रचनाकार.ऑर्ग की विशाल लाइब्रेरी में खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

प्राची - दिसंबर 2016 : कहानी - काली बर्फ / चंद्रकांता ‘विसिन’

साझा करें:

कहानी काली बर्फ चंद्रकांता ‘विसिन’ ह मारी दादी-नानी जब किसी असंभव अनहोनी की संभावना को समूल उखाड़ना चाहतीं, तो एक छोटे से वाक्य का सहारा ...

कहानी

काली बर्फ

चंद्रकांता ‘विसिन’

मारी दादी-नानी जब किसी असंभव अनहोनी की संभावना को समूल उखाड़ना चाहतीं, तो एक छोटे से वाक्य का सहारा लेकर सभी संबंधित आशंकाओं को निरस्त कर देतीं, ‘‘आह! क्रुहुन शीन छा प्योमुत जांह?’’ कभी काली बर्फ भी पड़ी है? यानी कि अगर आकाश से काली बर्फ गिरे, तो इनसानियत को बचाए रखते सारे विश्वास और सभी उम्मीदें अपनी अर्थवत्ता न खो देंगे?

उन्हें विश्वास था कि काली बर्फ कभी नहीं पड़ेगी, क्योंकि उन्होंने कड़ाके की ठंड में भी वादी में सफेद बर्फ के मुलायम फाहे ही गिरते देखे थे. बर्फ भले ही माघ मास में ‘शिशिरगांठों’ और ‘तुलकतुर’ में जमकर बेइंतहा तकलीफें देती, खैर वह तो स्वभाव है बर्फ का, पर काफी? और उसके साथ जुड़े सृष्टि के आतंक? जो उन्होंने नहीं देखा, उसे मानकर वे अच्छी-भली सुकून भरी जिंदगी मुहाल क्यों कर लेतीं?

तब की बात तब, इधर उन विश्वासी बुजुर्गों के कूच करने के बाद, कुछ ही समय पहले, एक दिन यह अनहोनी होकर रह गई. आश्चर्य? जी नहीं, इस बीच वक्त कई आश्चर्यों के दौर से गुजर चुका था.

हुआ यों कि जाड़ों की एक सुबह, सोनमर्ग की पहाड़ियां चढ़ते कुछ पहाड़ी गड़रियों ने रात गिरि बर्फ पर पैर रखा, तो डर और वहम से पत्थर हो गए. आंखें फाड़कर चौतरफा नजरें दौड़ाईं, पहाड़ तो पहाड़, चीड़, देवदार और चिनार की ठूंठ, डालियां भी स्याह बर्फ की परत से ढक गई थीं. जी हां! अनहोनी होकर रह गई थी. काली बर्फ ने पूरी वादी को अपनी चपेट में ले लिया था. प्रलय की संभावना सूंघ लोग बदहवास हो गए, ‘‘हे शंभो, रक्षा कर! या अल्लाह, खैर कर!’’

बाद में विशेषज्ञ आए. प्रयोगशालाओं में बर्फ की जांच हुई. निष्कर्ष निकला- दूषित वातावरण. उधर युद्ध के दौरान, कुवैत में सद्दाम हुसैन ने तेल के कुंओं में आग लगा दी थी. दमघोंट धुआं दूर-दूर तक फैलकर शफ्फाक बर्फ पर भी कालिख पोत गया था. लोग सोचों में अटकलें लगाने लगे. थोड़ी राहत जरूर हुई कि चलो दैवी प्रकोप तो नहीं है.

उसी वादी के किसी गड्ढे में लेटी एक जवान लड़की भी ठंडी बेलौस आंखों से आसमान के खोखे से झरते काले कहर को एकटक देख रही थी. वह सोच की किन गुफाओं से गुजर रही थी? जानना चाहेंगे?

गड्ढा सा था, या कोई गहरी खाई थी शायद! सख्त पहाड़ों के बीच दर्रा सा. नुकीने पत्थरों से लड़की का जिस्म जगह-जगह छिलकर कट गया था. दीनेश्वर की गुफा का गर्भगृह तो नहीं लगता. लड़की गई थी मां के साथ एक बार वहां. श्रावण पूर्णिमा को शिव के दर्शन होते हैं वहां. काकनी ने बेटी को चेताया था, ‘गर्भयात्रा से गुजरना है.’ गुफा के भीतर ऊपर-नीचे दाएं-बाएं नोकदार पत्थरों वाले तंग रास्ते से खुद को सिकोड़कर बचाना पड़ा था. गर्भयात्रा! अंधेरी कोख से छिलते-छिलते प्रकाश में निकल आना. वैसे ही राहत की सांस ली थी उसने. नीचे घुटनों तक बर्फीले पानी की धार तीखी बर्छियां खुभाती जा रही थी. लेकिन यहां तो बर्फीली नदी के सिहराते पानी में आधा शरीर डूबा हुआ है. सुन्न, बेजान, बेहरकत! धुलकर खूब साफ हो गया है. धब्बा भर खून भी नहीं दिखाई पड़ता. खुली आंखों के सामने बादलों की मैली परत के नीचे उदास आसमान मुंह ढांपे सो रहा है. क्या इस पर अब सूरज कभी नहीं उगेगा? प्रलय! शायद प्रलय ही है. पानी, हवा और काला कहर! इतना मैला आसमान कभी देखा हो, लड़की को याद नहीं आता. मस्तिष्क बेजान मांस का लोथड़ा सा है. वह कुछ नहीं सोच पाती. कैसे पहुंची वह इस गहरी खंदक में?

लड़की पर नींद की खुमारी सी छाई है. नींद में ही कुछ चित्र दिखाई पड़ रहे हैं. बेतरतीब रील-दर-रील! एक ऊंचा पहाड़ हरा या नीला. लंबे चीड़ों से ढंका. हरी पोशाक वाले उस पहाड़ के दामन में दूर-दूर तक फैले मक्का के खेत. वह शमा के साथ वहां जा रही है. ढेर सारे भुट्टे तोड़कर लाती है. शमा टोकरी के ऊपर जरा सी लकड़ियां रखकर भुट्टे छिपा देती है. उसे तो बस भुट्टे चाहिए. लेकिन लड़की बावली सी ऊंचे उठते पहाड़ों को देखती रह जाती है. ‘‘क्या होगा वहां? उस जंगल की गहराइयों के बीच?’’

उसने बाबा से एक बार पूछा, तो बेबात डांट खाई- ‘उधर न जाया कर परमी! उस घने जंगल में बाघ रहता है. खा जाएगा कभी.’

बाघ! बाबा डराते. पर डर शब्द तो परमी के शब्दकोश में था ही नहीं. वह उत्सुक हो उठती. क्या वह बाघ देख पाएगी कभी. सचमुच का. जंगल में बेधड़क घूमता हुआ? पिंजरे में बंद बाघ तो उसे जंजीर में बंधा कुत्ता जैसा बेबस लगता है.

[ads-post]

एक शाम उसने शमा से पूछा था- ‘तूने देखा है बाघ कभी?’

‘मैंने? बाघ? नाम न ले परमी! हम तो शाम को न सांप का नाम लेते हैं और न बाघ का.’

‘अच्छा, नहीं लेती नाम. मेरी काकनी भी यही कहती है. अपशकुन होता है. पर तूने कभी जंगल में देखा है उसे? बता तो!’

परमी की उत्सुकता का कोई ओर छोर नहीं. ‘ना बी, मैंने नहीं देखा. देख लेती, तो आज जिंदा होती? वह मुझे चीरकर मेरा खून न पी गया होता!’

‘तू बड़ी डरपोक है.’ परमी हंस देती, ‘मेरा मन करता है, एक दिन रात को खूब सा अलाव जलाकर बैठूं उस जंगल के बीच. बाघ आएगा भी तो, आग के डर से झपटने की हिम्मत नहीं करेगा. कैसा बेचारा लगेगा! बाघ को चिढ़ाने में कितना मजा आएगा!’

‘तू चिढ़ाएगी बाघ को? अह! बाघ न हुआ खरगोश हो गया. दिमाग चल गया है तेरा. अलाव जलाकर जंगल में बैठेगी? तेरे बबा सुनेंगे तो तेरा घर से बाहर निकलना बंद कर देंगे!’

पर बाबा जल्दी ही उसे छोड़कर दूसरी दुनिया के लिए प्रस्थान कर गए. उसका घर से निकलना बंद नहीं हुआ.

लेकिन उसने बाघ देखे थे. उनके लंबे-लंबे नख और तीखे दांत अपने जिस्म में खुभते महसूस किए थे. उसने भी कम नोच-खसोट नहीं की उनकी. पूरा मुंह छील दिया था एक का. उस वक्त उसके भीतर से लावा फूट पड़ा था, नीला-लाल उबलता लावा. जब तक उसके हाथ लटककर बेजान न हो गए और सिर पत्थर से टकराकर बेहोशी न छा गई, उसने अपने सभी हथियारों का इस्तेमाल किया. वह हारना सीखी ही कहां थी? लेकिन वह अकेली थी और बाघ झुंड में आ गए थे. उसे कुछ-कुछ याद आ रहा है, धुंधला सा. वह चक्रेश्वर जाना चाहती थी. मनौती के धागे की गांठ खोलनी थी.

इधर काकनी को वहम हो गया था. वह बार-बार कहती, ‘पता नहीं, कहां मनौती की गांठ खोलना भूल गई! नहीं तो इतना दुःख सहना पड़ता! इतना कोप झेलना पड़ता! पीर, पंडित, बादशाह से लड़कर लाई हूं तुझे. भैरव के थान पर बकरा भी चढ़ाया. मालूम नहीं, कहां क्या गलत हो गया. शायद चक्रेश्वर में मनौती की गांठ खोलना भूल गई.’

मां ने सचमुच परमी को अतलस की तह में लपेट-संजोकर पाला. उसकी हर इच्छा, हर जिद पूरी की. गांव से शहर आकर बस गई. परमी तो पढ़ाई करना चाहती थी. वह डॉक्टर बनना चाहती थी, पर पिता बीच राह छोड़कर गुजर गए. मां ने दिलासा दिया. नर्स की ट्रेनिंग करवाई. डॉक्टर की पढ़ाई के लिए बड़े खर्चे करने की कूवत उसमें न थी, यह तो परमी भी जानती थी.

परमी नर्स बन गई, लेकिन क्या डॉक्टरों से कम इज्जत पाई? मान, प्रसिद्धि और स्पर्श में गजब की राहत! हीलिंग टच! नरेंद्र कहता था, ‘तेरे हाथों में कोई जादू है, परमी! जरा सा छू दे तो जले पर बर्फ का सा सुकूनदेह एहसास होता है.’

सर्जन डॉ. सलमा ऑपरेशन के वक्त उसे हमेशा अपने साथ रखतीं, ‘तुम्हारे बिना मेरा काम चलने वाला नहीं, परमी.’

परमी उसके हाथ रहकर छोटे-मोटे ऑपरेशन करना सीख गई. औरतें बच्चे जनने आतीं, तो उनकी माएं परमी की मनुहार करतीं- ‘हमारी बच्ची के साथ रहना सिस्टर. तुम्हारे हाथ में शफा है. अल्लाहताला की मेहर है तुम पर! बेटी को तुम्हें देख राहत मिलेगी.’

मां बनने के नए नकोर अनुभव से गुजरती बहू-बेटियां जिस्म के कोरेपन की दर्दनाक छीछालेदार से त्रस्त, चीखती, छटपटाती उससे लिपट जातीं. ‘मोज्य हय छख’ कहकर बार-बार उसे मां की जगह देतीं. पहले-पहले उसे अजीब सा लगता. बीसेक साल की कुंआरी परमी, तीस-पैंतीस साल की औरतों की मां. उलझन में कपोल दहक उठते. पर धीरे-धीरे वह अपने पेशे से एकात्म होती गई. अपनी लंबी पतली उंगलियों से दर्द झेलती नवेलियों के पसीने पोंछती. वह सचमुच उनकी मां बनकर उन्हें तसल्ली देती, पीठ, पैर मलती. नन्हें बच्चों के होंठ माओं की कोरी छातियों से छुआती, दूध पिलाने के सही ढंग सिखाती. वह शायद नानी, दादी की जगह पर भी बैठ जाती- इस तरह, ऐसे, बच्चे का सिर थोड़ा ऊंचा, कहीं धसका न लग जाए.

सब ठील चल रहा था. परमी को भी किसी से कोई शिकायत न थी. जल्दी ही नरेंद्र से उसकी शादी भी होने वाली थी, पर इसी बीच हालात बदल गए.

वादी के आसमान पर जो काले बादल काफी दिनों से इकट्ठा हो रहे थे, अचानक कहर बनकर बरस पड़े. किसी ने काले मेघ के छितरे टुकड़ों पर क भी गौर ही नहीं किया. सोचा भी नहीं कि इकट्ठा होकर वे सदियों की मजबूत इमारतों को पलक झपकते तहस-नहस कर देंगे. पर हुआ कुछ वैसा ही. राजाओं के जोड़-घटाव भी गलत साबित हो गए. प्रजा को बाढ़ में बहना ही था. लोगों ने सैलाब में छटपटाकर उबरने की कोशिश की और किनारों की कच्ची-पक्की मेंड़ें, पेड़ों के ठूंठ जकड़ लिये. कुछ बह गए और कुछ उबरे. परमी चाचे-ताये लोगों के हुजूम के पीछे घर-द्वार छोड़कर पहाड़ों के पार, मैदानी इलाकों में आसरा ढूंढ़ने चले गए.

चारों ओर आंधी उठी कि सदियों पहले विश्वास चरमराकर ढह गए. मां, बहन, बेटी महज एक लावारिस औरत रह गई, एक भोग्या! दीन धर्म की आड़ में इंसानियत का खून हो गया. कुछ कठपुतलियों को हथियारों से लैस कर दुश्मन सियासत ने दो भाइयों के बीच दरार डाल दी. मां ने नरमी से कहा, ‘अब यहां से चलो, कहीं देर न हो जाए.’

परमी ने मां के डर को नाक पर बैठी मक्खी सा हटा दिया- ‘कहीं नहीं जाएंगे हम, तू डरा मत कर. सभी हमारे अपने हैं यहां. शमा, अजहर के रहते हम बेघर कैसे हो सकते हैं? फिर हमने किसी का कुछ बिगाड़ा तो नहीं है.’

मां ने दलीलें दीं, ‘लीला, रैना का क्या हुआ, अवतार कौल की रजनी तो कॉलेज से घर लौट रही थी, उसने किसी का क्या बिगाड़ा था? सर्वानंद की बहू जया तो पड़ोस में सब्जी लेने निकती थी, उनका हश्र तुमसे छिपा है! हमारे घर में तो कोई मर्द भी नहीं है.’

लेकिन परमी को विश्वास था खुद पर. परमी एक नर्स है. रात को भी पेशेंट घर आए या बीमार के घर जाना पड़े, तो किसी को निराश नहीं करती. तभी तो दहशत के दिनों में भी वह अकेली नहीं रही. हथियारों की भाषा में बात करनेवालों ने उसे अभयदान दे दिया, ‘हमारे रहते तुम्हें क्या डर आपा? तुम हमारे लड़कों की जान बचाओ, हम तुम्हारी जान बचाएंगे. मजाक है कोई तुम्हें मैली नजर से देखे.’

परमी को आत्मीयता की डोर से बंधे उन गैरों पर भी तो भरोसा था जो पिता के गुजरने पर उसके चाचे और भाई बन गए थे. घर में मर्द की कमी तो उसने महसूस ही नहीं की.

लेकिन मां की आत्मा में डर बैठ गया था, कुंडली मारे. बेटी उसे निकाल न सकी. मां ने बेटी की जिद पर माथा पीटा. इतना हठ? तभी उसे लगा कि कहीं कुछ गलत हुआ है. मनौती की गांठ कहीं अभी भी बंधी पड़ी है. इसी से लड़की चौतरफा के हालात देखकर भी जिद ठाने बैठी है.

परमी मां जैसी सहज विश्वासी नहीं है, पर वह मां के विश्वासों को चुनौती नहीं देती. मां का मन रखने के लिए ही उसने कहा था, ‘कल शमा जाएगी दरगाह, अजहर के साथ. मैं भी उनके साथ चली जाऊंगी. चक्रेश्वर मंदिर में माथा नवाऊंगी. तेरी मनौती की गांठ भी ढूंढूंगी. तू मुझे बता किधर बांधी थी? रंग-रूप जगह सब बता. कुछ याद तो होगा तुझे?’ लेकिन मां आश्वस्त नहीं हुई थी. अस्पताल तक जाना तो मजबूरी थी, पर उससे बाहर जाना तो मौत के मुंह में कदम रखना था. मां के विश्वास भी तो ढह गए थे. जिस दिन नरेंद्र के दरवाजे पर दूसरी बार घर छोड़ने का रुक्का चिपका मिला, उसका धैर्य जवाब दे गया था. उस दिन पहली बार मां ने अजहर के सामने दामन फैलाया, ‘बेटा, तू कुछ कर! कह दे उनसे नरेंद्र को तंग न करें. वह चला जाएगा, तो हमारा क्या होगा? अगले महीने तो परमी की शादी होनी है. नरेंद्र जाएगा, तो सब बिखर जाएगा.’ एक ही आसरा तो बचा था मां के पास.

अजहर ने दिलासा दिया था. सरदार गुल मुहम्मद से बात भी की नरेंद्र के बारे में. गुल मुहम्मद आभारी था परमी का. वह उसके जख्मी जंगजुओं को बिना सवाल पूछे मरहम-पट्टी करती थी. घर पर भी देखा करती थी. अस्पताल में तो सी.आर.पी. और बी.एस.एफ. के जवान शिकार की तलाश में घूमते रहते. परमी लड़कों का पूरा ध्यान रखती, अपने पेशे को उसने सियासत से दूर रखा.

चार-चार मास का भ्रूण लिये कुंआरी लड़कियों को मां की तरह दिलासे देती. उन्हें अपमान की जिल्लत से मुक्त कर देती- ‘इसमें तुम्हारा क्या कसूर, सलमा? समझो एक खौफनाक हादसा होकर गुजर गया. नूरी! रोने से हालात बदल नहीं जाएंगे, हौसला रखो. पाकीजगी तो मन की होती है. वक्त के कहर पर हमारा क्या जोर?’ जया, बीना, लता कितनी मासूम लड़कियों की जिंदगी मौत का स्यापा बन गई, लेकिन परमी साएदार चिनार बनकर उनके दहकते तन-मन को थपकाती रही. उसका काम तो जख्मों पर मरहम लगाना था.

लेकिन दुश्मन कई गुटों में बंट गए थे. अगली बार दूसरे गुट ने नरेंद्र को धमकी दी, ‘जान प्यारी है, तो यहां से चले जाओ और अपनी महबूबा को हमारे लिए छोड़ दो.’ तब नरेंद्र ने परमी और काकनी से भी साथ चलने के लिए मिन्नतें कीं, पर वे लोग जा नहीं पाईं. गुल मुहम्मद के लड़के घर के बाहर पहरा दिए बैठे थे. वे लोग उसे खोना नहीं चाहते थे. परमी ने नरेंद्र का डरा हुआ स्याह चेहरा देखा. उसकी कातर आंखें परमी का कलेजा चीर गईं, पर वह सिर्फ कुछ शब्द ही कह पाई- ‘तुम चिंता मत करना, हम यहां सुरक्षित हैं. सब ठीक हो जाएगा, तुम जल्दी अपने घर लौट आओगे.’

तब से काकनी सभी प्रार्थनाएं भूल गई है. उसके मन में वहम् घर कर गया है कि उसके सभी देवी-देवता सो गए हैं, उन्हें वह कभी जगा नहीं पाएगी. वह बौराई सी बेटी के सायों की रखवाली करती है. चारों ओर कलिश, निकोव, ए.के. 47 के धमाके और बम फटने की आवाजें सुनाई पड़ती हैं. इन सदाओं से उसके कान बहरे हो गए हैं. घर के पेड़ों के पांखी भी इन आवाजों के डर से किसी खोह में छिपे बैठे हैं. घर की ‘काकपट्टी’ पर सुबह का रखा भात शाम तक अकड़ जाता है. कोई कौआ भी उसे खाने नहीं निकलता.

सुन्न होती परमी आकाश में किसी पांखी को ढूंढ़ रही हैं. कोई भी पंछी, कुकिल, पोशनूल न सही, कोई भटकी हुई मैना, कोई थकी-हारी चिड़िया. लेकिन वहां सिर्फ कुहासा है. झर-झर झरता कुहासा. आह! अधमरी काकनी इस कुहासे को देखकर पूरी मर जाएगी. वह तो मानकर चली थी कि काली बर्फ कभी नहीं पड़ती.

उसने बंद आंखों से मां को देखा. घने कुहरे को देखती अंधी हो रही काकनी! लोहे के जंगले पर सिर पटकती, लहूलुहान, किसे ढूंढ़ती है काकनी? तेरे आंगन की चिड़िया तो आसमान के खोखे में समा गई. काली खोह में बंद हो गई. उसने तेरी बात नहीं मानी. तूने कहा था, ‘टैंटों में रहेंगे, पर आबरू तो बचा लेंगे, लेकिन उसे बेघर जीना मंजूर नहीं था. उसे भरोसा था, हालात ठीक हो जाएंगे. फिर सभी तो उसके अपने थे.’

काकनी का स्यापा खत्म नहीं होता. एक-एक कर घर छोड़कर चले जाते नाते-रिश्तेदारों को वह छाती पीट-पीटकर विदा करती है.

‘गए तुम भी? कब देखूंगी तुम्हें, आंखें पथरा जाएंगी, प्राण निकल जाएंगे, इस देह को आग कौन देगा?’

‘आग! आग के लिए इतना स्यापा? मरके भी तुझे देह की सद्गति की चिंता रहेगी काकनी? मरे को तो चील-कौए खाकर तृप्त होंगे! लाशों के लिए क्या चिंता?’

‘तू नहीं जानती परमी! मरी देह का भी एक धर्म होता है. मां शारिका, मेरा धर्म बचाना!’

लेकिन मां शारिका अपना थान छोड़कर चली गई है. देवद्वार सूने पड़े हैं. खीर भवानी के कुंड का रंग काला स्याह हो गया है.

‘तुम किसलिए रुकी हो परमी?’ मां की आंखों में एक ही सवाल ठहर गया है. ‘किसलिए? अब और क्या देखना बाकी है?’

‘सब हमारे अपने हैं मां! देखती नहीं? आए दिन कर्फ्यू में तुझे कभी राशन-सब्जी की तंगी हुई अजहर के रहते? तेरा अपना कोई बेटा होता, तो इससे ज्यादा तेरी चिंता करता?’

‘हुम्म!’ भात का कौर मां के गले में अटकता है. धसका लगा है शायद! सामने सूने घर कपाट बंद किए सहमे-सहमे खड़े हैं. मां नजर हटा लेती है.

धड़ाम...धम्म...ठ...ठ...ठ...क...ठ...ठा...क.

बाहर कोई बम फटा है, गोलियां भी चली हैं. सहमे घर कांप गए हैं.

‘कौन है? परमी, आ रहे हैं वे, उठ मत. खिड़की मत खोल. किसने अंधरे की छाती छलनी कर दी?’ परमी मां को पानी का गिलास थमाती है. हाथ हलके से कांप जाता है, ‘सो जाओ मां, इधर कोई नहीं आएगा. हमने किसी का क्या बिगाड़ा है?’

वह अपने आप से प्रश्न करती है या भीतर उगते भय को प्रश्नों की चुनौती देती है? जानती है, कोई कानून नहीं रहा. जो भी है, बंदूक की नोक पर टिका है, व्यवस्था, कानून, रोजमर्रा के दंद-फंद, सांसों को बरकरार रखने की शर्तें.

बदलते हालात में परमी की ड्यूटी मैटरनिटी वॉर्ड के अलावा आपातकालीन विंग में भी लग गई है. तब से जख्म धोते, मरहम-पट्टियां करते अकसर वह ओवरटाइम करती रही है. गुमराह जवानों के खून और पसीने से विकृत चेहरों को साफ करती कराहती नसों पर शफा का हाथ फेरती. कुछ वैसा ही स्पर्श उसने भी चाहा था. शफा की छुअन, जब खून और मैल से लिथड़ी वह युद्ध क्षेत्र में बिखरी पड़ी थी, थकी-हारी, जहां न कोई आदमी था, न आदमजात. सिर्फ बाघों का झुंड. लहलहाती फसलों को रौंदते जानवर, आखिरी लोभ पर झपटने को आतुर...कैसा लगा होगा लड़की को तब?

क्या पता, लड़की तब अपने शरीर के एहसास से मुक्त हो गई हो और योगमाया से अपने से बाहर आकर खुद को दूर से देखने लगी हो? हारी पर्वत के दामन में दरगाह से कुछ कदम दूर सेबों के पास बदरंग आसमान के नीचे उजाड़ धरती की तरह फैली.

मनौती, मां ने मनौती मांगी थी. राज्ञा के आंगन में, पीर के आस्तान में. परमी ने भी शायद कोई मनौती मांगी हो, पानी के सैलाब में छटपटाते किनारे कोई, खूंटा, कोई कटे पेड़ का ठूंठ, कोई नरकुल शैवाल पकड़ने की कोशिश की हो. किसी खुदा, किसी भगवान को पुकारा हो.

उसने एक चेहरा पहचान लिया था. उस पर झुका एक खूंखार चेहरा. जिसके जख्म साफ करते उसने कहा था, ‘ठीक हो जाओ, तो पीर बाबा को नियाज ले जाना. उसने तुम्हारी जान बख्श दी है.’

हां, शायद हलकी भूरी आंखें, फ्रेंचकट दाढ़ी, नाक के ऊपर किसी ताजा घाव का निशान! परमी ने उस चेहरे की पीड़ा की ऐंठन को अपनी चुन्नी के छोर से सहलाया था. वहीं अफजल! जिसे दूरदर्शन पर लाखों लोगों ने सवालों के जवाब देते सुना था.

‘जिस दुनिया में हम जी रहे हैं, वहां कोई मां नहीं, कोई बाप नहीं. सिर्फ हुकुम की तामील है, वही दीन, वही धर्म है. आंख उठाकर सवाल करने की इजाजत नहीं.’

परमी का धर्म? दोस्त, दुश्मन दोनों को सहारा देना.

वही परमी के राहत देते हाथ मरोड़ रहा था- ‘क्या कहा था तूने? बेदी हैं हम? और क्या कहा था जेबा से? तू किस पुलिस से पकड़वाती हमें? बुला तो, अब अपनी पुलिस को? अपने यार को, हम रचा देंगे तेरी शादी.’

उस दिन अस्पताल एमरजेंसी केसों से अटा पड़ा था.

सोलह साला लड़की का भ्रूण साफ करते उसने नर्स जेबा से गुस्से में भरकर कहा था-

‘बहुत गलत काम कर रहे हैं लड़के. सिर फिर गया है. क्या दीन यही सिखाता है?’

परमी अपने पर काबू नहीं पा सकी थी उस दिन. पहली बार मुंह खोलकर गलत को गलत कहा था.

शमा ने सुना तो परमी को डांटा, ‘तू इतनी सीधी क्यों है, परमी? वक्त पर अब ऐतबार नहीं. जेबा पर तो बिलकुल नहीं. अपनी सलामती की कुछ फिक्र किया कर.’

परमी हंसकर टाल गई. उसने खरी बात कही है. उसे क्या डर? शमा हमेशा से डरपोक लड़की रही है.

‘नहीं परमी, आजकल अजहर बहुत परेशान है. उसके कई दोस्त अलग-अलग गुटों में शािमल हो गए है. वह कब तक बचा रहेगा? उसे कोई बचने देगा भी नहीं.’

‘सब ठीक हो जाएगा’, परमी ने सहेली को तसल्ली दी. उम्मीद, परमी के पेशे ने उम्मीदें देना ही सीखा है. सांस की आखिरी उठान तक. ‘हम लोग दरगाह जाएंगे. मसजिद की चौखट पर माथा नवाएंगे. मैं भी बड़े दिनों से हारी पर्वत नहीं गई- बड़ा मन है.’

उस वक्त नरेंद्र का उदास चेहरा जेहन में कांधा था. कैसा होगा? सुना नगरोटा के पास शिविर में रहता है. बेघर, अकेला. मन तो परमी के पास ही छोड़ गया था. यहीं अपनी पुरखों की माटी के पास.

काकनी ने सहम भरी नजरों से अपनी बेटी को देखा था. अजहर ने जीप स्टार्ट करते वेव किया- ‘फिक्र मत कर काकनी, हम हैं न?’

जीप की रफ्तार में तीखी हवा दम घुटा रही थी. तीखी बर्छियों सी ठंड फिरन के भीतर घुसी जा रही थी. दोनों लड़कियों ने दुपट्टों से सिर कसकर ढक लिए थे. कान, माथा, मुंह सब. सिर्फ आंखों के जोड़े और नाक की नोक दुपट्टे के बीच से झांक रहे थे. शहर खामोश था. जगह-जगह पुलिस और रेत के बोरे.

हारी पर्वत की पहाड़ी पर चक्रेश्वर का मंदिर दूर से दिखाई दे रहा था. मंदिर के शिखर पर फहराता ध्वज, और नीचे दामन में मसजिद की ऊंची उठी नक्काशीदार इमारत! अकबर बादशाह के सर्वधर्म समभाव का अद्भुत नमूना. मंदिर-मसजिद एक साथ. क्या सोचकर बनाया होगा? जब धर्म के नाम पर सिर फुटौव्वलें होंगी, तो सभी अपने-अपने अल्लाह-ईश्वर को एक जगह याद कर अपनी भूलों का प्रायश्चित करेंगे? अकबर बादशाह, आकर देख लो! हालात के मोड़ ने तुझे गलत साबित कर दिया.

अचानक भूचाल का झटका सा लगा. जीप के आगे, बीच रास्ते रायफल-पिस्तौलों से लैस चार युवकों ने अजहर को रोक लिया. अजहर ने किनारों के खेतों से जीप निकालने के लिए स्टेयरिंग मोड़ दी. पर तभी धमाका सा हुआ. जीप घिसटकर एक तरफ रुक गई. शायद उन्होंने टायर पंचर कर दिया था. फिर आसमान से कहर बरस गया. धरती डोलने लगी. किसी ने अजहर के सिर पर रायफल के कुंदे से वार किया. वह चीख मार वहीं जीप के पास ही लुढ़क गया. दोनों लड़कियां, जो आखिरी उम्मीद की तरह उससे चिपट गई थीं, उन्हें खींचकर अलग कर दिया गया.

वे अलग-अलग दिशाओं में घसीटी गईं. एक को दूसरे की खबर नहीं रही. सिर्फ चीखें हवाओं को चीरती गईं.

‘शमा.’’

‘परमी.’’

आर्तध्वनियां कुछ देर हवा में गूंजी, विलीन हो गईं. पता नहीं पुलिस के कानों तक पहुंची कि नहीं.

परमी ने बाघ देखे. एक साथ कई बाघ. शिकार नोंचते. वह लड़ती रही, जब तक कि पंजों और लातों के हथियार भोथरे न हो गए. टूटती हड्डियां और चटखती नसों की दहशत देखती रही. खुद से अलग होकर. तब उसने देखा, चक्रेश्वर मंदिर का पुजारी रस्सों से बंधा पड़ा है और देवी थान से गायब है.

परमी ने धरती को फटते देखा. जहां ठंडे पानी के सोते ने उस पर शफा का हाथ फेरा! आह! हब्बा खातून का ठंडा चश्मा. पाक पवित्र थान! नापाक लहू धुल-पुंछ गया. हवाओं ने माथे का पसीना पोंछ दिया, उसी तरह, जिस तरह वह जख्मियों की पीड़ा पोंछ देती थी. परमी को लगा, किसी ने उसकी अनावृत देह को सफेद चादर से ढककर इज्जत दी. क्या अजहर उस तक पहुंच गया?

अचानक उसे मसजिद की अजान के साथ सूने चक्रेश्वर मंदिर की घंटियां बजती सुनाई पड़ीं. अरे! नरेंद्र वापस घर लौट रहा है? ढेर सारे नाते-रिश्तेदार जवाहर टनल के भीतर से वादी में अपने घरों की तरफ लौट रहे हैं. परमी जानती थी, सब ठीक हो जाएगा.

परमी हवा में रुई के फाहे-सी उड़ने लगी है, हलकी, बेहद!

परमी की आंखों में दीये की आखिरी लौ कांपी. शायद अजहर और शमा को उन्होंने छोड़ दिया हो, दीन का लिहाज करके. आखिर वे लोग दीन के लिए जिहाद कर रहे थे. कम-से-कम जिंदा काकनी को तो कोई अंधी कब्र से बाहर निकाल देगा. लेकिन परमी नहीं जानती थी कि कुछ ही दूर पर मनौतीवाले पत्थर की ओट, शमा भी उसी की तरह लहूलुहान पड़ी है. उसने भी आखिरी चीख से पहले यह उम्मीद की है कि उन्होंने परमी को छोड़ दिया होगा, वह जो उनके जख्मों का इलाज करती थी, उन्हें उसकी जरूरत थी.

लेकिन सभी सोच गलत हो गए थे, क्योंकि काली बर्फ ने सभी उम्मीदों, सभी विश्वासों को काले लबादे से ढक दिया था.

संपर्कः 3020, सेक्टर-23

गुडगाँव-122017

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

---***---

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधाएँ ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|नई रचनाएँ_$type=complex$count=8$page=1$va=0$au=0

|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=blogging$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

|हास्य-व्यंग्य_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=1$au=0

|कथा-कहानी_$type=blogging$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|लघुकथा_$type=complex$count=8$page=1$va=1$au=0$com=0$src=random

|संस्मरण_$type=blogging$au=0$count=7$page=1$va=1$com=0$s=200$src=random

|लोककथा_$type=blogging$au=0$count=5$page=1$com=0$va=1$src=random

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3830,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,335,ईबुक,191,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2766,कहानी,2095,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,485,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,61,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,329,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,49,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,8,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,16,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,236,लघुकथा,818,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,307,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1905,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,644,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,685,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,14,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,54,साहित्यिक गतिविधियाँ,183,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,66,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: प्राची - दिसंबर 2016 : कहानी - काली बर्फ / चंद्रकांता ‘विसिन’
प्राची - दिसंबर 2016 : कहानी - काली बर्फ / चंद्रकांता ‘विसिन’
https://lh3.googleusercontent.com/-STpFKZGODH0/WHnFggxhvLI/AAAAAAAAyKM/_QBuTwCDJkY/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
https://lh3.googleusercontent.com/-STpFKZGODH0/WHnFggxhvLI/AAAAAAAAyKM/_QBuTwCDJkY/s72-c/image_thumb%25255B2%25255D.png?imgmax=800
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/01/2016_97.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/01/2016_97.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय खोजें सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