---प्रायोजक---

---***---

रु. 25,000+ के  नाका लघुकथा पुरस्कार हेतु लघुकथाएँ आमंत्रित हैं.

अधिक जानकारी के लिए यहाँ [लिंक] देखें. आयोजन में अब तक प्रकाशित लघुकथाएँ यहाँ [लिंक] पढ़ें.

नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका में प्रकाशनार्थ  रचनाएं इस पते पर ईमेल करें : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें.

आत्मीयकरण-1 / रमेशराज

साझा करें:

आचार्य प्राग्भरत बतलाते हैं कि ‘‘जब कोई हृदय संवादी अर्थ हमारी चेतना को व्याप्त कर लेता है तभी रस का जन्म होता है।[1] रस को रस ही क्यों कह...

आचार्य प्राग्भरत बतलाते हैं कि ‘‘जब कोई हृदय संवादी अर्थ हमारी चेतना को व्याप्त कर लेता है तभी रस का जन्म होता है।[1]

रस को रस ही क्यों कहते हैं, इसका उत्तर देते हुए आचार्य भरतमुनि कहते हैं- ‘‘रस आस्वाद्य है और अपनी आस्वाद्यता के कारण ही यह ‘रस’ कहलाता है।[2]

[ads-post]

आचार्य भरत आचार्य भरतमुनि का मानना है कि ‘‘रस से रीतकर कोई अर्थ प्रवर्तित नहीं होता।’’[3]

रस का बीज रूप कहां स्थिति होता है, इसके बारे में भरतमुनि का मत है कि जैसे बीज से वृक्ष होता है, वृक्ष से पुष्प और पुष्प से फल, वैसे ही रस सबके मूल में होते हैं और उन्हीं से सारे भाव व्यवस्था पाते हैं।[4]

रस सबके मूल में किस प्रकार विद्यमान होता है?, डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी रस के बीज रूप को इस प्रकार स्पष्ट करते हैं कि-‘‘ रस कवि हृदय की मूल आद्रता या रागात्मकता से जन्म लेता है [5] जिसे भरतमुनि ने ‘काम’ और आनंदवर्धन ने शृंगार कहा है। यह बीज स्थानीय रस सहृदय गत आद्रता के रूप में भी माना जा सकता है, जिसकी उपस्थिति के कारण ही उसकी सहृदय संज्ञा होती है और जिसके कारण काव्यस्वाद प्राप्त करने में समर्थ होता है। रस का यह रूप अभिनवगुप्त की ‘अनादि वासना’ के अधिक निकट है।’’[6]

रस के बारे में दिये गये उक्त तथ्यों के आधारर निम्न बातें उभर कर सामने आती हैं-

1.काव्य से समबन्धित कोई भी अर्थ जब हृदय अर्थात् हमारी संवेदना तक संवाद की स्थिति में पहुंचता है तो वह हमारी पूरी संवेदना में व्याप्त या आच्छादित हो जाता है, उसी अर्थ से रस का जन्म होता है। अर्थ यह कि हमारे निर्णय ही हमें रसोद्बोधन तक ले जाते हैं। काव्य सामग्री के आस्वादन के समय बुद्धि या ज्ञानतन्तु गतिशील होते हैं और बुद्धि की यही गतिशीलता हमें रस की ओर ले जाती है। इस प्रकार बुद्धि से रस प्राप्त होता है।

2.रस का जन्म रागात्मकता या हृदय की आद्रता होता है। अर्थ यह कवि और सहृदय दोनों की ही बुद्धि रागात्मकता से आद्र होती है, इसी कारण उसमें रसात्मकता का उदय होता है।

यह रसात्मकता किस प्रकार उदित होती है इसका उत्तर शंकुक ‘अनुमान’ के आधार पर बतलाते हैं। अनुमान निस्संदेह हमारा अर्थ-निर्णय है। काव्य-सामग्री को मन के स्तर पर भोगना है और उसकी पहचान करना है। इस प्रकार ‘मान’ यदि वस्तुनिष्ठ है तो अनुमान व्यक्तिनिष्ठ। ‘‘अनुमान रसानुभूति का प्रवेश द्वार है। उसी से उत्पन्न कल्पना रस की संवाहिका है। रसानुभूति निश्चित ही कल्पनाजनित अनुभूति है और कल्पना का उत्स ‘अनुमान’ ही है।’’[7]

‘अनुमान’ सामाजिक को किस प्रकार रसानुभूति तक ले जाता है? उत्तर यह कि- हमारा समस्त लौकिक व्यवहार सुख-दुःख, राग-विराग,घृणा-प्रेम, हास-परिहास विश्वास-अविश्वास आदि के इर्दगिर्द घूमता हुआ गतिशील रहता है और इसी लौकिक व्यवहार से समाज या लोक के सम्बन्ध बनते-बिगड़ते रहते हैं।

कवि इसी लोक-व्यवहार को काव्य में सृजित करता है। इस प्रकार समस्त काव्य-सृजन लोक-व्यवहार की ही प्रतीति होता है। जब कोई सदृहदय या सामाजिक काव्य का आस्वादन करता है तो लौकिक अनुभव के आधार पर सहज ‘अनुमान’ लगा लेता है कि काव्य द्वारा क्या व्यक्त हो रहा है।

इस बारे में आचार्य हेमचन्द्र एक उदाहरण देते हैं कि-‘‘कोई व्यक्ति एक कषाय फल खा रहा है। उसके मुख की आकृति एवं चेष्टा हमें सूचना देती है कि यह व्यक्ति कषाय फल खा रहा है और उस समय उसी प्रकार हमारे मुख में पानी भर आता है, जिस प्रकार का उस कषाय फल खाने वाले के मुंह में भर रहा होगा या हम कषाय फल खा रहे होते हैं तो भर आता है। बस इसी प्रकार राम रूप में अभिमत नट के स्थायी को देखकर सामाजिक की वासना के स्थायी में भी चवर्णा का अवकाश हो जाता है।[8]

आचार्य हेमचन्द्र ने कषाय फल का उदाहण देकर ‘अनुमान’ के आधार पर रसनिष्पत्ति के सम्बन्ध में एक तर्कसंगत सिद्धान्त का प्रतिपादन किया लेकिन बात यहीं खत्म हो जाती..

