रविवार, 31 जुलाई 2016

प्राची - जुलाई 2016 / कबीर और सामाजिक सरोकार / डॉ. शगुन अग्रवाल

शोध आलेख कबीर और सामाजिक सरोकार डॉ. शगुन अग्रवाल क बीर, मध्ययुगीन हिंदी निर्गुण काव्यधारा के प्रवर्तक संत कवि के रूप में प्रख्यात हैं. स...

प्राची - जुलाई 2016 / वृक्षारोपण होने न होने के बीच / दिनेश बैस

यहां वहां की वृक्षारोपण होने न होने के बीच दिनेश बैस 'दि ल हूम-हूम करे' और न जाने क्या-क्या करे. 'आज मदाहोष हुआ जाये रे, मे...

प्राची - जुलाई 2016 / साक्षात्कार - सुभाष चंदर

साक्षात्कार "व्यंग्य बहुत समर्पण मांगता है, यह आसान विधा नहीं है" (सुभाष चंदर से डॉ. भावना शुक्ल की बातचीत के अंश) सुभाष चंदर...

प्राची - जुलाई 2016 / काव्य जगत

  काव्य जगत अभिनव अरूण की दो ग़ज़लें एक इश्क न हो तो ये जहां भी क्या. गुलिस्तां क्या है कहकशां भी क्या. पीर पिछले जनम के आशिक थे , यूं...

प्राची - 2016 / व्यंग्य / एक सड़ी हुई बिल्ली / राधाकृष्ण

व्यंग्य एक सड़ी हुई बिल्ली राधाकृष्ण य हां चारों ओर ईमानदारी, तत्परता और हित-कामनाएं बहुत हैं. पड़ोसियां से भी अच्छे संबंध बनाए जा रहे ह...

प्राची - जुलाई 2016 / एक गधे की वापसी / धारावाहिक हास्य व्यंग्य उपन्यास / कृश्न चंदर

हास्य-व्यंग्य धारावाहिक उपन्यास एक गधे की वापसी कृश्न चन्दर तीसरी किस्तः सम्मिलित होना महालक्ष्मी की रेस में घोड़ों के साथ , और मज...

प्राची - जुलाई 2016 / राधो काका / कहानी / तरुण कु. सोनी तन्वीर

कहानी तरुण कु. सोनी तन्वीर बेटे , उस दिन जब मैं तुम्हारे यहां शहर आया था, तब एक कमजोर बुड्ढा और बेबस बाप बन कर आया था. अपने ही पुत्र से मद...

प्राची - जुलाई 2016 / आशंकाओं के नागपाश / कहानी / कुंवर प्रेमिल

  कहानी डॉ. कुंवर प्रेमिल इस 'तो' के आगे उसका दिमाग घूम गया... उसे होश तब आया जब किसी की नरम -नरम नाजुक अंगुलियां उसके पैर ...

प्राची - जुलाई 2016 / नुटू मोख्तार का सवाल / ताराशंकर बंद्योपाध्याय

  बंगला कहानी अंत में उन्होंने लिखा था - 'आज एक बात कहूंगा, नाराज मत होइयेगा. एक दिन आपने कहा था, लक्ष्मी जी को लोगों के सिर पर पैर र...

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------