व्यंग्य / लॉ स्टेटस / हनुमान मुक्त

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

लॉ स्टेटस

गांधी जी ने कहा था कि हम स्वस्थ सांस्कृतिक प्रभावों के लिए अपने दरवाजे खिड़की खुले रखें, पर अपनी बुनियाद पर कायम रहें। मैंने गांधी जी की ‘पर’ से पहले की बात को पूरी तरह आत्मसात कर लिया है और ‘पर’ के बाद भी बाद का अर्थ नहीं समझ पाने के कारण उस पर गौर करना ठीक नहीं समझा।

बुनियाद क्या होती है, मैं नहीं जानता और ना ही मुझे इससे कोई विशेष मतलब ही है। मैं नित नया टीवी और अखबारों से सीखता हूँ। मार्केट में कौन सा पेस्ट आ रहा है जो मेरे दांतों को मोती जैसा चमकाएगा, मुंह की दुर्गंध हटाएगा और मसूड़ों को सुरक्षित रखेगा। यह विज्ञापन में आने वाले डॉक्टर साहब मुझे बताते हैं।

सुन्दर सी छरहरे बदन वाली गोरी युवती मुझे यह बताती है कि मुझे कौन सा साबुन यूज करना है। कौन सा साबुन मुझे पसीने की बदबू से बचाएगा, शरीर को तरोताजा रखेगा। कीटाणुओं से रक्षा करेगा। मुझे साबुन से ज्यादा विज्ञापन देखना पसंद है। विज्ञापन में आने वाली युवतियों की मनमोहक अदाएं बरबस ही मुझे उनकी बात मानने पर मजबूर कर देती है। यह सब मानना स्वस्थ्य सांस्कृतिक प्रभाव के लिए आवश्यक है।  

जब भी मैं कोई विज्ञापन देखता हूँ, पूरी तरह से अपने दिमाग के खिड़की दरवाजे खोल देता हूँ। दिमाग में पहले से भरे हुए बासी ज्ञान को मैं अपने नए सामान्य ज्ञान पर हावी होने नहीं देता। कभी-कभी मेरा दिमाग नए ज्ञान का थोड़ा बहुत प्रतिवाद करता है तो मेरी पत्नी और मेरा बेटा मुझे ऐसी गलती करने से रोक देते हैं। वे कहते हैं कि अपने दकियानूसी विचारों से घर का माहौल खराब नहीं करूं।

मैं तुरन्त अपने में सुधार कर लेता हूं और दिल और दिमाग के दरवाजे पूरी तरह खोल देता हूूं। इससे दिमाग के साथ-साथ घर में भी ताजी हवा का प्रवेश हो जाता है। जिसका परिणाम होता है वातावरण में हमेशा ताजगी बने रहना।

शरीर को पवित्र बनाए रखने के लिए गंगाजल से बना साबुन भी मार्केट में उपलब्ध है। यह साबुन बनाने का कारखाना गंगा नदी से कितनी कोस दूर है, इसमें गंगाजल कैसे मिश्रित हुआ, यह सब जानने की बिना जहमत उठाए, मैं अपने शरीर को भी गाहे-बगाहे, गंगाजल से पवित्र करता रहता हूँ।

मैं उन लोगों में से नहीं हूं और जो हर खाद्य पदार्थ से, हर पेय से, धुंआ देने वाले पदार्थों सहित हर ऐसी वस्तु से, अपने आपको अलग रखते हैं, जिन्हें स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बताया जाता है। मैं ‘मात्र स्वास्थ्य’ को प्राप्त करने के लिए स्वयं को इन सबके आनन्द से वंचित रखना मूर्खता समझता हूँ।

मुझे क्या करना है, इसके लिए मैं अपने दिमाग पर जोर नहीं डालता। मेरा मानना है कि इतने अनुसंधान करने के बाद जिस वस्तु को तैयार किया गया है, निश्चित रूप से वह उपभोग के लिए है, आनन्द के लिए है। मैंने पूरी तरह बौद्धिक दासता को स्वीकार कर लिया है। जैसा मुझे विज्ञापन बताते हैं उसे हूबहू स्वीकार कर लेता हूँ। टीवी पर आने वाले सीरीयलों के पात्र कैसे कपड़े पहन रहे हैं, घर की सजावट कैसी है, रात को पार्टियों में क्या होता है। किस ब्राण्ड की कौनसी चीज इस्तेमाल करते हैं। यह सब देखकर ही मेरे घर की खरीददारी होती है। अनुकरण की संस्कृति से जितना फायदा उतना किसी में नहीं। जितना दिमाग लगाना था, उतना वे लोग लगाते थे। हम बेवकूफ नहीं हैं जो अपना दिमाग खपाएं।

इस सबका परिणाम है कि मुझे और मेरे परिवार को मॉडर्न समझे जाना। मैं अपनी सोसायटी में मॉर्डन समझा जाता हूँ। मैंने अपने नातेरिश्तेदारों के यहां जो मेरे स्टेटस के नहीं है, लॉ स्टेटस के हैं, के घर जाना बंद कर दिया है। उनमें सोसायटी के बैठने के, रहने के, खानेपीने के एटिकेट्स नहीं है। उनके दिमाग के दरवाजे बंद हैं। कुछ भी नया ग्रहण करना नहीं चाहते।

मेरी दादी कहती है, मैं अपनी बुनियाद भूल गया हूं। अपनी पहचान भूलता जा रहा हूं। कहीं ऐसा ना हो कि मैं इस छद्म आधुनिकता की अंधी दौड़ में दौड़ता हुआ स्वयं को समाप्त कर लूं।

आज कल शहरों में मैं देखता हूँ कि लोग फ्लेटों में रहते हैं। कोई पांचवी मंजिल पर तो कोई दसवीं पर।

सिर्फ फ्लेट आपका है, छत आपकी नहीं। यदि छत पर घूमने का मानस बनाओ तो छत पर पहुंचने में ही नानी सपने याद आ जाएं। लिफ्ट से आप वहां पहुंच भी जाओ तो छत पर घूमने की जगह ही नहीं। बिल्कुल सटी हुई, आसपास रखी पानी की टंकियां। नीचे देख लो तो वही हार्ट अटेक हो जाए।

नरेन्द्र कोहली ने अपने व्यंग्य सार्थकता में लिखा है कि एक दिन किसी फ्लेट में एक ब्रेसियर उडकर नीचे आ पड़ी थी और चौकीदार अपनी ईमानदारी में उसे ले जाकर प्रत्येक फ्लेट में जा जाकर पूछता फिर रहा था, ‘मेम साहब! यह बनियान आपकी है?’

मेम साहब ब्रेसियर को देखती और चेहरे पर झूठमूठ क्रोधित होने का नाटक कर चौकीदार को घूरती और दरवाजा उसके मुंह पर बंद कर देती। फटाक! बदतमीज चौकीदार!

ब्रेसियर को हाथ में लिए महिलाओं से कोई ऐसे सवाल करता है?

थोड़ी देर में सारी महिलाएं बालकनियों पर खड़ी होकर चौकीदार को देख रही होती कि कौन ब्रेसियर को स्वीकार करता है।

जब चौकीदार नीचे मिसेज सिंह के पास पहुंचता है तो वे झपट कर ब्रेसियर छीन लेती हैं और दरवाजा बंद कर देती हैं। चौकीदार बंद दरवाजे को अपने दांत फैलाकर चिढ़ाता हुआ लौट आता है।

---

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "व्यंग्य / लॉ स्टेटस / हनुमान मुक्त"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.