सोमवार, 2 जनवरी 2017

सुयश की बदली आदत /बाल कथा / उपासना बेहार

सुयश एक प्यारा लड़का था,रोज स्कूल जाता था और ध्यान लगा कर पढ़ता था लेकिन उसकी एक ही बुरी आदत थी, वह झूठ बहुत बोलता था. इस आदत से उसके माँ-पापा और दोस्त परेशान रहते थे. उसे हमेशा समझाते थे कि इस आदत के कारण किसी दिन तुम बहुत मुसीबत में पड़ जाओगे लेकिन सुयश इस सलाह पर कभी ध्यान नहीं देता था और कहता ‘अभी तक कुछ नहीं हुआ है तो आगे भी नहीं होगा.’

एक दिन सुयश के दोस्त मनु ने कहा “मैं तैराकी सीखने जाता हूं, तुम भी चलो वहाँ बहुत मजा आता है.” सुयश ने आदत के मुताबिक तुरंत झूठ बोला “मनु मुझे तो तैराकी आती है और मैंने तो तैराकी की कई प्रतियोगितायें जीती है.”

कुछ दिनों बाद सुयश नए साल में अपने दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने हलाली डेम गया. डेम में पहले से ही चहल पहल थी, इतवार होने के कारण लोग अपने परिवार के साथ वहाँ आये हुए थे. डेम के चारों तरफ पार्क था जिसमें फिसलपट्टी,सीसा झूला लगे थे. डेम के केयर टेकर ने इन बच्चों को अकेले आते हुए देखा तो कहा “बच्चों तुम लोगों के परिवार से कोई बड़ा व्यक्ति नही आया है.” “नहीं अंकल ”. “तुम लोग पार्क में ही खेलना पानी की तरफ मत जाना, डेम बहुत गहरा है डूबने का खतरा है”. ये चेतावनी देकर केयर टेकर चला गया.

[ads-post]

पार्क में सब ने बहुत मजे किये. सुयश के दोस्त पंकज ने लोगों को पानी के पास जाते देख कर कहा “देखो सभी लोग तो पानी के पास जा रहे हैं, चलो न हम भी चलते हैं.” सभी बच्चे पानी के पास चले गए. वहाँ एक नाव रखी थी, सभी बच्चे उस पर चढ़ कर खेलने लगे. तभी नाव जिस रस्सी से बंधा था वो खुल जाता है और नाव तेजी से पानी की तरफ बहने लगती है. बच्चे घबरा गए और जोर जोर से बचाओ-बचाओ चिल्लाने लगे. तब मनु सुयश से कहता है “तुम तो तैराकी के चैम्पियन हो, जल्दी से तैर कर किनारे जाओ और लोगों से मदद लेकर हमें बचाओ.” तब सुयश घबरा जाता है और उसके आंख से आंसू बहने लगते हैं. वो मनु से कहता है “मुझे माफ़ कर दो दोस्त, मुझे तो तैरना नहीं आता है, उस दिन मैंने तुमसे झूठ बोला था. मैं कान पकड़ता हूँ कि आगे से कभी झूठ नहीं बोलुगां.” तभी नाव डगमगाने लगती है, डर के मारे बच्चे रोने लगते हैं और किनारे पर खड़े लोगों को जोर से आवाज देने लगते हैं.

किनारे पर खड़े लोगों ने बच्चों को चिल्लाते और नाव को डगमगाते देखा, 3-4 लोग तुरंत उन्हें बचाने पानी में कूद पड़ते हैं और नाव की रस्सी को खीचते हुए उसे किनारे ले आते हैं. सभी बच्चे सदमे में होते हैं. तब तक डेम के केयर टेकर भी आ जाते हैं. वो कहते हैं “मैंने तुम लोगों पानी के पास जाने को मना किया था.” बच्चों ने केयर टेकर से माफ़ी मांगी. सुयश को भी झूठ बोलने का सबक मिल गया था.

ई मेल –upasana2006@gmail.com

-------------------------------------------

अपने मनपसंद विषय की और भी ढेरों रचनाएँ पढ़ें -
आलेख / ई-बुक / उपन्यास / कला जगत / कविता  / कहानी / ग़ज़लें / चुटकुले-हास-परिहास / जीवंत प्रसारण / तकनीक / नाटक / पाक कला / पाठकीय / बाल कथा / बाल कलम / लघुकथा  / ललित निबंध / व्यंग्य / संस्मरण / समीक्षा  / साहित्यिक गतिविधियाँ

--

हिंदी में ऑनलाइन वर्ग पहेली यहाँ (लिंक) हल करें. हिंदी में ताज़ा समाचारों के लिए यहाँ (लिंक) जाएँ. हिंदी में तकनीकी जानकारी के लिए यह कड़ी (लिंक) देखें.

-------------------------------------------

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------