रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

मूर्ख परंपरा और समर्पित मूर्ख /

 अमित शर्मा                  

मैं बचपन से मूर्ख रहा हूँ पर कभी इस पर गर्व नहीं किया, करता भी क्यों आखिर, गर्व मनुष्य द्वारा स्वअर्जित चीज़ों पर किया जाना चाहिए, प्रकृति प्रदत्त वस्तुओं पर कैसा गुमान, वो तो आपके पूर्व जन्म में किये गए कर्मों का ही फल होता है, जो कभी बासी नहीं होता है। प्रकृति के इस “फल” को सहेज कर ग्लोबल वार्मिंग के युग में बिना किसी बल के “सेव-नेचर” अभियान में आप अपना योगदान दे सकते हैं।

मूर्ख होने का सबसे बड़ा फायदा ये है की विद्वता की तरह, अपनी मूर्खता मनवाने के लिए आपको ज्यादा प्रयास नहीं करने पड़ते हैं। लोग खुद ही आकर आपको बता देते हैं । विद्वता साबित करने के लिए आपको बार बार मेहनत करनी पड़ती है,फिर भी शक्कीनुमा लोग संतुष्ट नहीं होते हैं और आपकी विद्वता को संदेह की दृष्टि से देखते रहते हैं। मूर्खता को ऐसे किसी भी खतरे से जेड श्रेणी की सुरक्षा प्राप्त होती है। बस एक बार आप मूर्ख साबित हो जाये तो लोग खुद ही बिना किसी कमीशन के , सामाजिक मिशन के तहत, इसके प्रचार की एजेंसी ले लेते हैं और जीवन भर कभी आपके मूर्खतारूपी धन पर संदेह का छापा नहीं डालते हैं। कहने का तात्पर्य है कि मूर्खता की ब्रांडिंग सरल है।

विद्वता का निवास केवल दिमाग में होता है जबकि मूर्खता के साथ ऐसा कोई संकट नहीं है, उसका स्वभाव लचीला होता है वो कही भी गुजर-बसर कर लेती है, दिल में, दिमाग में , और जब मूर्खताओं का सीजन आता है तो चेहरे से भी टपकने लगती है जिसका सबसे बड़ा लाभ ये होता है कि लोग आपके संपर्क आये बिना, आपका फ़ोटो देखकर ही आपका परिचय जान लेते हैं। मूर्खता की एक विशेषता होती है कि इसे सीमाओं में नहीं बांधा जा सकता है, मूर्खता अपने प्रवाह में सारी इंसानी अनुमानों को बहा ले जा सकती जबकि बुद्धिमत्ता इस मामले में पंगु ही साबित होती है, उसका कार्यक्षेत्र सीमित होता है।

इंसान कितना भी प्रतिभावान क्यों ना हो अपने जन्म जात गुणों को लेकर थोड़ा “पजेसिव” और “इनसिक्योर” हो ही जाता है इसलिए मुझे लगता था कि अगर किसी को मुझसे मिलकर, बात करके और मुझे देखकर भी अगर मेरी मूर्खता का भान न हुआ तो मैं किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहूँगा इसलिए मैं इस लेख के ज़रिये अपनी मूर्खता की सार्वजनिक मुनादी कर रहा हूँ क्योंकि आज के प्रतियोगी युग में मूर्ख होने के साथ-साथ मूर्ख लगना भी आवश्यक है।

मूर्खता के बाकी फायदों के इतर सबसे बड़ा फायदा ये है कि आप मूर्ख होने की वजह से “अपेक्षाओं” को जन्म नहीं देते हैं और इस तरह से आप प्रसव पीड़ा से तो बचते ही हैं साथ ही अपेक्षाएं पूरी ना कर पाने की ग्लानि से भी पार पा लेते हैं। मूर्खता की चादर ओढ़ कर आप अपने आपको मेहनत की सर्द ठंडी हवाओं से बचा सकते हैं और समाज से नजरें चुराकर ,आराम से “येड़ा बनकर पेड़ा” खा सकते हैं।

दुनिया में दो तरह के मूर्ख होते हैं। एक होते है,मेरी तरह जन्म-जात मूर्ख और दूसरे जो बनाये जाते हैं। जन्म-जात मूर्ख होने के नाते, मैं दूसरे प्रकार के मूर्खों को कमतर आँकता हूँ क्योंकि ये मूर्ख अस्थायी प्रकृति के होते हैं, इनकी मूर्ख बने रहने की अवधि बहुत कम होती है, जन्म-जात मूर्खों की तुलना में इनमें “मैन्यूफैक्टरिंग डिफेक्ट” ज्यादा  होते हैं, और तो और मूर्ख बनने के बाद भी ये अपनी मूर्खता को “own” करने में शर्मिंदगी महसूस करते हैं। ऐसे ही धूर्त और चालक मूर्खों की वजह से ही, मूर्खता की महान परंपरा कलंकित होती है, उस पर लांछन लगता है। बस इन्हीं नकली मूर्खों की वजह से मैं भयभीत हो जाता हूँ, असुरक्षा की भावना “यू आर अंडर अरेस्ट” कहके मुझे घेर लेती है, मुझे कभी कभी लगता है कि  मैं अपने सर पर एक तख्ती टांग कर, उस पर  “नक्कालों से सावधान, हमारी कोई शाखा नहीं है” लिखवा कर अपनी मूर्खता का जीवन बीमा करवा लूं।

लेकिन मेरे जैसे,पहले प्रकार के जन्म-जात मूर्ख इतने बड़े देश के लिये मूर्खता का कोटा पूरा नहीं कर सकते हैं इसलिए दूसरे प्रकार के मूर्खों का भी अपना व्यापक महत्त्व है। अपने देश में हर पाँच साल बाद बड़े तौर पर “मूर्खिकरण अभियान” चलाया जाता है जिसे चुनाव की संज्ञा दी जाती है। जनता चुनाव के समय वोट डालते वक्त अपने आप को बहुत समझदार मानकर वोट डालती है लेकिन उसे पता ही नहीं चलता कि वोट डालकर उसने अगले पाँच साल के लिए अपनी मूर्खता का नवीनीकरण कर लिया है।

मूर्खता की भूख, पेट की भूख से भी बड़ी होती है इसलिए मूर्खता अपनी क्षुधा मिटाने के लिए नए नए साधन तलाशती है। कभी वो टीवी विज्ञापनों की तरफ आशाभरी नज़रों से देखती है , तो कभी बाबाओं की शरण में जाती है तो कभी “चेहरा देखो-इनाम जीतो” का नंबर मिलाती है।

हमारे देश में मूर्खता का व्यवहार और व्यापार,बहुत व्यापक है, नोटबंदी या और किसी भी प्रकार की बंदी,इसमें मंदी नहीं ला सकती है। मूर्खता के लिए केवल एक दिन समर्पित करना ,हम जैसे समर्पित मूर्खों के साथ बड़ा अन्याय होगा जो सतत और नित्य मूर्खता का उत्पादन कर “मूर्ख परंपरा” को  “धरोहर” के रूप में जीवित रखे हुए है।

विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

dr alka

murkh parampara bahut hi satik vyang hai jise pad kar apane aap ko hasr bina roka nahi ja saka . vastav me vyang likhana 1 kala hai is vidha ka upyog aapne johari ki tarah bahut hi sundar shabd rupi moti vidvata ke samandar ki gaharaio se manthan se kiya hai dr alka agrawal

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget