बुधवार, 15 मार्च 2017

जीवन सत्यता की परिभाषा / अखिलेश कुमार भारती

जीवन क्या है- यह प्रश्न सदैव जिज्ञासुओं को उद्वेलित करते आया है- जीवन उतार-चढ़ाव का पर्याय है, यह सांसारिक जीवन दर्शन का बोधक है। आज सुख है कल दुःख भी है, किसी न किसी रूपेण इस इकाई से हम मुंह मोड़ नहीं सकते। हर स्थितियों और परिस्थितियों में हमें एक जैसा रहना कठिन सा है पर असम्भव नहीं। संघर्ष हमारे जीवन का सबसे बड़ा आशीर्वाद है। जीवन को उत्कृष्ट करने के लिए तन -मन से मेहनत कर नया वातावरण बनाना पड़ता है। नए चेतना उन्मुक्त होने के लिए अपनी कुशल योग्यता पहचानने पड़ते है, जीवन में अगर संघर्ष है, कठिनाई है तो समझो जीवन सही रास्ते पे चल रही है। जीवन विचारों का खेल है, सभी प्राणी को इस खेल को खेलना पड़ता है, कोई तेज खेलता है, कोई धीमी, परंतु यह खेल मनुष्य को हर पल खेलना पड़ता है। मनुष्य का सबसे बड़ा मित्र और दुश्मन भी उसके विचार ही होते है, जिसे हम सकारात्मक और नकारात्मक भी कह सकते है। जिन्हें यह खेल में महारत हासिल हो जाता है, उन्हें हम कहते है की उन्हें आध्यात्मिक और प्रबलता का बोध हो चूका है, यही जीवन का सारतत्व है। गतिशीलता ही सफलता की राह आसान करती है, अपितु निरंतर प्रयास सही दिशा देती है, इंसान बनकर इंसानियत की भाषा केवल श्रेष्ठ मनुष्य ही दे सकता है।

[ads-post]

हर मानव अपने जीवन में सफल होना चाहता है, पर सफलता को प्राप्त करने के लिए हमें सर्वप्रथम सफल जीवन की परिभाषा को जानना होगा। सफलता-असफलता दो कड़ी है, बीच में "अ" अक्षर का आंतरिक भेद है। इसे बरकरार रखना कठिन होता है। समय की परछाई के साथ हम अपनी गाड़ी को नहीं भगा पाते,  अतएव इन सब स्थितियों से गुजरना पड़ता है, परंतु अपने को हमेशा मुस्कान, ख़ुशी के लिए कुछ करना है, बनना है ऐसा पर्याय नहीं होना चाहिए। कुछ करना सोचोगे तो खुद -बखुद इतना मिल जायेगा की बनना सोचने से ज्यादा ही आशान्वित लगेगा। मनुष्य के पास चाहे जितना भी धन हो, सोना-चांदी हो या घर-परिवार हो अगर जीवन में खुशी ना हो तो जिंदगी बेकार है। खुशियाँ एक चुम्बकीय गुण है,  बाँटो तो और सुख मिलता है। सभी लोग जीवन को अपने-अपने नजरिये से देखते है। सफलता उन्हें मिलती है, जो सपने देखना पसंद करते है, जिनके सपनों में जान होती है।

बड़ा आदमी बनना आसान हो सकता है, अपितु बड़प्पन एवम अपनत्व अपने अंदर लाना उतना ही कठिन है | अच्छे बनने की होड़ में अपने अच्छाई को कतई पीछे न छोड़ना, नहीं तो बुराई आगे आकर आपकी अच्छाई को नष्ट कर देगी, जो आपके जीवन मूल्यों को ख़त्म कर देती है | सदैव सकारात्मक पहलू विद्वता का परिचायक है|  नकारात्मक सीढ़ियों के सहारे हम सकारात्मक विचारों की नींव बना सकते है। जिस किसी मानव ने प्रामाणिकता की कसौटी से खरे उतरे है, वही अपनी अंतर -चेतना की अनुभूति में स्वयं को महसूस कर सकते है। दुनिया में जीने का एक मुकाम होता है, हर किसी के जिंदगी का इस दुनिया में हिसाब होता है, जीना जानते है सही से कुछ लोग, पर जिंदगी जीने का अंदाज कुछ को ही होता है |  तकदीर लिखती नहीं बनाई जाती है | मन से इंसान को नहीं हारना चाहिए, क्योंकि मन से हारा हुआ इंसान कभी जीत नहीं पाता। हारा हुआ इंसान कमजोर नहीं होता, अपितु मन से हारा हुआ इंसान कमजोर होता है। समय की उपयोगिता सफलता की राह दिखाती है,  और सौम्यता, विनम्रता चारित्रिक दर्पण होता है। महानता गिरने से कम नहीं होती अपितु गिर कर उठने से महानता प्रबल होता है।

नास्तिक और आस्तिक जीवन विलोम हमने खुद ही बनाया है, और हम समय -समय स्वयं ही इसे परिभाषित करते है, क्या इसे परिभाषित करने से जीवन उत्कृष्ट हो जायेगा, शायद नहीं, जीवन पुण्य निर्मल पवित्र आत्मा को रखने से मिलती है। गतिशीलता ही सफलता की राह आसान करती।जीवन को तूफान के गुजरने का इंतजार नहीं करना चाहिए, अपितु बरसात में भीग कर जीवन का अमृतमय आनंद लेना चाहिए। काम छोटा हो या बड़ा जीवन कभी समाप्त नहीं होता, राह बदलते रहते है, काम कभी ख़त्म नहीं होता अपितु समय के साथ निरंतर नयी परिभाषित होते जाती है। जिस नज़र से आप इस दुनिया को देखोगे, वैसा ही आपको सबकुछ लगेगा। अनाथ, असहाय की मदद करने से जितनी पुण्य मिलती है, उतना ही पुण्य निर्मल पवित्र आत्मा को रखने से मिलती है।

हौसलों से विजय गाथा परिभाषित होता है, हर सफल इंसान एक -सा नहीं होता,  और उन्हें बुलंदियों पर पहुँचाने वाले भी एक -सा नहीं होते| अकेले मंजिल पाना कठिन-सा, पर असंभव- सा नहीं, कांटों पर चल कर मुस्कुराना भी एक जिंदगी है| जीवन सुख-दुःख का पहिया है, कभी किसी वक्त हताश न होना| जीवन में आए मुश्किलों से अपने को परेशान न करना, जीवन उतार-चढ़ाव का पर्याय है, कभी अपने आत्मबल को कमजोर न होने देना| अँधियारी जाएगी, नया सवेरा आएगा, जीवन के कठिन मोड़ पे,  नए चेतना उन्मुक्त होंगे।

हृदय को पवित्र करें नया वातावरण बनने को है| अपनी कुशल क्षमताएँ पहचानें, सारी सुख-सुविधाएँ आने को है, अपने स्वाभिमान से अपने आत्मविश्वास में नया जोश भरे यही जीवन का सही परिभाषा है,  जिसे हर मनुष्य को अपने हृदय के धरातल पे उतारना चाहिए।

 

अखिलेश कुमार भारती(AKHILESH KUMAR BHARTI)

सहायक प्रबंधक (डी. सी. सी .-ईस्ट जोन -जबलपुर )

मध्य प्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत् वितरण कंपनी लिमिटेड , जबलपुर

संपर्क नंबर - ०९८२६७६७०९६

ईमेल -अखिलेश.भारती५९@जीमेल.कॉम

1 blogger-facebook:

  1. भाषा की अशुद्धता पढ़ने में खटकती है । कई वाक्यों का दोहराना भी अच्छा नहीं लगा । भाव अच्छे हैं । लेकिन वर्तनी और व्याकरण की त्रुटियों ने आंनद कम किया ।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------