1. माना कषाय फल खाने वाले को देखकर दूसरे व्यक्ति के मुख में पानी भर आता है, लेकिन वह दूसरा व्यक्ति कषाय फल का वही स्वाद ‘अनुमान के आधार’ पर किसी भी प्रकार प्राप्त नहीं कर सकता जो कि कषाय फल खाने वाले व्यक्ति की स्वादेन्द्रियां ग्रहण करते हुए तृप्तता को प्राप्त होती हैं।

2. यदि दूसरे व्यक्ति की कषाय फल के प्रति किसी प्रकार की अरुचि है तो इस दशा में कषाय फल खाने वाले को देखकर उसके मुख में पानी आना असम्भव है।

3. यदि दूसरा व्यक्ति कषाय फल खाकर पहले से ही पूर्ण तृप्त है, तब उसके मुख में पानी आने की सम्भावना लगभग क्षीण ही होगी।

अतः कषाय फल खाने वाले को देखकर दूसरे व्यक्ति के मुख में पानी तभी आ सकता है जबकि –[क] अतृप्त हो [ख] उसमें कषाय फल के प्रति अरुचि न हो। [ग] मुख में पानी भर आने का मतलब यह भी नहीं है कि कल्पना में वह उसके स्वादादि को ज्यों का त्यों भोगते हुए तृप्तता को प्राप्त है। कषाय फल खाने वाले को देखकर तो दूसरे व्यक्ति के मन में अतृप्तता शुरू से लेकर अन्त तक बनी रहती है, जबकि कषाय फल खाने वाला तृष्तता का प्राप्त होता है।

इसलिये इस दृष्टान्त से यह तथ्य भी स्पष्ट रूप से उभरकर आते हैं कि रामादि की जो रसदशा होती है, सामाजिक उसका आस्वादन करते समय उसी रसदशा को ज्यों का त्यों न तो ग्रहण करता है और न उसी प्रकार, उसी अनुपात में रससिक्त होता है जैसा कि रामादि के रससिक्त होने की अवस्था होती है। आचार्य भरतमुनि इसी कारण कहते हैं कि-‘‘सुमनस् प्रेक्षक स्थायी भावों का आस्वादन करते हैं और हर्षादि को प्राप्त होते हैं।[9]

अस्तु! रसनिष्पत्ति का सूत्र काव्य में वर्णित आलम्बन और आश्रय पर भले ही ज्यों का त्यों लागू होता हो लेकिन काव्य का आस्वादन करने वाले समाजिकों का रागात्मक-बोध, काव्य के रसात्मक बोध से भिन्न ही नहीं, उसके विपरीत भी हो सकता है। क्योंकि ‘‘रसानुभूति कोई स्थिर, जड़ वस्तु नहीं है, वह तो सम्पूर्ण चेतना प्रक्रिया है, प्रवाह है, जिसमें से होकर हमारा व्यक्तित्व गुजरता है।’’।[10]

रसानुभूति का सम्बन्ध यदि हृदय-संवादी अर्थ का हमारी सम्पूर्ण चेतना में व्याप्त हो जाने और उसी अर्थ का हमारे व्यक्तित्व से होकर गुजरने से है तो यह भी तय है हमारा व्यक्तित्व ऐसी कोई वस्तु नहीं जिस पर कोई चीज ज्यों की त्यों उतारी जा सके। बल्कि इस सबसे अलग हमारे व्यक्तित्व की रागात्मक चेतना में वही अर्थ विलय होकर रसात्मक बन पाता है, जोकि हमारी रागात्मकता के अनुरूप हो। ‘ए’ समूह के रक्त में यदि ‘बी’ समूह का रक्त मिला दिया जाय तो ही ‘ए’ समूह का रक्त ‘बी’ समूह के रक्त को जिस प्रकार अस्वीकार करता है, ठीक वही स्थिति काव्य के आस्वादक की भी हो सकती है। भले ही यह भी सहृदय का एक प्रकार रसात्मकबोध ही है, लेकिन यह रसात्मकता प्रतिवेदनात्मक होती है, जबकि पहली रसात्मक स्थिति का स्वरूप संवेदनात्मक होता है। यदि ऐसा न होता तो रति के विपरीत विरति या घृणा को रस-आचार्य रस-भाव के अन्तर्गत न रखते। कहने का अर्थ यह है कि काव्य का आस्वादन यदि हमें एक तरफ हर्षादि से सिक्त करता है तो दूसरी तरफ वह घृणादि से भी सिक्त करता है या कर सकता है। यह हमारे आत्मनिर्णय पर निर्भर है कि हम काव्य सामग्री को किस अर्थ में ग्रहण करते हैं ? एक सुधी और मर्मज्ञ आस्वादक तो बिहारी और मार्क्सवादी अर्थात् दोनों ही प्रकार के काव्य का आस्वादन करेगा। यदि उसके रागात्मक संस्कार बिहारी के काव्य के रागात्मक संस्कारों के अनुरूप होंगे तो रसरूप संवेदनात्मक हो जायेगा और रति के विभिन्न रूप जैसे हर्षादि को प्राप्त होगा। यदि उसके रागात्मक संस्कार काव्य-सामग्री विपरीत जाएंगे तो उसमें विरति घनीभूत होगी। इस स्थिति में उसके भीतर विरोध, विद्रोह, क्रोधदि का समावेश हो सकता है। ठीक उसी प्रकार लोक-कल्याण, लोकरक्षा के रागात्मक संस्कारों से आद्र आस्वादक को ऐसे काव्य के आस्वादन से ही हर्षादि प्राप्त होंगे, जिसमें कुरीतियों, अंधविश्वासों, साम्प्रदायिक उन्माद, जातीय वैमनस्य आदि का खुलकर विरोध किया गया हो, वर्गसंघर्ष को उभारा गया हो। लोकरंजन और चितवन की चिलकचौंध से भरे हुए काव्य से ऐसे आस्वादक को हर्षादि की प्राप्ति नहीं होगी।

कहने का तात्पर्य यह है काव्य का स्वभाव और आस्वादक का स्वभाव, काव्य के संस्कार और आस्वादक के संस्कार, काव्य की प्रवृत्तियां और आस्वादक की प्रवृत्तियां, कुल मिलाकर काव्य की रागात्मकता और आस्वादक की रागात्मकता जब समानधर्मी होते हैं तो काव्य का आस्वादक काव्य को आत्मसात् करता हुआ काव्य के आस्वादन से आनंदानुभूति प्राप्त करता है। काव्य की रागात्मकता जब आस्वादक की रागात्मकता के विपरीत होती है तो आस्वादक के मन में प्रतिवेदनात्मक रसात्मकता उद्बोधित होती है।

इस प्रकार हम पाते हैं कि काव्य जब वस्तुनिष्ठ से व्यक्तिनिष्ठ बनता है और उसका अर्थ आस्वादक के हृदय अर्थात् मन से संवाद की अवस्था में होता है तो आस्वादक इस चेतना में व्याप्त होने वाले अर्थ को अपने रागात्मक संस्कारों के अनुसार ग्रहण करता है।

रसनिष्पत्ति में आस्वादक के संस्कारों की कितनी महत्वपूर्ण भूमिका है, इसके बारे में आचार्य भरतमुनि कहते हैं कि -‘‘ भिन्न-भिन्न स्वभाव के लोग होते हैं। किसी को कोई शिल्प अच्छा लगता है, किसी को कोई नेपथ्य तो किसी को कोई वाक्चेष्टा। तरुण लोग काम में तुष्टि खोजते हैं, विदिग्ध लोग दार्शनिकता का पुट चाहते हैं, अर्थ परायण अर्थ की इच्छा करते हैं, विरागी मोक्ष से तुष्ट होते हैं, शूरवीर वीभत्स रौद्र और युद्ध प्रदर्शन में रमते हैं तो वृद्ध लोग धर्माख्यानों में।’’[11]

आचार्य भरतमुनि के उक्त तथ्यों के प्रकाश में यह बात एक दम साफ हो जाती है कि भिन्न-भिन्न स्वभावों से बने हमारे रागात्मक संस्कार ही हमारे आत्म को संतुष्टि प्रदान करते हैं। इस प्रकार रसानुभूति निस्संदेह आस्वादक के लिये ‘आत्मीयकरण’ की एक प्रक्रिया है। हम हृदय संवादी अर्थ से संवेदनात्मक रसानुभूति से तभी सिक्त हो सकते हैं जबकि काव्य में वर्णित आलम्बनों का धर्म अर्थात् आत्म, हमारे आत्म में बिना किसी द्वन्द्व या विरोध के सहज रूप से घुलनशील हो।

काम में तुष्टि पाने वाले तरुणजन विराग या मोक्ष के काव्य से जिस प्रकार संवेदनात्मक रसानुभूति नहीं प्राप्त कर सकते, ठीक उसी प्रकार विरागी लोगों को काव्य का कामरूप सारहीन महसूस होगा। स्वभाव का संबन्ध चूकि हमारी जीवनदृष्टि से है और यह जीवनदृष्टि हमारे उन निर्णयों की देन होती है जो हमें निश्चित रागात्मकता के साथ लौकिक या अलौकिक सम्बन्ध बनाने के लिये प्रेरित करती है। अतः यह कहना अप्रासंगिक न होगा कि अगर तरुणजनों के राग का विषय काम, अर्थ-परायणों के राग का विषय अर्थ, विरागी का मोक्ष तो वृद्ध लोगों के राग का विषय धर्माख्यान होता है तो उनके इसी राग में रस कैसा है या कितना है, इस प्रश्न से महत्वपूर्ण यह प्रश्न है कि काव्य के आस्वादक का आत्म अर्थात् उसकी रागात्मक चेतना किस प्रकार की है? और उस रागात्मक चेतना में काव्य की रागात्मकता किस प्रकार विलय हो रही है? अर्थात काव्य को वह आत्मसात् किस प्रकार कर रहा है? काव्य के आत्मीयकरण की क्रिया कभी-कभी इतनी प्रबल होती है कि आस्वादक मात्र जो देख रहा है या अनुभव कर रहा है, रसानुभूति यही तक सीमित नहीं रहती, आस्वादक काव्यनाटक के घटनाक्रम से आगे भी घटित होने वाले घटनाक्रम को कल्पना में अनुमान के आधार पर भोगते हुए रससिक्त हो सकता है।

मुझे अच्छी तरह याद है जब ‘समाज को बदल डालो’ फिल्म देख रहा था तो उसके अन्तिम दृष्यों में अपने मृत आदर्शवान, सिद्धान्तवादी पति के जीवनमूल्यों में जीने वाली नायिका गलत मूल्यों के साथ जब समझोतों-भरी जि़न्दगी को जीने से बेहतर खुद को और अपने बच्चों को मौत के हवाले करना ज्यादा उचित समझती है और चावलों में जहर मिला देती है। जब वह चावलों में जहर मिला रही होती है तो यह सोचकर कि अब नायिका के साथ-साथ इसके बच्चों का भी प्राणान्त हो जायेगा, मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और बिलख कर रोने लगा। मेरे रोने की आवाज सुनकर आसपास के दर्शक अपनी-अपनी कुर्सियों से खड़े होकर यह तलाशने लगे कि इस तरह कौन रो रहा है। जब मेरी आंख खुली तो पाया कि बच्चे तो ज़हर खाकर मर चुके हैं और नायिका पर बच्चों की हत्या करने के आरोप में अदालत में मुकदमा चल रहा है।

