370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

शब्द संधान / एक था राजा / डॉ. सुरेन्द्र वर्मा

image

एक था राजा। राजा का अपना एक ‘राज’ था। उसपर वह ‘राज’ करता था। उसकी पुत्री ‘राज-कन्या’ थी। वह ‘राज-कुमारी’ कहलाती थी। उसका पुत्र ‘राज-कुंवर’ था। वह ‘राज-कुमार’ कहलाता था। उसकी पत्नी ‘राज-महिषी’ थी; और उसकी माता ‘राज-माता’ हुआ करती थी। राजा को ‘राज-काज’ चलाने के लिए ‘राजस्व’ की आवश्यकता होती थी। वह अपने राज में अपनी प्रजा पर ‘कर’ लगाता था और इस ‘राज-कर’ से ही उसे राजस्व प्राप्त होता था जो ‘राज-कोष’ में जमा हुआ करता था। राजा अपने ‘राज-प्रासाद’ में करता था जो ‘राज-महल’ या ‘राजभवन’ भी कहलाता था। राजा का बाकायदा ‘राज्याभिषेक’ किया जाता था; ‘राज-तिलक’ होता था। उसके बाद ही वह ‘राज-गद्दी’ हासिल कर पाता था और ‘राज-सिंहासन’ पर बैठने का हकदार हो पाता था। राज करने के लिए वह अपनी एक ‘राज-प्रणाली’ या कहें, ‘राजतंत्र’, विकसित करता था। वह ‘राजाज्ञाएं’ प्रसारित करता था और जो लोग उसकी राजाज्ञाओं को नहीं मानते थे, वे ‘राज-दंड’ के अधिकारी होते थे। राजा के राज में राज-काज के लिए एक भाषा होती थी जिसे ‘राज-भाषा’ कहा जाता था। लेनदेन और व्यापार के लिए एक मुद्रा होती थी जिसपर उसकी ‘राजमुहर’ रहती थी। राजा ‘राज-विद्या’ और ‘राजनीति’ में दक्ष माना जाता था। यह विद्या उसे बहुत-कुछ विरासत में अपने ‘राज-कुल’ और ‘राजवंश’ से मिलती थी। राजा ‘राजसी’ ठाठ से रहता था। उसका एक ‘राज-दरबार’ हुआ करता था जिसमें अपने अपने क्षेत्र के कुछ दक्ष चाटुकार उसके सलाहकार होते थे। राजा की सवारी ‘राज-रथ’ पर निकलती थी। राजा के राज्य के चारों ओर जो अन्य राज हुआ करते थे वे उसके राज के ‘राज-मंडल’ हुआ करते थे। वह इस ‘राज-मंडल’ को अपने अधिकार में लेने के लिए राजा ‘राज-सूय’ यज्ञ कराता था ताकि वह राजा से सम्राट होने का अधिकार प्राप्त कर सके।

[ads-post]

आज प्रजातंत्र के ज़माने में न तो कोई राजा रहा न ही उनका राज रहा है। अब केवल ‘राज कथाएँ’ रह गईं हैं। ‘राज-चिह्न’ शेष बचे हैं। लेकिन व्यंजनात्मक रूप से ‘राज-रोग’ से लोग अभी भी पीड़ित हैं। ‘राज-पुरुष’ आज भी हैं। राज भवन आज भी हैं। ‘राज-सभाएं’ भी हैं। राज कोष और राज-कर भी है। ‘राज-द्रोह’ आज भी होते हैं। मंत्री, प्रधान मंत्री आदि, आज भी अपना कथित ‘राज-धर्म’ निभाने का दंभ भरते हैं। क्षेत्र भले बदल गए हों पर कुछ ख़ास प्रकार के लोगों को “राज- संरक्षण’ आज भी प्राप्त है। ‘राज सेवाएं’ बरकरार हैं। उपाधियाँ और राज-पुरस्कार भी यथावत मिल रहे हैं। देश और हर प्रदेश की अलग अलग ‘राजधानियां’ हैं। बस राजा नहीं है। राजा का स्थान बहुत-कुछ प्रधान-मंत्री और मुख्य-मंत्रियों ने ले लिया है।

‘राज’ शब्द ने अपनी प्रतिष्ठा बनाए रखी है। हिन्दी भाषा में उसका समासगत रूप बाकायदा कायम है। कुछ शारीरिक रोग वास्तव में ‘राज-रोग’ ही कहलाते हैं, जैसे टी बी। स्वादिष्ट फलों वाला कदंब का पेड़ ‘राज-कदम्ब’ है। अमलतास को ‘राजद्रुम’ कहा गया है। परवल की बेल को ‘राज-कूलक’ कहते हैं। बड़ा बेर ‘राजकोल’ कहलाता है। तरोई या निनुआ को ‘राजकोशातकी’ कहते हैं। तरबूज को ‘राजतिमिश’ कहा गया है। बड़े जामुन और पिंड- खजूर को ‘राजजम्बू’ भी कहते हैं। भले ही ये सारे नाम बहुत प्रचलित न हों, पर संस्कृत / हिन्दी भाषा में ये विद्यमान हैं।

आम ‘राजफल’ है। ‘राजभोग’ एक मिठाई का नाम है। सामान्यत: हम सबके साधारण कान होते हैं लेकिन हाथी की सूंड ‘राज-कर्ण’ है। ‘राजगवी’ गाय की जाति का एक पशु है। एक प्रकार के बड़े गिद्ध ‘राज- गिद्ध’ कहलाते है। हंसों में ‘राजहंस’ है। मगध का एक पर्वत ‘राजगिरी’ है। चन्द्रमा की कलाओं में एक कला ‘राज-कला’ भी है। संगीत में ताल के आठ भेदों में से एक ‘राजचूड़ामणि’ है। शहर की बड़ी सड़क ‘राजपथ’ कहलाती है। राजस्थान ‘राजपूताना’ है। ‘राजर्षि’ और ‘राजमुनि’ भी हैं। रजोगुण से उत्पन्न गुण ‘राजसिक” कहा गया है।

माताएं अपने लाढलों को “राजा” कहती हैं। पत्नी के लिए भी उसका पति ‘राजा’ और वह खुद ‘रानी’ है। कई व्यक्तियों का नाम भी राजा/ रानी होता है। राजा शब्द में ही बड़ा आकर्षण हैं। अब राजा नहीं हैं पर राजा अमर है।

--------

*डा. सुरेन्द्र वर्मा मो. ९६२१२२२७७८ १०, एच आई जी / १, सर्कुलर रोड इलाहाबाद -२११००१

आलेख 7675209210335741011

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव