुए कहा-----’ बेटा ! स्मित हास्य की वह छटा है, जो सदैव गंभीरता के नीचे दबी रहती है । मैं जानता था, चेतना पद और अधिकार को भूलकर चहकती फ़िरने वाली मेरी बहू चपल है, तो सतर्क भी कम नहीं है । ईश्वर सबको ऐसी बहू दे ।

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------