आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

शब्द संघात / गोल गोला गोली / डा. सुरेन्द्र वर्मा

   गोल एक ऐसा शब्द है जो आपको भारत में बोली जाने वाली हर भाषा में किसी न किसी अर्थ में मिल जाएगा | हिन्दी/हिन्दुस्तानी भाषा में तो ‘गोल’ है ही, उर्दू /फारसी में ‘ग़ोल’ है, और अंग्रेज़ी में गोल के ही उच्चारण का goal  है | तीनों के अर्थ अलग अलग हैं | लेकिन इन तीनों को ही हिन्दी ने बखूबी अपना लिया है |

   हिन्दी का ‘गोल’ मूलत: संस्कृत से आया है जिसका अर्थ मंडल या वृत्त से है | धरती गोल है, आकाश मंडल है क्योंकि वह गोल है |  गेंद गोलाकार या गोल होती है | बच्चे कंचों से खेलते हैं, वे भी गोल होते हैं | गोल कोई भी एक गोलाकार पिंड है |

   गोल ने अपनी धाक जीवन के कई क्षेत्रों में जमा ली है | ज्योतिष का एक योग ‘गोल-योग’ होता है | जब एक ही राशि में ६ या ७ ग्रह इकट्ठे हो जाते हैं तो गोल-योग बनता है | यह मानो ग्रहों का “गोल-बंद”  हो जाना है | गोल-बंदी किसी एक उद्देश्य की प्राप्ति के लिए इकट्ठा होना ही तो होता है |    

   खाने पीने के मामलों में भी ‘गोल-गप्पों’  का कोई मुकाबला नहीं है | लोग मसाले का पानी भरकर इन्हें चटकारे लेकर खाते हैं | और रोटी,  जो हमारे भोजन की मुख्य खाद्य- पदार्थ है, भी तो गोल ही होती है | हम खाने में गिरी का इस्तेमाल भी करते हैं, गिरी का भी ‘गोला’ होता है | पानी रखने का घडा गोल होता है, लोटा भी गोल होता है | लुढ़के नहीं इसलिए लोटे में पेंदी लगा दी जाती है, अन्यथा गोल होने से उसका लुढ़कना लाज़मी है; सिक्के अमूमन गोल होते हैं | वे इधर-उधर लुढ़कते न फिरें अत: उन्हें रखने का एक पात्र ‘गुल्लक’  या ‘गोलक’  भी है |    

    इमारतों में गोल गुम्बद लगाए जाते हैं | बीजापुर के सुलतान मुहम्मद आदिल शाह का मकबरा अपने आकर्षक गुम्बद की वजह से “गोल-गुम्बद” ही कहलाता है |   

   खेल में भी ‘गोल’ ने अपना सिक्का जमा रखा है | बच्चे गुब्बारों से खेलते हैं, और गुब्बारे गोल होते हैं | क्या पता गोल होने से ही उन्हें “गुब्बारा” कहा गया हो |‘गोला-बांधकर’ अन्य अनेक खेल भी खेले जाते हैं | ’मुज़िकल चेअर’ या ‘कोड़ामार जमाल साही’ ऐसे ही खेल हैं | कई खेल गोला-बाँध कर ही नहीं गोलियों और गोलों से भी खेले जाते हैं | शायद ही कोई बच्चा हो जिसने बचपन में ‘कंचे’ न खेले हों | गोला फ़ेंक की तो स्पर्धाएं होती हैं |

   कंचे कांच की खेलने की गोलियां हैं, पर दवा की भी गोलियां (वटी) होतीं हैं | भांग की गोलियां होती हैं, जिन्हें नशे और आनंद के लिए खाया जाता है | ईश्वर न करे किसी को बंदूक़ की ‘गोली’ लग जाए | लेकिन ‘गोली-काण्ड’ होते ही रहते हैं | गोली खाना, गोली चलना, गोली मारना आदि मुहावरे बंदूक की गोली के सन्दर्भ में ही हैं |

   ‘गोल’ से संयुक्त हिन्दी में अनेक मुहावरे चल निकले हैं | किसी वस्तु को ‘गोल कर देना’ उसे गायब कर देना है | ‘गोल-माल’ करना गड़बड़ करना है, घपला करना है | ‘गोल-बंद’ होना किसी के खिलाफ एकत्रित हो जाना है | ‘गोलोक-वासी होना’ स्वर्ग सिधारना है |

   ‘गोल’ का एक अर्थ मूर्ख या अनाड़ी से भी लगाया जाता है, जैसे दिमाग़ से गोल होना | ‘गोल-गोल’ बात करना या ‘गोलमटोल’ बात करना अस्पष्ट बात करना है | घुमा फिरा कर बात करना है | ‘गोल-मटोल’ कद-काठी के ठिगने और न्मोते मोटे लोगों/ बच्चों को भी कहा जाता है | बच्चों को परिक्षा में गोला मिलना शून्य अंक या जीरो मिलना हैं |

   उर्दू / फारसी में गोल शब्द तो है ही, एक अन्य शब्द “ग़ोल” भी है | ‘ग़ोल’ कान को  कहते हैं |  भीड़, झुण्ड या अस्तव्यस्त समूह को भी कहते हैं | सैनिकों का दल या वह दल जिसके साथ सेनापति हो, भी ग़ोल कहलाता है | ज़ाहिर है,‘ग़ोल’ का यह अर्थ चक्राकार ‘गोल’ से बिलकुल भिन्न है | सेना दुश्मनों से लड़ने के लिए ‘गोला-बारूद’ का इस्तेमाल करती है | ‘गोला-बारी’ करती है, तोप के ‘गोले’ चलाती है | तोप का गोला चलाने वाला तोपची, ‘गोलेबाज़’ कहलाता है | ‘गोलाबारी’ करना तोप के गोलों या बंदूक की गोलियों की वर्षा करना है |  

   अंग्रेज़ी के ‘गोल’ (goal) का अर्थ तो बिलकुल ही अलग है | यहाँ goal का मतलब है वह लक्ष्य या उद्देश्य है जिसे प्राप्त करने के लिए हम प्रयत्न करते हैं | खेलों में हम जीत का लक्ष्य लेकर खेलते हैं | हाकी और फ़ुटबाल जैसे खेलों में हम “गोल” करके यह लक्ष्य प्राप्त करते हैं | यहाँ गोल करने का अर्थ है, उस स्थान (पोस्ट) तक गेंद को पहुंचाना जो जीत हासिल करने के लिए निर्धारित किया गया है | गोल करने को बचानेवाला पोस्ट पर तैनात खिलाड़ी “गोल कीपर’ कहलाता है | हिन्दी ने गोल के इस अंग्रेज़ी अर्थ को भी पूरी तरह अपना लिया है | गोल करना, गोल बचाना, गोल दागना, गोल उतारना अब हिन्दी मुहावरे बन गए हैं | स्पष्ट ही इन मुहावरों में गोल से अर्थ किसी गोलाकार पिंड से नहीं है, यह तो अंग्रेज़ी का goal  है जिसे हमने आत्मसात कर लिया है।
                                   
  --डा. सुरेन्द्र वर्मा (९६२१२२२७७८)                                                 १, सर्कुलररोड / १०, एच आई जी  इलाहाबाद -२११००१     

   

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.