रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

शब्द संधान / यम(न) राग / डा. सुरेन्द्र वर्मा

image

भारत के शास्त्रीय संगीत में एक राग है, यमन। यमन का अर्थ है, संयम, निग्रह, नियंत्रण करना। वैसे तो संगीत के किसी भी राग को सीखने के लिए ही बेहद संयमन राग और स्वरनियंत्रण की आवश्यकता होती है, पर हो सकता है राग यमन के लिए स्वरनियंत्रण और संयमन राग की कुछ अधिक ही ज़रूरत होती हो, इसी से राग का नाम यमन पड़ गया हो।

यमन और यमन राग ये दोनों ही समानार्थक हैं। भारतीय दर्शन में योग के आठ अंग (अष्टांग) बताए गए हैं – यम, नियम, धारणा, ध्यान इत्यादि। योग का प्रथम अंग ‘यम’ है; यहाँ भी यमन राग का अर्थ नियंत्रण से ही है- मन वचन ओर कर्म पर नियंत्रण जिसके लिए पञ्च-व्रतों की व्यवस्था की गई है।

[ads-post]

यम का अर्थ केवल नियंत्रण ही नहीं है। भारतीय मानस में यमन राग मृत्यु के देवता भी हैं। इन्हें यमराज भी कहा गया है। यम-चक्र यमराज का शस्त्र है तो यमन द्वारा निर्धारित किए गए कष्ट और दंड क्रमश: यम-यातना और यम-दंड कहलाते हैं। यमन के घर का दरवाज़ा यम-द्वार है। यम-पाश यमराज की जकड़ है। यमन पुरी यम-लोक है। यम-सभा यमराज की कचहरी है। यानी, यमन या यमराज का पूरा एक राज्य है और शासन व्यवस्था है। ऐसा हिन्दुओं का विश्वास है। यम को जीतने वाले यम-जयी कहलाते हैं। मृत्यु के देवता तो यम हैं हीं विष्णु भी यम-कील कहलाते हैं। दुर्गा को यम-स्वसा कहते हैं; यमस्वसा यमुना नदी का भी नाम है। यमुना को यम की बहिन माना गया है। इसीलिए उसे यमानुजा भी कहा गया है

यम का एक अर्थ और भी है। दो की संख्या को यम कहा गया है। यम युग्म है। जुड़वां बच्चे यमल कहलाते हैं। जुड़वां भाई भी हो सकता है और बहन भी हो सकती है। मैं स्वयं जुड़वां हूँ। मेरी एक जुड़वां बहिन है। स्त्री और पुरुष का जोड़ा युगल कहा जाता है। एक में मिली दो चीज़ें, जैसे घाघरा और चोली, यमली है। दोनों तरफ से धार वाली तलवार या कटारी यम-धर या यम-धार कहलाती है। वह स्त्री जिसके जुड़वां बच्चे हों यम-सू कही जाती।

सौर मंडल के एक ग्रह का नाम भी यम है। यह बौन्रे ग्रहों में से एक है। बौने गृहो में सबसे बड़ा ‘एरिस’ है। उसके बाद “यम” आता है। सौरमंडल में यम ग्रह को जब पहली बार ढूँढा गया तो उसे एक पूर्ण गृह मान लिया गया था किन्तु अब इसे सौर-मंडल के बाहरी घेरे की सबसे बड़ी एक वस्तु भर माना गया है क्योंकि इसमें गृह के सभी लक्षणों का अभाव पाया गया। हिन्दू मिथक के अनुसार मृत्यु के बाद आदमी जिस यम-लोक में जाता है क्या वास्तव में हमारे सौर-मंडल में ऐसा कोई यम-गृह है ? इसका कोई प्रमाण तो नहीं ही मिलता।

हम जैसा की ऊपर बता चुके हैं कि भारत के शास्त्रीय संगीत में यमन एक राग का नाम है किन्तु “यमन” एक देश भी तो है। यह अरब प्रायद्वीप दक्षिण- पश्चिम में स्थित, मध्यपूर्व एशिया में है। यहाँ की भाषा अरबी भाषा है। अरबी में इसे अल यमन कहा जाता है। और यहाँ के गणतंत्र को अल जम्हूरियत कहा गया है। यहाँ के लोग भी यमन ही कहलाते हैं। नाम भले यमन हो किन्तु इस यमन का हिन्दी यमन (या,यम) से कोई लेना-देना नहीं है।

डा. सुरेन्द्र वर्मा (मो. ९६२१२२२७७८) १, सर्कुलर रोड १०, एच आई जी

इलाहाबाद २११००१

--

डा. सुरेन्द्र वर्मा (मो. ९६२१२२२७७८) १, सर्कुलर रोड १०, एच आई जी

इलाहाबाद २११००१

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget