सोमवार, 16 जनवरी 2017

लघु व्यंग्य / चमचा और कुत्ता / शशिकांत सिंह 'शशि'

चमचे ने कुत्ते से कहा-’’ बधाई हो ! तेरे तो भाग्य खुल गये। तेरा नाम कल से शेरू हो जायेगा। ’’

-’’ तो मैं दहाड़ने लगूंगा। मुझे में शिकार करने की ताकत आ जायेगी ? मेरे पंजे नुकीले और मजबूत हो जायेंगे ?’’

कुत्ता खुश हो रहा था। चमचा भी मुदित था।

-’’ सब धीरे-धीरे हो जायेगा। कम से कम नाम तो बदल गया। परिवत्र्तन रोतोरात तो नहीं होते। तू बचपन से ही कुत्ता था,  धीरे-धीरे शेर हो जायेगा।’’

-’’ मुझे क्या करना होगा ?’’

-’’ कुछ नहीं मालिक को देखते ही पूंछ हिलाना। दोनों टांगे हवा में उठाकर उसको सलाम करना। किसी को काटने के लिए हूले-हूले करे तो झपट पड़ना।’’

-’’ चोर को ?’’

[ads-post]

-’’ नहीं रे पागल। मालिक जिसे चोर समझे वह चोर। वे जिसे साधु समझे वह साधु। तुम्हारा काम तो काटना और भौंकना है। बदले में तुझे मस्त भोजन, सोने के लिए रेशमी बोरी, गले में सोने का पट्टा, घुमने के लिए नौकर, तुझे तो नहलाने के लिए भी नौकर होंगे। क्या किस्मत पाई है रे तूने। ’’

कुत्ता धीरे से बोला-’’ मैं पूंछ हिलाना नहीं चाहता। यदि आप कहें तो एक यही काम छोड़ दूं ?’’

-’’ अबे इस एक काम के बदले तो सारी सुविधा मिल रही है। तू यदि चाहता है कि आने वाले दिनों में तू शेर हो जाये , दहाड़े, शिकार करे तो आज ये त्याग करने ही होंगे। ’’

कुत्ता धीरे से कूं कूं करके बोला-’’ तू भी पहले कुत्ता था ?’’

-’’ नहीं मैं तो पहले आदमी

--

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------