बुधवार, 1 मार्च 2017

रामनरेश उज्जवल की बाल कविताएँ

clip_image001

बाल कविताएँ

clip_image003

1-निंदिया

clip_image005

.

clip_image003[2]clip_image003[3]clip_image003[4]

नींद से अच्छा नहीं लगे कुछ,

सबसे प्यारी निंदिया रे।

सपने नए अनोखी लाती,

जादू वाली पुड़िया रे।।

.

थपकी दे माँ हमें सुलाती,

लोरी गा-गा कर बहलाती।

धीरे से है तब आ जाती,

मीठी-मीठी निंदिया रे।।

[ads-post]

.

उड़न खटोले पर बैठाती,

दूर देा की सैर कराती।

परियों वाले लाल महल में,

लेकर जाती निंदिया रे।।

.

चन्दा मामा से मिलवाती,

तारों से बातें करवाती।

सात समुन्दर पार घुमा कर,

वापस लाती निंदिया रे।।

.

2-ईद मुबारकclip_image010

.

चाँद निकलते हल्ला-गुल्ला,

वाह-वाह क्या बात।

लाई फिर से ईद मुबारक,

खुशियों की सौगात।।clip_image003[5]

.

पकवानों के थाल सजे हैं,

खोए वाली खीर।

खुशबू से भरपूर सिवंइयाँ,

कैसे रखूँ धीर।।

.

कपड़े नए-निराले पहने,

मस्ती में सब चूर।

दौड़-दौड़ कर घर-घर जाएँ,

ईद मिलें भरपूर।।

.

अपने संगी-साथी के हम

संग मचाएँ धूम।।

नाचें-गाएँ, खुशी मनाएँ,

तन-मन जाए झूम।।

3-चुन्नू-मुन्नू clip_image003[6]clip_image014

.

.

चुन्नू-मुन्नू बड़े गुनी।

बातें करते नहीं सुनी।।

.

सुनते बागों में हैं भूत,

यमराजों के हैं ये दूत,

जो भी इनके पकड़ में आए,

नहीं कभी फिर पाए छूट,

दादा से ये कथा सुनी।

चुन्नू-मुन्नू बड़े गुनी।।

.

पर ये सारी बातें झूठ,

जो भी माने वो है मूर्ख,

चुन्नू बोला सच्ची बात,

कभी नहीं होते हैं भूत,

अफवाहें हैं कही-सुनी।

चुन्नू-मुन्नू बड़े गुनी।।

4-बन्द पढ़ाई

clip_image003[7]clip_image003[8]clip_image003[9]

clip_image018

छुट्टी के दिन हैं जोशीले।

लटके देखो आम रसीले।।

.

बागों की है छटा निराली।

मस्त पवन से झूमें डाली।।

.

जब चलती ठण्डी पुरवाई।

लगती सबको ये सुखदाई।।

.

बच्चों के मन ऐसे भाई।

खुशी भरी ज्यों थैली लाई।।

.

डाँट-डपट न मार-पिटार्ई।

फुरसत के दिन बन्द पढ़ाई।।

.

कुल्फी सबको है बहलाती।

गरमी में राहत पहुँचाती।।

.

5-मैंने ढूँढी है भाहजादी

clip_image003[10]clip_image020

clip_image003[11]

.

मम्मी कर दो मेरी शादी,

मैंने ढूँढी है शाहजादी।

काम करेगी घर का सारा,

तुमको देगी वह छुटकारा।।

.

प्यार करेगी सबसे बढ़कर,

तुम भी चाहोगी जी भरकर।

रूठोगी जब गाल फुला कर,

खुश कर देगी पाँव दबा कर।।

.

पापा से भी बात करो ना,

धीमे से शुरूआत करो ना।

दीदी से तो मैं कह दूँगा,

चुटकी में राजी कर लूँगा।।

.

कहो तो सेहरा भी मँगवा लूँ,

लोगों को न्योता बँटवा दूँ।

सजकर आएगी शाहजादी,

हो जाएगी मेरी शादी।।

.

6-बादलclip_image003[12]

.

clip_image024

बादल आए, बादल आए,

झूम-झूम कर पानी लाए।

मोर मगन हो लगे नाचने,

कोयल कुहू-कुहू कर गाए।।

.

आँगन तक पानी भर आया,

मेंढक ने अब शोर मचाया।

सभी जगह चिड़ियों की चैं-चैं,

झींगुर ने संगीत सुनाया।।

.

जंगल में फैली हरियाली,

बरखा का है मौसम आया।

सूख रहे थे पेड़ जहाँ के,

पत्ता-पत्ता फिर लहराया।।

.

झोकम्-झोंक चले पुरवाई,

खेतों में हो रही जुताई।

निखर गए सब-बगीचे,

हरी-भरी धरती मुस्काई।।

.

7-उड़ता गुलाल

clip_image026

होली के रंग।

मित्रों के संग।।

.

उड़ता गुलाल।

चेहरा है लाल।।

पकड़ लो इन्हें।

रंग दो उन्हें।।

.

पप्पू के गाल।

करो लाल-लाल।।

.

दो हों या तीन।

कर दो रंगीन।।

.

होली के गीत।

गाएँगें मीत।।

.

नाचे मन-मोर।

खूब करे शोर।।

.

8-पथ पर बढ़ते जाना

.

clip_image028

कभी न रोना, हँसना-गाना।

जीवन का हो नया तराना।।

.

बुरा-भला जो बीत गया है,

मत उस पर आँसू बरसाना।

.

कटुता मन में कुछ भर जाए,

नेह से उसको सदा मिटाना।

.

चलते-चलते यदि थक जाना,

ठहर छाँव में कुछ सुस्ताना।

.

गिरना, उठना और सँभलनाा,

लेकिन पथ पर बढ़ते जाना।

.

9-बात निराली

clip_image029

कल-कल-कल-कल बहती जाती,

सबको भाती है।

निर्मल-निर्मल धारा का,

संगीत सुनाती है।।

.

हरदम ही यह चलती जाती,

आगे बढ़ती है।

कभी न रूकती,कभी न थकती,

बढ़ती जाती है।।

.

जीवन भर कुछ करते रहना,

हमें सिखाती है।

अपनी धुन में, अपनी गुन में,

गाती जाती है।।

.

गंगा-जमुना के पानी की

बात निराली है।

अपने जल से आस-पास,

करती हरियाली है।।

.

10-शायद मैं भी हीरो बनकर

.

गोविन्दा का नाच देखकर,

मैंने सोचा नाचूँ।

शायद मैं भी हीरों बनकर,

हीरोइन को फासूँ।।

.

यही सोच मैं गया किचन में,

कुण्डी जल्द लगाई।

हाथ-पैर फिर लगा पटकने,

खूब बजी शहनाई।।

शहनाई की आवाजों ने,

मन में उमंग जगाई।

एक पैर पर लगा नाचने,

सूरत गजब बनाई।।

.

उसी समय मम्मी ने आकर,

कुण्डी ज्यों खड़काई।

घबरा कर मैं गिरा फर्श पर,

मुँह से निकला आई।।

.

11-तोते का बच्चा

clip_image031

.

मुझे मिला तोते का बच्चा।

भोला-भाला लगता अच्छा।।

.

घायल देख उठा मैं लाया।

मरहम-पट्टी कर सहलाया।।

.

घाव कुछ दिन में भर आया।

स्वस्थ हुआ तो मैं मुस्काया।।

.

बिल्ली से भी उसे बचाया।

पिंजड़े में भोजन करवाया।।

.

अब तक उसके 'पर' जम आए।

मुझे देख कर पंख हिलाए।।

.

मैंने सोचा दिल बहलाऊँ।

फुदक-फुदक कर इसे नचाऊँ।।

.

लेकिन वह तो गजब कर गया।

पिंजड़ा खुलते फुर्र उड़ गया।।

.

12-नए सिरे से जोड़ो कड़ियाँ

clip_image033

clip_image003[13]

साल पुराना गया है बीत।clip_image003[14]

खुशी मनाओ, गाओ गीत।।

नए वर्ष का नया विचार।

गलत काम में करो सुधार।।

.

भूलो अपनी मुश्किल घड़ियाँ।

नए सिरे से जोड़ो कड़ियाँ।।

.

लालच त्यागो बदलो रीत।

सच्चाई की होती जीत।।

.

खुद पर रखो दृढ़ विश्वास।

पूरी होगी मन की आशा।।

.

13-सबको बाटूँगा मैं पैसा

clip_image037

.

पेड़ लगाऊँगा एक ऐसा।

जिसमें खूब लगेगा पैसा।।

.

दस्सी-पंजी और अठन्नी,

एक-दूजे पे लदी चवन्नी,

नोटों के पत्ते लहराएँ,

दूर-दूर तक उड़के जाएँ,

सबको बाटूँगा मैं पैसा।

पेड़ लगाऊँगा एक ऐसा।।

.

पैसे से अपना घर भर दूँ ,

सारी ख्वाहिश पूरी कर लूँ ,

गरम जलेबी, बर्फी खाऊँ,

सभी जगह मैं धूम मचाऊँ,

ठाट-बाट राजाओं जैसा।

पेड़ लगाऊँगा एक ऐसा।।

.

सभी जगह मेला लगवा दूँ ,

सारी दुनिया को चमका दूँ ,

रोज सिनेमा, सरकस जाऊँ,

शीशमहल-सा घर बनवाऊँ,

चम-चम चमके चाँदी जैसा।

पेड़ लगाऊँगा एक ऐसा।।

.

14-एक दोस्त

clip_image038

.

एक दोस्त है मेरा मोटा,

जिसको कहते बाथम।

उससे जब भी मिलने जाता,

खाता रहता हरदम।।

.

गैण्डे जैसी चाल है उसकी ,

झूमें हाथी जैसा।

काम करे तो गिर-गिर जाए,

लुढ़के मटके जैसा।।

.

पैर हैं उसके भारी-भरकम,

धरती भी घबराए।

रिक्शे वाला देख के भागे,

दूर खड़ा हो जाए।।

.

इतना मोटा होने पर भी,

कहता-'मै हूँ दुबला।

काँटे जैसा सूख गया हूँ ,

टहनी जैसा पतला।।'

.

15-नन्हें-नन्हें तारे

.

clip_image039

नन्हें-नन्हें तारे।

लगते सबसे प्यारे।।

.

नील-गगन में चमकें,

भोले-भाले सारे।

.

अपने पास बुलाएँ,

लुक-छिप करें इशारे।

.

मोती-माला जैसे,

लटके हुए सितारे।

.

लगें सभी को प्यारे,

नन्हें-नन्हें तारे।

.........

जीवन-वृत्त

.

नाम : राम नरेश 'उज्ज्वल'

पिता का नाम : श्री राम नरायन

विधा : कहानी, कविता, व्यंग्य, लेख, समीक्षा आदि

अनुभव : विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लगभग पाँच सौ

रचनाओं का प्रकाशन

प्रकाशित पुस्तकें : 1-'चोट्टा'(राज्य संसाधन केन्द्र,उ0प्र0

द्वारा पुरस्कृत)

2-'अपाहिज़'(भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार से पुरस्कृत)

3-'घुँघरू बोला'(राज्य संसाधन केन्द्र,उ0प्र0 द्वारा पुरस्कृत)

4-'लम्बरदार'

5-'ठिगनू की मूँछ'

6- 'बिरजू की मुस्कान'

7-'बिश्वास के बंधन'

8- 'जनसंख्या एवं पर्यावरण'

सम्प्रति : 'पैदावार' मासिक में उप सम्पादक के पद पर कार्यरत

सम्पर्क : उज्ज्वल सदन, मुंशी खेड़ा, पो0- अमौसी हवाई अड्डा, लखनऊ-226009

मोबाइल : 09616586495

-मेल : ujjwal226009@gmail.com

.

.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------