रविवार, 15 जनवरी 2017

गोंड चित्रकला : प्रकृति को कैनवास पर उतारने की कला / विवेक रंजन श्रीवास्तव

image

 

रोटी कपड़ा और मकान के साथ यदि कोई प्राथमिकता मानव जाति के लिये है तो वह उसकी कला की , उसके मनोभावों की अभिव्यक्ति ही कही जायेगी . यही कारण है कि आदि मानव ने भी गुफाओं की दीवारों पर चित्रकारी की है , जो आज इतिहासकारों को  उस पुरातन सभ्यता को समझने में मदद करते हैं तथा पर्यटकों के रुचि के केंद्र हैं .

डिंडोरी व मण्डला जिले की   'गोंड' जनजाति भी अति प्राचीन जनजाति है . रामनगर जिला मण्डला के किले के निकट बड़ादेव की पूजा स्थली गोंडों के लिये अति महत्वपूर्ण है . वहाँ एक अखण्ड धूनी जाने कब से प्रज्वलित रखी जाती है , वहीं परिसर में एक सीढ़ी है , जो बीच में सीधे आकाश की ओर उन्मुख  कर रखी गई है , इस पर रात्रि में दीप जलाये जाते हैं . संभवतः यह सीढ़ी स्वर्ग सीढ़ी की अवधारणा का बिम्ब है , या परमात्मा को धरती से जोड़ने का आध्यात्मिक बिम्ब है , यह सामाजिक अध्ययनकर्ताओं की विवेचना का विषय हो सकता है .  

[ads-post]

गोंड जनजाति मध्यप्रदेश के सिवाय छत्तीसगढ़ ,बिहार , झारखण्ड , आदि भूभाग में फैली हुई है . अमरकण्टक के निकट एक गांव है पाटनगढ़ , बैगाचक के इस गांव में इन दिनों अधिकांश  महिलाएं व युवा  विशिष्ट कलाशैली में चित्र कैनवास या हैण्ड मेड पेपर पर पोस्टर पेंट से बना रहे हैं . इन चित्रों की विशेषता यह है कि ये चित्रांकन द्विआयामी हैं ,  हर लोककला शैली की तरह इसमें भी सदा गहराई का तीसरा आयाम लुप्त रहता है, कला के विवेचक इसे  लोक कलाओं के साधारण कलाकारों की सादगी और सरलता का  परिचायक मानते हैं . चित्र में जिस बारीकी और समय का निवेश किया जाता है उसकी तुलना में आकार के अनुरूप पाँच से दस हजार का मूल्य नगण्य है .ये चित्र कला जगत में भारत भवन भोपाल , पहुंच चुके हैं । म प्र पर्यटन विभाग इनके पोस्टर बना कर विक्रय कर रहा है , और ये कुछ गोंड कलाकारों की आजीविका का संसाधन बन चुके हैं , अभिजात्य वर्ग भी इन्हें अब अपने ड्राइंग रूम में लगा रहा है ।

image

ये कलाकृतियाँ  बताती हैं कि  फीके सरल सीधे जीवन को भी कलाकार की कल्पना कितनी रंगीन बना सकती है . मोर , शेर , भालू , हिरण , मगर , मछली जैसे जीव जन्तु , नदी , पहाड़ , खेत , पेड़ ही इनके चित्रों के सीधे सादे विषय होते हैं , जिन्हें ये कलाकार लम्बाई व चौड़ाई के द्विआयामी कैनवास पर बहुरंगी रूप देते हैं .रेखाओं , बिन्दुओं से बनाये गये ये चित्र विशिष्ट छबि बनाते हैं .

image

गोंड परिवार इन चित्रों का उपयोग घर के प्रवेश व आंगन में , दीवारों पर बनाकर परिवार के शादी विवाह , जन्म या अन्य धार्मिक अवसरों पर अपनी खुशी प्रगट करने के लिये करते हैं .दीवारों पर चित्रांकन हेतु ये लोग पिसे हुए चावल के घोल , पीली मिट्टी ,  गेरू और अन्य प्राकृतिक रंगों का उपयोग करते हैं . ये चित्र  इन लोगों  के स्वभाव और रहन सहन का सहज प्रदर्शन  हैं. इनसे गोंड जाति के रहन सहन और स्वभाव का  परिचय मिलता है.

image

 

संपर्क:

ओ बी ११ , विद्युत मण्डल कालोनी , रामपुर जबलपुर

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------