370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

बाल कहानी / बगुले और मछली की दोस्ती / राजेश मेहरा

image

हम सब जानते है की बगुले और मछली की हमेशा से दुश्मनी रही है और बगुला हमेशा मछली को तालाब में चुपचाप खड़े होकर चालाकी से खा जाता है लेकिन बहुत समय पहले ऐसा नहीं था उनमें भी दोस्ती थी । ये किस्सा इस प्रकार है । ताजपुर जंगल में एक तालाब था। उस तालाब में बहुत सी मछलियाँ थी। उन मछलियों की एक मुखिया थी सब उसे सम्मान से मछली रानी कहते थे । मछली रानी भी सारी मछलियों का सम्मान करती थी और उनका हमेशा ही नेतृत्व करती थी। सब मछलियाँ उसे अपनी रानी मानती थी और उसकी हर आज्ञा का पालन करती थी। समय अच्छा बीत रहा था। एक दिन मछली रानी तालाब के किनारे भोजन एकत्रित कर रही थी।

[ads-post]

उसी समय एक बगुला किनारे आकर गिरा । लगता था जैसे वह घायल हो। गिरते ही वह बेहोश हो गया। रानी मछली ने बेहोश बगुले को देखा तो उसने अपने मुंह में पानी लेकर उस पर फेंका। पानी के छींटों से बगुला थोड़ा होश में आया लेकिन घायल होने की वजह से वह अपनी जगह से हिल नहीं पाया। रानी मछली उसके पास जाने से डर रही थी एक तो वो पानी के बाहर ज्यादा नहीं रह सकती थी दूसरा उसे डर था की कहीं बगुला होश में आने पर उसे नुकसान न पहुँचाए। मछली रानी ने अपनी साथियों को आवाज दी। मछलियां इकट्ठी हो गई। मछली रानी ने सबको बगुले को खींचकर तालाब के किनारे के और पास लाने को कहा। सबने खींचकर उसे तालाब के किनारे के पास कर दिया।

अब मछली रानी ने तालाब की खर पतवार से दवाई बनाई और बगुले के घाव पर लगा दी। बगुला अब भी बेहोश था। मछली रानी ने देखा की किसी शिकारी ने अपने तीर से उसे घायल किया था। अब मछली रानी खुद दिन रात उस बगुले की देख भाल करती थी। उसको वह समय पर दवाई देती और उसके घाव को भी समय समय पर साफ़ करके उसमें दवाई लगाती। मछली रानी की मेहनत रंग लाई और बगुला ठीक हो गया। मछली रानी ने उसे अब अपने तालाब में ही रहने की इजाजत दे दी। बगुला भी अब सब मछलियों के साथ उस तालाब में आराम से रहने लगा। उसने मछली रानी को नया जीवन देने के लिए धन्यवाद दिया। उसने मछली रानी को उसके अहसान को कभी ना कभी चुकाने का वादा किया।

समय बीतता गया। मछली रानी और बगुले में गहरी दोस्ती हो गई। बगुला तालाब में रहकर सब मछलियों की शिकारियों और अन्य मांसाहारी जानवरों से उनको खतरे की सूचना देकर रक्षा करता था। मछलियाँ खाने को न मिलने के कारण कुछ जानवर अब बगुले से जलने लगे थे और उन्हें बगुले और मछली रानी की दोस्ती चुभने लगी। उन्हीं में एक था कालू कौवा क्योंकि जब भी वह मछलियों को खाने जाता तो बगुला मछलियों को सचेत कर देता और कौवे को भूखा रहना पड़ता था।

कालू कौवे ने एक दिन दूर दूसरे जंगल से कुछ मछलियाँ मारकर ताजपुर जंगल के तालाब के पास डाल दी और जोर जोर से रोना शुरू कर दिया और कहने लगा- अरे सब देखो किसी ने तालाब की मछलियों को मार दिया है।" इतना सुन सब जानवर इकट्ठा हो गये।

मछली रानी ने भी ये सब देखा तो उसे भी बड़ा दुःख हुआ। लेकिन ये सब कौन कर सकता था उसे समझ नहीं आया क्योंकि उनके तालाब की रक्षा तो बगुला करता था। कौवे ने मछली को सोचते देख जोर से कहना शुरू कर दिया मुझे तो ये काम बगुले का लगता है क्योंकि इसके रहते कोई मछलियों पर नजर भी नहीं डाल सकता। बगुले ने कहा-ये झूठ है, लेकिन कौवे के बाकी साथियों ने भी जोर देकर बगुले को ही दोषी कहना शुरू कर दिया। अब मछली रानी को भी कौवों की बात पर यकीन होने लगा की ये हरकत बगुले की ही है। उसने बगुले को तुरंत तालाब से बाहर जाने को कहा। बगुले की बहुत सफाई देने पर भी मछली रानी नहीं मानी और उसे तालाब से बाहर कर दिया। बगुला बड़ा दुखी हुआ क्योंकि वो निर्दोष था। अब कौवे की मौज थी वो बड़ी चालाकी से रोज मछलियाँ खाता और मछली रानी सोचती ये सब बगुला कर रहा है।

एक दिन एक शिकारी तालाब से मछलियाँ पकड़ने आया तो बगुले ने शोर मचाकर मछलियों को सचेत किया लेकिन वे सब इसे बगुले की चाल समझ रही थी। वो सचेत नहीं हुई तो बगुला शिकारी से उन्हें बचाने के लिये उससे भिड़ गया। शिकारी ने गुस्से में उसे अपने चाकू से मार दिया। मरते वक्त उसने अपने साथियों से कहा की वो मछली रानी को बताएं की उसने मछलियों को नहीं मारा ।बगुले के साथियों ने वैसा ही किया लेकिन बगुले के साथियों के बताने पर भी मछली रानी को बगुले के ऊपर विश्वास नहीं हुआ।

बगुले के बलिदान को देख उसके साथी दुखी हुए। अब उन्होंने सोचा जब उनके साथी पर मछली खाने का झूठा इल्जाम है तो क्यों ना सचमुच अब मछली खाना शुरू कर दिया जाए। उसी दिन से बगुले शरीफ भगत बनकर तालाबों से मछलियां खाने लगे।

 

राजेश मेहरा
नई दिल्ली
rajeshkumar5970@rediffmail.com
बाल कथा 489604580964468141

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव