व्यंग्य / "साइकिल" जो किसी फेरारी, लैंबॉर्गिनी , बुगाटी या रोल्स रायल से कीमती है ! / विवेक रंजन श्रीवास्तव


हमारी संस्कृति में पुत्र की कामना से बड़े बड़े यज्ञ करवाये गये हैं . आहुतियो के धुंए के बीच प्रसन्न होकर अग्नि से यज्ञ देवता प्रगट हुये हैं और उन्होने यजमान को पुत्र प्राप्ति के वरदान दिये . यज्ञ देवता की दी हुई खीर खाकर राजा दशरथ की तीनों रानियां गर्भवती हुईं और भगवान राम जैसे मर्यादा पुरोषत्तम पुत्र हुये जिन्होंने पिता के दिये वचन को निभाने के लिये राज पाट त्याग कर वनवास का रास्ता चुना . आज जब बेटियां भी बेटों से बढ़चढ़ कर निकल रहीं है , पिता बनते ही हर कोई फेसबुक स्टेटस अपडेट करता दीखता है " फीलिंग हैप्पी " साथ में किसी अस्पताल में एक नन्हें बच्चे की माँ के संग तस्वीर लगी होती है . सैफ अली खान जैसे तो तुरत फुरत मिनटों में अपने बेटे का नामकरण भी कर डालते हैं , और हफ्ते भर में ही बीबी को लेकर नया साल मनाने भी निकल पड़ते हैं . अपनी अपनी केपेसिटी के मुताबिक खुशियां मनाई जाती हैं ,  मिठाईयां बांटी जाती हैं . कोई जरूर खोज निकालेगा कि अखिलेश के होने पर सैफई में मुलायम ने कितने किलो मिठाईयाँ बाँटी थी .

ये और बात है कि जहाँ राम के से बेटे के उदाहरण हैं , वहीं अनजाने में ही सही पर अश्वमेघ यज्ञ के घोड़े को बांधकर लव कुश द्वारा पिता की सत्ता को चुनौती देने का प्रसंग भी रामायण में ही मिल जाता है .तो दूसरी ओर गणेश जी द्वारा पिता शिव को द्वार पर ही रोक देने की चुनौती का प्रसंग भी प्रासंगिक है .तो दूसरी ओर हिरणकश्यप जैसे राक्षस के यहाँ प्रहलाद से धार्मिक पुत्र होने और दूसरी ओर धृतराष्ट्र की दुर्योधन के प्रति अंध आसक्ति के उदाहरण हैं .लगभग हर धर्म में परमात्मा को पिता की संज्ञा दी जाती है . पिता के प्रति श्रद्धा भाव को व्यक्त करने के लिये पश्चिमी सभ्यता में फादर्स डे मनाने की परंपरा लोकप्रिय है . व्यवसायिकता और पाश्चात्य अंधानुकरण को आधुनिकता का नाम देने के चलते हम भी अब बड़े गर्व से फादर्स डे मनाते हुये पिता को डिनर पर ले जाते हैं या उनके लिये आन लाइन कोई गिफ्ट भेजकर गर्व महसूस करने लगे हैं .  

[ads-post]


पिता पुत्र के संबंधों को लेकर अनुभव के आधार पर तरह तरह की लोकोक्तियां और कहावतें प्रचलित हैं .मुलायम अखिलेश प्रसंग ने सारी लोकोक्तियों और कहावतों को प्रासंगिक बना दिया है . कहा ये जाता है कि जब पुत्र के पांव पिता के जूते के नाप के हो जायें तो पिता को पुत्र से मित्रवत् व्यवहार करने लगना चाहिये . जब पुत्र पिता से बढ़ चढ़ कर निकल जाता है तो कहा जाता है कि "बाप न मारे मेढ़की, बेटा तीरंदाज़" . यद्यपि बाप से बढ़कर यदि बेटा निकले तो शायद सर्वाधिक खुशी पिता को ही होती है , क्योंकि पिता ही होता है जो सारे कष्ट स्वयं सहकर चुपचाप पुत्र के लिये सारी सुविधा जुटाने में जुटा रहता है . पर यह आम लोगो की बातें हैं . पता नहीं कि अखिलेश और मुलायम दोनों में से तीरंदाज कौन है ?

एक कहावत है "बाढ़े पूत पिता के धरमे , खेती उपजे अपने करमे" अर्थात पिता के लोकव्यवहार के अनुरूप पुत्र को विरासत में सहज ही प्रगति मिल जाती है पर खेती में फसल तभी होती है जब स्वयं मेहनत की जाये . "बाप से बैर, पूत से सगाई" कहावत भी बड़ी प्रासंगिक है एक चाचा इधर और एक उधर दिखते हैं . "बापै पूत पिता पर थोड़ा, बहुत नहीं तो थोड़ा -थोड़ा" कहावत के अनुरूप अखिलेश मुलायम को उन्हीं की राजनैतिक चालों से पटकनी देते दिख रहे हैं . सारे प्रकरण को देखते हुये लगता है कि "बाप बड़ा न भइया, सब से बड़ा रूपइया" सारे नाते रिश्ते बेकार, पैसा और पावर ही आज सब कुछ है . आधुनिक प्रगति की दौड़ में वो सब बैक डेटेड दकियानूसी प्रसंग हो चुके हैं जिनमें पिता को आश्वस्ति देने के लिये भीष्म पितामह की सदा अविवाहित रहने की प्रतिज्ञा , या पुरू द्वारा अपना यौवन पिता ययाति को दे देने की कथा हो .
आधुनिकता में हर ओर नित नये प्रतिमान स्थापित हो रहे हैं , अखिलेश मुलायम भी नये उदाहरण नये समीकरण रच रहे हैं .

समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह "साइकिल" ,किसी फेरारी, लैंबॉर्गिनी , बुगाटी या रोल्स रायल से कीमती बन चुकी है . बड़े बड़े वकील पिता पुत्र की ओर से चुनाव आयोग के सामने अपने अपने दावे प्रति दावे , शपथ पत्रों और साक्ष्यों के अंबार लगा रहा है . अपने अपने स्वार्थों में लिपटे सत्ता लोलुप दोनों धड़ों के साथ दम साधे चुनाव आयोग के फैसले के इंतजार में हैं .


विवेक रंजन श्रीवास्तव
ओ बी ११ , विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर जबलपुर

टिप्पणियाँ

  1. आपकी रचना बहुत सुन्दर है। हम चाहते हैं की आपकी इस पोस्ट को ओर भी लोग पढे । इसलिए आपकी पोस्ट को "पाँच लिंको का आनंद पर लिंक कर रहे है आप भी कल रविवार 15 जनवरी 2017 को ब्लाग पर जरूर पधारे ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.