रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

हास्य-व्यंग्य / आदमी की पूंछ / राम कृष्ण खुराना

image

जब से मैने सुना है कि कलकत्ता के राम कृष्ण मिशन अस्पताल में एक पूंछ वाले बच्चे ने जन्म लिया है तब से मैं बहुत खुश हूं। हमारे पूर्वजों की भी पूंछ हुआ करती थी। डाक्टरों का कहना है कि जब एक-डेढ महीने का भ्रूण पेट में होता है तो उसकी भी पूंछ होती है। और नौ महीने बीतते-बीतते वह पूंछ समाप्त हो जाती है। परंतु इस बच्चे ने पुराने संस्कार त्यागने से इंकार कर दिया। और पूंछ सहित पैदा हो गया। इस हिसाब से यह बच्चा हमारे पूर्वजों का लघु-संस्करण है। अतः पूज्यनीय है। यह मेरा दुर्भाग्य है कि पूज्यनीय पूर्वज का जन्म कलकत्ता में हुआ। मैं ठहरा एक अदना सा व्यंगकार, इतना किराया खर्च करके उस महान आत्मा के दर्शन का सौभाग्य प्राप्त करने में असमर्थ हूं। अतः यहीं बैठे-बैठे ही मैं उस महापुरुष को साष्टांग प्रणाम करता हूं।

कह्ते हैं कि हमारे पूर्वजों की भी एक प्यारी-सी, छोटी-सी पूंछ हुआ करती थी। परंतु मनुष्य तो जन्म से ही इर्ष्यालु है। जानवरों की लम्बी पून्छ उसे फूटी आंख न भाई। बस, मनुष्य ने भगवान की व्यवस्था के विरुद्ध आन्दोलन छेड़ दिया। नारे लगने लगे। रैलियां निकलने लगीं क्रमिक भूख-हडताल से लेकर आमरण अनशन तक रखे जाने लगे। चारों ओर हाहाकार, लूटमार मच गई। भगवान के (यम) दूतों ने मनुष्य को बहुत समझाया। परंतु मर्ज बढ़ता गया ज्यों-ज्यों दवा की। मनुष्यों की मांग थी कि हमारी पूंछ को बडा करो। कुछ लोगों ने तो जानवरों की पूंछ को विदेशी नागरिकों की संज्ञा दी और उसे काटने की मांग करने लगे। भगवान भी परेशान। लोग भूख ह्डताल व यमदूतों के गदा प्रहारों से धडाधड़ मरने लगे। न नर्क में जगह बची न स्वर्ग में। गुस्से से भरकर भगवान ने नर्क व स्वर्ग की तालाबन्दी कर दी। और आदमी की पूंछ जड़ से ही काट कर आदमी को जमीन पर धक्का दे दिया। तब से मनुष्य पूंछ के बिना लुटा-लुटा सा घूम रहा है।

[ads-post]

यदि मैं यहां पूंछ के गुणों का बखान करने लगूं तो एक महाकाव्य ही तैयार हो जाय। आपको याद होगा कि एक बार जब श्री राम चन्द्र जी की धर्मपत्नि “ श्रीमति राम “ का विपक्षी दल के नेता रावण ने अपहरण कर लिया था तो उस समय हनुमान जी ने अपनी पूंछ से ही सारी लंका जला दी थी। सांप भी मर गया और लाठी भी बच गई। आज मैं सोचता हूं कि अगर हनुमान जी की पूंछ न होती तो श्रीमति राम का क्या होता ?

जिस प्रकार से मनुष्यों में इज्जत की निशानी मूंछ होती है उसी प्रकार से जानवर भी अपनी पूंछ की बेईज्जती बर्दाश्त नहीं कर सकते। एक सिर फिरे आदमी ने एक कुत्ते की घनी व लच्छेदार टेढी पूंछ को सीधा करने का प्रयास किया था। कहते हैं कि 12 साल बाद भी कुत्ते ने अपने जाति-स्वभाव को नहीं छोड़ा। और उसकी पूंछ टेढ़ी ही रही।

जब मेरी मूंछें फूटनी शुरु ही हुई थी तो मेरे दिल में मूंछ पर एक कविता लिखने की सनक सवार हो गई। उस कविता में मूंछ की तुक पूंछ से भिडाते समय मेरे दिल में अचानक यह ख्याल आया कि आदमी की पूंछ क्यों नहीं होती ? मैंने अपनी पीठ पर रीढ की हड्डी के नीचले सिरे तक हाथ फिरा कर देखा और पून्छ को नदारद पाकर मुझे बहुत दुख हुआ। बस मैं कागज़ कलम वहीं पर पटक कर दौडा-दौडा अपने पिता जी के पास गया और उन से आदमी की पूंछ न होने की शिकायत की। पिता जी ने दूसरे ही दिन मेरी शादी कर दी। यानि बाकायदा मेरी पूंछ मेरे पीछे चिपक गई। अब यह पूंछ इतनी लम्बी हो गई है कि मेरा अस्तित्व ही समाप्त हो गया है। और घर में केवल पूंछ ही पूंछ दिखाई देती है। अब मैं इस बढी हूई पूंछ से इतना परेशान हूं कि इसको काटने के तरह-तरह के उपाय सोचता रहता हूं परंतु यह बढ़ती ही जाती है। सोचता हूं बिना पूंछ के ही ठीक था।

राम कृष्ण खुराना
99889 27450
#Ram_Krishna_Khurana

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget