बुधवार, 25 जनवरी 2017

बाल कविताएँ - शैलेन्‍द्र सरस्‍वती

image

रसगुल्‍ले

 

..................................

गोल-मटोल,उजले-उजले,

पोटली रस की रसगुल्‍ले।

 

रस के सागर में डूबे,

कौन इन्‍हें न देख के झूमे।

 

जन्‍मदिन या उत्‍सव आये,

रसगुल्‍ले जी रंग जमाये।

 

रूठो को तत्‍काल मनाये,

रसगुल्‍ला जो उन्‍हें खिलाये।

 

बन कर मीठे रसगुल्‍ले से,

हम भी जग का दिल जीते।

-----------

[ads-post]

किताबों में सच का मीठा....

 

.................................................

किताबों में ज्ञान-विज्ञान,

भागे जिससे सब अज्ञान।

 

किताबों में परिकथायें,

कल्‍पना की भरे उड़ान।

 

किताबों में है इतिहास,

गर्व अतीत का करवाये।

 

किताबों में हैं कवितायें,

बात जो मन की कह जायें।

 

किताबों से देश-विदेश का,

हम सफ़र कर सकते हैं।

 

किताबों में जंगल-जंगल,

पर्वत-मरूधर हंसते हैं।

 

किताबों में महापुरूषों की,

कितनी अच्‍छी हैं गाथायें।

 

किताबों में सब धर्मों की,

एक सी ही है परिभाषायें।

 

किताबों में सच का मीठा,

सागर बहता जाता है।

 

सच का प्‍यासा शब्‍द-शब्‍द से,

अपनी प्‍यास बुझाता है।

-------

मेला

 

.........................................

दिल्‍ली के बाजार में,

लगा ण्‍क जो मेला।

 

आये उसे सभी देखने,

चोर-पुलिस,गुरू-चेला।

 

बीनू-मीनू ने खाये,

जी भर कर रसगुल्‍ले।

 

लब्‍बू-डब्‍बू बैठ साथ में,

पहिये वाला झूला झूले।

 

ण्‍क खरीदी पायल ने,

नाचने वाली गुडि़या।

 

जिसे देख कर हंस पडी,

बिन दांतों वाली बुढिया।

 

खूब हंसाया जोकर ने,

बंदर हिरो बन नाचा।

 

लगी जो ठोकर बंदरिया को,

उसने जडा तमाचा।

 

बैठ बिल्‍ली की पीठ पे चूहा,

घूमा इधर-उधर।

 

खत्‍म हुआ शाम को मेला,

लौट गये सब अपने घर।

---

पंछी आलस कभी न करते

----------------

 

पंछी आलस कभी न करते,

पौ फटते ही हैं जग जाते।

 

तिनकों के वे घर में अपने,

गाना चहक-चहक कर गाते।

 

उतर के वे फिर डाली-डाली,

अपना आस-पड़ोस जगाते।

 

दिन निकला है जागो भी अब,

सब को यह संदेश सुनाते।

 

निकल के नभ में दूर-दूर वे,

दाना-पानी तलाशने जाते।

 

जो मिल जाये मौज से खा ले,

मेहनत से न हैं कतराते।

 

पंछी आलस कभी न करते,

करे जो आलस वे घबराते।

 

काम-काज अपना पहाड़ सा,

देख-देख फिर हैं पछताते।

 

--------

 

शैलेन्‍द्र सरस्‍वती

नारायणी निवास,मोबाइल टावर के सामने,धरनीधर कॉलोनी,उस्‍ता बारी के बाहर,बीकानेर-334001(राज)

Shailendra5saraswati@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------