गुरुवार, 19 जनवरी 2017

कच्छप गति / कहानी / डा. राधेश्याम द्विवेदी

भारत एक प्रजातंत्र देश है। यहां पर विकास की योजनायें कच्छप गति से चलती हैं। कहा यह भी जाता है कि भारत में सब समान हैं और सबका बराबर का हक है, परन्तु हालात इसके बिल्कुल विपरीत है। यहां कच्छप गति से योजनायें चलती है,जो अपने लक्ष्य तक पहुंचते पहुंचते असरहीन हो जाती है। जहां से यह योजना चलती है वहां यह 100 पैसे की मूल्य की होती है। जब वह आम आदमी तक पहुंचती है तो कुछ पैसे कीमत मूल्य की रह जाती है। यह कहानी इसी लक्ष्य को इंगित करती है।

महामहिम राष्ट्रपतिजी के बेडरूम की खिड़की एक सड़क की ओर खुलती थी। रोजाना हजारों आदमी और वाहन उस सड़क से गुजरते थे। राष्ट्रपतिजी इस बहाने जनता की परेशानी और दुःख-दर्द को निकट से जानने का अवसर पा जाते थे। एक दिन की सुबह राष्ट्रपतिजी ने खिड़की का परदा हटाया। उस दिन भयंकर सर्दी पड़ रही थी। आसमान से रुई के फाहे जैसे वर्फ गिर रहे थे। दूर-दूर तक सफेद वर्फ की चादर फैली हुई थी। अचानक उन्हें दिखा कि बेंच पर एक आदमी बैठा हुआ है। जो हड्डी तोड़ ठंड से सिकुड़ कर गठरी जैसा होता जा रहा था ।

राष्ट्रपतिजी ने पीए को कहा - बेंच पर बैठे उस आदमी के बारे में जानकारी लो और उसकी जरूरत का पता लगाओ।

दो घंटे बाद , पीए ने राष्ट्रपतिजी को बताया - सर, वह एक भिखारी है। उसे ठंड से बचने के लिए एक अदद कंबल की जरूरत है।

राष्ट्रपतिजी ने कहा -ठीक है, उसे एक कंबल दे दो।

अगली दिन की सुबह राष्ट्रपतिजी ने खिड़की से पर्दा फिर हटाया। बाहर का दृश्य देखकर महामहिमजी को घोर हैरानी हुई। कल वाला वही भिखारी अभी भी उसी बेंच पर जमा हुआ था। उसके पास ओढ़ने के कंबल अभी तक नहीं उपलब्ध नहीं कराया जा सका था। राष्ट्रपतिजी गुस्सित हुए और पीए से पूछे - यह क्या है ? उस भिखारी को अभी तक कंबल क्यों नहीं दिया गया ? मैंने तो कल ही बोल दिया था।

पीए ने कहा - महोदय, मैंने आपका आदेश सेक्रेटरी होम के आगे बढ़ा दिया था। मैं अभी देखता हूं कि आदेश का पालन क्यों नहीं हुआ है।

[ads-post]

थोड़ी देर बाद सेक्रेटरी होम राष्ट्रपतिजी के सामने पेश हुए और सफाई देते हुए बोले - सर, हमारे शहर में हजारों भिखारी हैं। अगर एक भिखारी को कंबल दिया गया तो शहर के बाकी भिखारियों को भी देना पड़ेगा और शायद पूरे मुल्क में भी ऐसा करना पड़ेगा। अगर न दिया तो आम आदमी और मीडिया हम पर भेदभाव का इल्जाम लगायेगा।

राष्ट्रपतिजी को गुस्सा आया। वे बोले - तो फिर ऐसा क्या होना चाहिए कि उस जरूरतमंद भिखारी को कंबल मिल जाए ?

सेक्रेटरी होम ने सुझाव दिया -सर, जरूरतमंद तो हर भिखारी है। आपके नाम से एक कंबल ओढ़ाओ, भिखारी बचाओ योजना शुरू की जा सकती है। उसके अंतर्गत मुल्क के सारे भिखारियों को कंबल बांटा जा सकता है।

राष्ट्रपतिजी इस स्कीम से बहुत खुश हुए। वह अपने दैनिक कामों मे लग गये। अगली सुबह राष्ट्रपतिजी ने खिड़की से परदा फिर हटाया तो देखा कि वह भिखारी अभी तक उसी बेंच पर बैठा है। इसे देख राष्ट्रपतिजी आग-बबूला हो गए। उनके आदेश की लगातार अवहेलना जो हो रही थी। उन्होंने सेक्रेटरी होम को तलब किया और कारण पूछा।

सेक्रेटरी होम ने स्पष्टीकरण दिया -सर, भिखारियों की गिनती की जा रही है, ताकि उतने कंबलों की खरीद की जा सके।

राष्ट्रपति दांत पीस कर रह गए। अगले दिन की सुबह राष्ट्रपतिजी को फिर वही भिखारी उसी बेंच पर वहां बैठा दिखा। वह खून का घूंट पीकर रहे गए। सेक्रेटरी होम की फौरन पेशी कराई गई। सेक्रेटरी ने विनम्रता के साथ बताया -सर, ऑडिट ऑब्जेक्शन से बचने के लिए कंबल खरीद का शार्ट-टर्म कोटेशन डाला गया है। आज शाम तक कंबल खरीद हो जायेगी और रात में बांट भी दिए जाएंगे।

राष्ट्रपति ने जोर देकर कहा -यह आखिरी चेतावनी है। अब मैं कोई बहाना सुनना नहीं चाहता।

अगले दिन की सुबह राष्ट्रपतिजी ने खिड़की पर से फिर परदा हटाया तो देखा बेंच के इर्द-गिर्द भीड़ जमा है। राष्ट्रपतिजी ने पीए को भेज कर पता लगवाया। पीए ने लौट कर बताया - सर, कंबल नहीं होने के कारण उस भिखारी की ठंड से मौत हो गयी है।

गुस्से से हुए लाल-पीले राष्ट्रपति ने फौरन से सेक्रेटरी होम को तलब किया। सेक्रेटरी होम ने बड़े अदब से सफाई दी -सर, खरीद की कार्यवाही पूरी हो गई थी। आनन-फानन में हमने सारे कंबल बांट भी दिए। मगर अफसोस कंबल कम पड़ गये।

राष्ट्रपतिजी ने पैर पटके -आखिर क्यों कम पड़े ? मुझे अभी जवाब चाहिये।

सेक्रेटरी होम नजरें झुकाकर बोले- श्रीमान पहले हमने कम्बल अनुसूचित जाति के भिखारियों में बंटवाया उसके बाद अनुसूचित जनजाति के लोगों को दिया। फिर जो बचा वह अल्पसंख्यक लोगों को बंटवाया।

उसके बाद क्या ? राष्ट्रपतिजी ने गुस्से में तेजी आवाज में पूछा।

उसके बाद, सर,ओ बी सी के भिखारियों में कंबल बंटते रहे। आखिर में जब उस भिखारी का नंबर आया तो कंबल खत्म हो गए।

राष्ट्रपति चिंघाड़े -आखिर में ऐसा हुआ क्यों?

सेक्रेटरी होम ने भोलेपन से कहा -सर, इसलिये कि उस भिखारी की जाति ऊँची थी , और वह आरक्षण की श्रेणी में नहीं आता था। इसलिये उस को नहीं दे पाये। और जब उस भिखारी का नम्बर आया तो कम्बल खत्म हो चुका था।

आरक्षण का लाभ उन व्यक्तियों को दिया जा रहा है जिसको उसकी जरुरत नहीं। जिसको जरुरत है उसे नहीं मिल पाता है। यह भारत के लोकतंत्र की योजना व नीति है। ना जाने देश इससे मुक्ति पायेगा या ऐसे ही इसके तले दबता चला जायेगा ?

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------