यह नायिका के साथ दर्शक के आत्मीयकरण का एक ऐसा उदाहरण है, जिसमें नायिका का आत्म अर्थात् उसकी आदर्शों, सिद्धान्तों और जीवनमूल्यों की रागात्मकता दर्शक की रागात्मकता बन जाती है और उसी रागात्मकता की हत्या होते हुए देखकर वह इतना करुणाद्र हो जाता है कि फिल्म के भावी दृष्यों का आस्वादन करने के बजाय वह अपनी आंखें मूंदकर कल्पना में आगामी दृष्यों को इस विचार से प्राप्त ऊर्जा अर्थात् भावावेश के साथ भोग लेता है कि ‘उफ़ अब नायिका और उसके बच्चों का प्राणांत हो जायेगा।’

बहरहाल उक्त प्रकरण से कई नये तथ्य उजागर होते हैं-

1. ‘समाज को बदल डालो’ फिल्म की नायिका यदि दृश्य है तो आस्वादक दृष्टा। दृश्य के भीतर यदि गहरी निःशब्दता के बीच अपने तथा अपने बच्चों को मृत्यु के हवाले कर देने का विचार घनीभूत है तो दृष्टा के मन में यह विचार पूरी तरह व्याप्त है कि ‘यह बहुत बड़ा अनिष्ट होने जा रहा है और ऐसा नहीं होना चाहिए’। नायिका और उसके स्वयं के बच्चों की रक्षा के विचार से घनीभूत दृष्टा चूंकि सिर्फ दृष्टा है, इस नाते वह दृष्य की रक्षा किसी प्रकार नहीं कर सकता, अतः उसमें स्थायी भाव शोक का निर्माण होता है और उसका समूचा व्यक्तित्व करुणाप्रद होकर नेत्रों का माध्यम से अश्रु के रूप में प्रकट होता है। इस प्रकार हम पाते हैं कि जो रसावस्था दृश्य की है, दृष्टा की कदापि नहीं। दृष्य मृत्यु की ओर उन्मुख है जबकि दृष्ट रक्षा और शोक की ओर।

डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी कहते हैं कि ‘‘भट्टनायक को साधारणीकरण की धारणा का विश्लेषण करते हुए हमारी दृष्टि सबसे पहले त्रत्रत्रत्रपर ठहरती है। एक तो ‘निज निविड-मोह-संकटकता निवारण और दूसरे तेज भावादि के वैशिष्ट्य का तिरोहन। निजनिवड़मोह से सीधा-सीधा तात्पर्य अपने सबके सबसे निचले स्तर पर लिपटे..... से, उसकी संकटता निवारण का अर्थ हुआ उससे मुक्ति अर्थात् संकुचित ‘स्व’ के बन्धनों से ऊपर उठना | यही वस्तुतः सत्व का उद्रेक है। भट्टनायक के ‘विभावादि के वैशिष्टय’ को शंका की दृष्टि से देखते हुए डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी लिखते हैं कि ‘‘काव्यादि में विभावादि के वैशिष्ट्य का तिरोहन असिद्ध होता है। कवि जो अनेक विधि गुणों और अलंकारों सहारा लेता है या नट वाचिक, आहर्य आदि अभिन्न का सहारा लेता है, वह क्या इसलिये कि देश काल था, पात्रों के विशेषताएं दूर हो जायें या इसलिये कि उनकी विशिष्टताएं उभरकर सहृदय तक सामने आयें? हमारी समझ में तो वह विशिष्टताओं को उभारने के लिये ही कला का सहारा लेता है?[12]

डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी के उक्त कथन से इतना तो स्पष्ट है ही कि भट्टनायक की साधारणीकरण सम्बन्धी धारणा अतार्किक है। विभावादि के वैशिष्ट्य का तिरोहन’ होने का मतलब यह है कि आलम्बन एक जड़वस्तु बन जाये। ‘समाज को बदल डालो’ फिल्म कोई जड़ वस्तु नहीं है और न कोई नाट्य-प्रस्तुति जड़ वस्तु होती है। पात्रों की विशेषताओं के तिरोहित होने का अर्थ तो यह हुआ कि आलम्बन मात्र एक पुतला महसूस हो। अगर आलम्बन पुतला बन जायेगा तो हम उसकी अनुभावविहीन काया से कैसे कोई अर्थ ग्रहण कर रसानुभूति से सिक्त नही हो सकेंगे?

यही कारण है कि आचार्य रामचन्द्र शुक्ल अगर साधारणीकरण मानते भी हैं तो आलम्बन के धर्म का साधरणीकरण मानते हैं। जबकि आलम्बन के धर्म का साधरणीकरण नहीं आत्मीयकरण होता है। इस बात के पुष्टि के लिये ‘समाज को बदल डालो’ फिल्म का पुनः उदाहरण उठाया जाये तो फिल्म के आस्वादक के व्यक्तित्व का ‘स्व’ नायिका के व्यक्तित्व अर्थात् ‘पर’ में समाहित होकर और ममत्व और परस्त के बन्धनों से मुक्ति पाकर रसानुभूति को प्राप्त नहीं होता बल्कि नायिका के आत्म अर्थात् रागात्मकता का विलय जब आस्वादक के आत्म् अर्थात् उसकी रागात्मक चेतना में होता है, तभी फिल्म का आस्वादक रसानुभूति से घनीभूत होता है। ‘स्व’ का ‘पर’ में समाहित का नाम ही आत्मीयकरण है। आत्मीयकरण की इस प्रक्रिया में आस्वादक ममत्व और परत्व बन्धनों से मुक्त नहीं होता बल्कि सारा का सारा परत्व-ममत्व विलय होकर आस्वादक को रसानुभूति से सिक्त करता है।

यह आस्वादक का फिल्म ‘समाज को बदला डालो’ की नायिका से संवेदनात्मक जुड़ाव का ही परिणाम है कि नायिका अपने ईमानदार और स्वाभिमानी पति की मृत्यु के उपरांत जब उसकी सन्तान को भूख और गरीबी से त्रस्त होकर ढकेल से समोसे चुराकर खाते हुए देखती है तो उसे लगता है कि उसके पति के स्वाभिमानी और ईमानदार चरित्र की हत्या हो रही है और इससे बचने का एक ही उपाय है बच्चों सहित स्वयं की सदा-सदा के लिये इस संसार से विदाई। जब फिल्म के आस्वादक के हृदय अर्थात् मन में सारी त्रासद परिस्थिति, संवाद की स्थिति में पहुंचती है तो उसका मन इस अर्थ से आच्छादित हो जाता है कि- उफ़ नायिका और उसके बच्चे नायक की मृत्यु के उपरांत किस प्रकार दुखी और भूख से विलख रहे हैं। भूख मनुष्य को किस प्रकार चोरी जैसे अपराध की ओर उन्मुख कर देती है।’’

दुःख, भूख और चोरी का यह विचार ही उसे लगातार शोकग्रस्त करता चला जाता है। जब चीजें, घटनाएं, परिस्थितियां हमारे अनुकूल या अनुरूप नहीं होते हैं तो हमें दुःख तनाव और शोक देते हैं। ठीक यही स्थिति ‘समाज को बदल डालो’ फिल्म के आस्वादक की है। फिल्म में जो कुछ घटित होता है। वह आस्वादक के आत्म के अनुरूप न होने के कारण उसे लगातार शोकग्रस्त करता चला जाता है। आस्वादक जब फिल्म के अन्तिम दृष्यों में नायिका को बच्चों सहित आत्महत्या के प्रयासों में रत देखता है तो उसकी शोकाकुल अवस्था अविरल अश्रुधरा का रूप ग्रहण कर लेती है।

1.-ना.शा. 7/7

2. ना.शा. अध्याय-6,पृष्ठ 93

3.-ना.शा. अध्याय-6, पृष्ठ 92

4.हिं. अ. भा. पृष्ठ 515

5.-रस सिद्धांत, पृष्ठ 24

6. वही

7. वही पृष्ठ 15

8. वही , डॉ. नगेन्द्र पृष्ठ 155

9. ना.शा. पृष्ठ 93

10. रस सिद्धांत, डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी, पृष्ठ 64

11.- ना.शा. 27/ 55-57-58

12.- रस सिद्धांत, डॉ. ऋषिकुमार चतुर्वेदी, पृष्ठ 85-86

--------------------------------------------------------------

+रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001

मो.-9634551630

टिप्पणियाँ

ब्लॉगर

-----****-----

-----****-----

|नई रचनाएँ_$type=list$au=0$label=1$count=5$page=1$com=0$va=0$rm=1

.... प्रायोजक ....

-----****-----

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

~ विधा/विषय पर क्लिक/टच करें : ~

* कहानी  || * उपन्यास || * हास्य-व्यंग्य  || * कविता  || * आलेख  || * लोककथा  || * लघुकथा  || * ग़ज़ल  || * संस्मरण  || * साहित्य समाचार  || * कला जगत  || * पाक कला  || * हास-परिहास  || * नाटक  || * बाल कथा  || * विज्ञान कथा  ||  * समीक्षा  ||

---***---


|आपके लिए कुछ चुनिंदा रचनाएँ_$type=complex$count=8$src=random$page=1$va=0$au=0

नाम

 आलेख ,1, कविता ,1, कहानी ,1, व्यंग्य ,1,14 सितम्बर,7,14 september,6,15 अगस्त,4,2 अक्टूबर अक्तूबर,1,अंजनी श्रीवास्तव,1,अंजली काजल,1,अंजली देशपांडे,1,अंबिकादत्त व्यास,1,अखिलेश कुमार भारती,1,अखिलेश सोनी,1,अग्रसेन,1,अजय अरूण,1,अजय वर्मा,1,अजित वडनेरकर,1,अजीत प्रियदर्शी,1,अजीत भारती,1,अनंत वडघणे,1,अनन्त आलोक,1,अनमोल विचार,1,अनामिका,3,अनामी शरण बबल,1,अनिमेष कुमार गुप्ता,1,अनिल कुमार पारा,1,अनिल जनविजय,1,अनुज कुमार आचार्य,5,अनुज कुमार आचार्य बैजनाथ,1,अनुज खरे,1,अनुपम मिश्र,1,अनूप शुक्ल,14,अपर्णा शर्मा,6,अभिमन्यु,1,अभिषेक ओझा,1,अभिषेक कुमार अम्बर,1,अभिषेक मिश्र,1,अमरपाल सिंह आयुष्कर,2,अमरलाल हिंगोराणी,1,अमित शर्मा,3,अमित शुक्ल,1,अमिय बिन्दु,1,अमृता प्रीतम,1,अरविन्द कुमार खेड़े,5,अरूण देव,1,अरूण माहेश्वरी,1,अर्चना चतुर्वेदी,1,अर्चना वर्मा,2,अर्जुन सिंह नेगी,1,अविनाश त्रिपाठी,1,अशोक गौतम,3,अशोक जैन पोरवाल,14,अशोक शुक्ल,1,अश्विनी कुमार आलोक,1,आई बी अरोड़ा,1,आकांक्षा यादव,1,आचार्य बलवन्त,1,आचार्य शिवपूजन सहाय,1,आजादी,3,आदित्य प्रचंडिया,1,आनंद टहलरामाणी,1,आनन्द किरण,3,आर. के. नारायण,1,आरकॉम,1,आरती,1,आरिफा एविस,5,आलेख,3862,आलोक कुमार,2,आलोक कुमार सातपुते,1,आशीष कुमार त्रिवेदी,5,आशीष श्रीवास्तव,1,आशुतोष,1,आशुतोष शुक्ल,1,इंदु संचेतना,1,इन्दिरा वासवाणी,1,इन्द्रमणि उपाध्याय,1,इन्द्रेश कुमार,1,इलाहाबाद,2,ई-बुक,337,ईबुक,192,ईश्वरचन्द्र,1,उपन्यास,257,उपासना,1,उपासना बेहार,5,उमाशंकर सिंह परमार,1,उमेश चन्द्र सिरसवारी,2,उमेशचन्द्र सिरसवारी,1,उषा छाबड़ा,1,उषा रानी,1,ऋतुराज सिंह कौल,1,ऋषभचरण जैन,1,एम. एम. चन्द्रा,17,एस. एम. चन्द्रा,2,कथासरित्सागर,1,कर्ण,1,कला जगत,105,कलावंती सिंह,1,कल्पना कुलश्रेष्ठ,11,कवि,2,कविता,2810,कहानी,2136,कहानी संग्रह,245,काजल कुमार,7,कान्हा,1,कामिनी कामायनी,5,कार्टून,7,काशीनाथ सिंह,2,किताबी कोना,7,किरन सिंह,1,किशोरी लाल गोस्वामी,1,कुंवर प्रेमिल,1,कुबेर,7,कुमार करन मस्ताना,1,कुसुमलता सिंह,1,कृश्न चन्दर,6,कृष्ण,3,कृष्ण कुमार यादव,1,कृष्ण खटवाणी,1,कृष्ण जन्माष्टमी,5,के. पी. सक्सेना,1,केदारनाथ सिंह,1,कैलाश मंडलोई,3,कैलाश वानखेड़े,1,कैशलेस,1,कैस जौनपुरी,3,क़ैस जौनपुरी,1,कौशल किशोर श्रीवास्तव,1,खिमन मूलाणी,1,गंगा प्रसाद श्रीवास्तव,1,गंगाप्रसाद शर्मा गुणशेखर,1,ग़ज़लें,489,गजानंद प्रसाद देवांगन,2,गजेन्द्र नामदेव,1,गणि राजेन्द्र विजय,1,गणेश चतुर्थी,1,गणेश सिंह,4,गांधी जयंती,1,गिरधारी राम,4,गीत,3,गीता दुबे,1,गीता सिंह,1,गुंजन शर्मा,1,गुडविन मसीह,2,गुनो सामताणी,1,गुरदयाल सिंह,1,गोरख प्रभाकर काकडे,1,गोवर्धन यादव,1,गोविन्द वल्लभ पंत,1,गोविन्द सेन,5,चंद्रकला त्रिपाठी,1,चंद्रलेखा,1,चतुष्पदी,1,चन्द्रकिशोर जायसवाल,1,चन्द्रकुमार जैन,6,चाँद पत्रिका,1,चिकित्सा शिविर,1,चुटकुला,71,ज़कीया ज़ुबैरी,1,जगदीप सिंह दाँगी,1,जयचन्द प्रजापति कक्कूजी,2,जयश्री जाजू,4,जयश्री राय,1,जया जादवानी,1,जवाहरलाल कौल,1,जसबीर चावला,1,जावेद अनीस,8,जीवंत प्रसारण,130,जीवनी,1,जीशान हैदर जैदी,1,जुगलबंदी,5,जुनैद अंसारी,1,जैक लंडन,1,ज्ञान चतुर्वेदी,2,ज्योति अग्रवाल,1,टेकचंद,1,ठाकुर प्रसाद सिंह,1,तकनीक,30,तक्षक,1,तनूजा चौधरी,1,तरुण भटनागर,1,तरूण कु सोनी तन्वीर,1,ताराशंकर बंद्योपाध्याय,1,तीर्थ चांदवाणी,1,तुलसीराम,1,तेजेन्द्र शर्मा,2,तेवर,1,तेवरी,8,त्रिलोचन,8,दामोदर दत्त दीक्षित,1,दिनेश बैस,6,दिलबाग सिंह विर्क,1,दिलीप भाटिया,1,दिविक रमेश,1,दीपक आचार्य,48,दुर्गाष्टमी,1,देवी नागरानी,20,देवेन्द्र कुमार मिश्रा,2,देवेन्द्र पाठक महरूम,1,दोहे,1,धर्मेन्द्र निर्मल,2,धर्मेन्द्र राजमंगल,2,नइमत गुलची,1,नजीर नज़ीर अकबराबादी,1,नन्दलाल भारती,2,नरेंद्र शुक्ल,2,नरेन्द्र कुमार आर्य,1,नरेन्द्र कोहली,2,नरेन्‍द्रकुमार मेहता,9,नलिनी मिश्र,1,नवदुर्गा,1,नवरात्रि,1,नागार्जुन,1,नाटक,90,नामवर सिंह,1,निबंध,3,नियम,1,निर्मल गुप्ता,2,नीतू सुदीप्ति ‘नित्या’,1,नीरज खरे,1,नीलम महेंद्र,1,नीला प्रसाद,1,पंकज प्रखर,4,पंकज मित्र,2,पंकज शुक्ला,1,पंकज सुबीर,3,परसाई,1,परसाईं,1,परिहास,4,पल्लव,1,पल्लवी त्रिवेदी,2,पवन तिवारी,2,पाक कला,22,पाठकीय,62,पालगुम्मि पद्मराजू,1,पुनर्वसु जोशी,9,पूजा उपाध्याय,2,पोपटी हीरानंदाणी,1,पौराणिक,1,प्रज्ञा,1,प्रताप सहगल,1,प्रतिभा,1,प्रतिभा सक्सेना,1,प्रदीप कुमार,1,प्रदीप कुमार दाश दीपक,1,प्रदीप कुमार साह,11,प्रदोष मिश्र,1,प्रभात दुबे,1,प्रभु चौधरी,2,प्रमिला भारती,1,प्रमोद कुमार तिवारी,1,प्रमोद भार्गव,2,प्रमोद यादव,14,प्रवीण कुमार झा,1,प्रांजल धर,1,प्राची,348,प्रियंवद,2,प्रियदर्शन,1,प्रेम कहानी,1,प्रेम दिवस,2,प्रेम मंगल,1,फिक्र तौंसवी,1,फ्लेनरी ऑक्नर,1,बंग महिला,1,बंसी खूबचंदाणी,1,बकर पुराण,1,बजरंग बिहारी तिवारी,1,बरसाने लाल चतुर्वेदी,1,बलबीर दत्त,1,बलराज सिंह सिद्धू,1,बलूची,1,बसंत त्रिपाठी,2,बातचीत,1,बाल कथा,327,बाल कलम,23,बाल दिवस,3,बालकथा,50,बालकृष्ण भट्ट,1,बालगीत,9,बृज मोहन,2,बृजेन्द्र श्रीवास्तव उत्कर्ष,1,बेढब बनारसी,1,बैचलर्स किचन,1,बॉब डिलेन,1,भरत त्रिवेदी,1,भागवत रावत,1,भारत कालरा,1,भारत भूषण अग्रवाल,1,भारत यायावर,2,भावना राय,1,भावना शुक्ल,5,भीष्म साहनी,1,भूतनाथ,1,भूपेन्द्र कुमार दवे,1,मंजरी शुक्ला,2,मंजीत ठाकुर,1,मंजूर एहतेशाम,1,मंतव्य,1,मथुरा प्रसाद नवीन,1,मदन सोनी,1,मधु त्रिवेदी,2,मधु संधु,1,मधुर नज्मी,1,मधुरा प्रसाद नवीन,1,मधुरिमा प्रसाद,1,मधुरेश,1,मनीष कुमार सिंह,4,मनोज कुमार,6,मनोज कुमार झा,5,मनोज कुमार पांडेय,1,मनोज कुमार श्रीवास्तव,2,मनोज दास,1,ममता सिंह,2,मयंक चतुर्वेदी,1,महापर्व छठ,1,महाभारत,2,महावीर प्रसाद द्विवेदी,1,महाशिवरात्रि,1,महेंद्र भटनागर,3,महेन्द्र देवांगन माटी,1,महेश कटारे,1,महेश कुमार गोंड हीवेट,2,महेश सिंह,2,महेश हीवेट,1,मानसून,1,मार्कण्डेय,1,मिलन चौरसिया मिलन,1,मिलान कुन्देरा,1,मिशेल फूको,8,मिश्रीमल जैन तरंगित,1,मीनू पामर,2,मुकेश वर्मा,1,मुक्तिबोध,1,मुर्दहिया,1,मृदुला गर्ग,1,मेराज फैज़ाबादी,1,मैक्सिम गोर्की,1,मैथिली शरण गुप्त,1,मोतीलाल जोतवाणी,1,मोहन कल्पना,1,मोहन वर्मा,1,यशवंत कोठारी,8,यशोधरा विरोदय,2,यात्रा संस्मरण,18,योग,3,योग दिवस,3,योगासन,2,योगेन्द्र प्रताप मौर्य,1,योगेश अग्रवाल,2,रक्षा बंधन,1,रच,1,रचना समय,72,रजनीश कांत,2,रत्ना राय,1,रमेश उपाध्याय,1,रमेश राज,26,रमेशराज,8,रवि रतलामी,2,रवींद्र नाथ ठाकुर,1,रवीन्द्र अग्निहोत्री,4,रवीन्द्र नाथ त्यागी,1,रवीन्द्र संगीत,1,रवीन्द्र सहाय वर्मा,1,रसोई,1,रांगेय राघव,1,राकेश अचल,3,राकेश दुबे,1,राकेश बिहारी,1,राकेश भ्रमर,5,राकेश मिश्र,2,राजकुमार कुम्भज,1,राजन कुमार,2,राजशेखर चौबे,6,राजीव रंजन उपाध्याय,11,राजेन्द्र कुमार,1,राजेन्द्र विजय,1,राजेश कुमार,1,राजेश गोसाईं,2,राजेश जोशी,1,राधा कृष्ण,1,राधाकृष्ण,1,राधेश्याम द्विवेदी,5,राम कृष्ण खुराना,6,राम शिव मूर्ति यादव,1,रामचंद्र शुक्ल,1,रामचन्द्र शुक्ल,1,रामचरन गुप्त,5,रामवृक्ष सिंह,10,रावण,1,राहुल कुमार,1,राहुल सिंह,1,रिंकी मिश्रा,1,रिचर्ड फाइनमेन,1,रिलायंस इन्फोकाम,1,रीटा शहाणी,1,रेंसमवेयर,1,रेणु कुमारी,1,रेवती रमण शर्मा,1,रोहित रुसिया,1,लक्ष्मी यादव,6,लक्ष्मीकांत मुकुल,2,लक्ष्मीकांत वैष्णव,1,लखमी खिलाणी,1,लघु कथा,238,लघुकथा,862,लघुकथा लेखन पुरस्कार आयोजन,24,लतीफ घोंघी,1,ललित ग,1,ललित गर्ग,13,ललित निबंध,18,ललित साहू जख्मी,1,ललिता भाटिया,2,लाल पुष्प,1,लावण्या दीपक शाह,1,लीलाधर मंडलोई,1,लू सुन,1,लूट,1,लोक,1,लोककथा,326,लोकतंत्र का दर्द,1,लोकमित्र,1,लोकेन्द्र सिंह,3,विकास कुमार,1,विजय केसरी,1,विजय शिंदे,1,विज्ञान कथा,62,विद्यानंद कुमार,1,विनय भारत,1,विनीत कुमार,2,विनीता शुक्ला,3,विनोद कुमार दवे,4,विनोद तिवारी,1,विनोद मल्ल,1,विभा खरे,1,विमल चन्द्राकर,1,विमल सिंह,1,विरल पटेल,1,विविध,1,विविधा,1,विवेक प्रियदर्शी,1,विवेक रंजन श्रीवास्तव,5,विवेक सक्सेना,1,विवेकानंद,1,विवेकानन्द,1,विश्वंभर नाथ शर्मा कौशिक,2,विश्वनाथ प्रसाद तिवारी,1,विष्णु नागर,1,विष्णु प्रभाकर,1,वीणा भाटिया,15,वीरेन्द्र सरल,10,वेणीशंकर पटेल ब्रज,1,वेलेंटाइन,3,वेलेंटाइन डे,2,वैभव सिंह,1,व्यंग्य,1932,व्यंग्य के बहाने,2,व्यंग्य जुगलबंदी,17,व्यथित हृदय,2,शंकर पाटील,1,शगुन अग्रवाल,1,शबनम शर्मा,7,शब्द संधान,17,शम्भूनाथ,1,शरद कोकास,2,शशांक मिश्र भारती,8,शशिकांत सिंह,12,शहीद भगतसिंह,1,शामिख़ फ़राज़,1,शारदा नरेन्द्र मेहता,1,शालिनी तिवारी,8,शालिनी मुखरैया,6,शिक्षक दिवस,6,शिवकुमार कश्यप,1,शिवप्रसाद कमल,1,शिवरात्रि,1,शिवेन्‍द्र प्रताप त्रिपाठी,1,शीला नरेन्द्र त्रिवेदी,1,शुभम श्री,1,शुभ्रता मिश्रा,1,शेखर मलिक,1,शेषनाथ प्रसाद,1,शैलेन्द्र सरस्वती,3,शैलेश त्रिपाठी,2,शौचालय,1,श्याम गुप्त,3,श्याम सखा श्याम,1,श्याम सुशील,2,श्रीनाथ सिंह,6,श्रीमती तारा सिंह,2,श्रीमद्भगवद्गीता,1,श्रृंगी,1,श्वेता अरोड़ा,1,संजय दुबे,4,संजय सक्सेना,1,संजीव,1,संजीव ठाकुर,2,संद मदर टेरेसा,1,संदीप तोमर,1,संपादकीय,3,संस्मरण,658,संस्मरण लेखन पुरस्कार 2018,128,सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन,1,सतीश कुमार त्रिपाठी,2,सपना महेश,1,सपना मांगलिक,1,समीक्षा,703,सरिता पन्थी,1,सविता मिश्रा,1,साइबर अपराध,1,साइबर क्राइम,1,साक्षात्कार,15,सागर यादव जख्मी,1,सार्थक देवांगन,2,सालिम मियाँ,1,साहित्य समाचार,60,साहित्यम्,2,साहित्यिक गतिविधियाँ,185,साहित्यिक बगिया,1,सिंहासन बत्तीसी,1,सिद्धार्थ जगन्नाथ जोशी,1,सी.बी.श्रीवास्तव विदग्ध,1,सीताराम गुप्ता,1,सीताराम साहू,1,सीमा असीम सक्सेना,1,सीमा शाहजी,1,सुगन आहूजा,1,सुचिंता कुमारी,1,सुधा गुप्ता अमृता,1,सुधा गोयल नवीन,1,सुधेंदु पटेल,1,सुनीता काम्बोज,1,सुनील जाधव,1,सुभाष चंदर,1,सुभाष चन्द्र कुशवाहा,1,सुभाष नीरव,1,सुभाष लखोटिया,1,सुमन,1,सुमन गौड़,1,सुरभि बेहेरा,1,सुरेन्द्र चौधरी,1,सुरेन्द्र वर्मा,62,सुरेश चन्द्र,1,सुरेश चन्द्र दास,1,सुविचार,1,सुशांत सुप्रिय,4,सुशील कुमार शर्मा,24,सुशील यादव,6,सुशील शर्मा,16,सुषमा गुप्ता,20,सुषमा श्रीवास्तव,2,सूरज प्रकाश,1,सूर्य बाला,1,सूर्यकांत मिश्रा,14,सूर्यकुमार पांडेय,2,सेल्फी,1,सौमित्र,1,सौरभ मालवीय,4,स्नेहमयी चौधरी,1,स्वच्छ भारत,1,स्वतंत्रता दिवस,3,स्वराज सेनानी,1,हबीब तनवीर,1,हरि भटनागर,6,हरि हिमथाणी,1,हरिकांत जेठवाणी,1,हरिवंश राय बच्चन,1,हरिशंकर गजानंद प्रसाद देवांगन,4,हरिशंकर परसाई,23,हरीश कुमार,1,हरीश गोयल,1,हरीश नवल,1,हरीश भादानी,1,हरीश सम्यक,2,हरे प्रकाश उपाध्याय,1,हाइकु,5,हाइगा,1,हास-परिहास,38,हास्य,58,हास्य-व्यंग्य,69,हिंदी दिवस विशेष,9,हुस्न तबस्सुम 'निहाँ',1,biography,1,dohe,3,hindi divas,6,hindi sahitya,1,indian art,1,kavita,3,review,1,satire,1,shatak,3,tevari,3,undefined,1,
ltr
item
रचनाकार: आत्मीयकरण-1 / रमेशराज
आत्मीयकरण-1 / रमेशराज
https://lh3.googleusercontent.com/-JPfck_2E7gg/WASMiBGoNBI/AAAAAAAAwfo/Mu_R7RvsEgg/s400/%25255BUNSET%25255D.jpg
https://lh3.googleusercontent.com/-JPfck_2E7gg/WASMiBGoNBI/AAAAAAAAwfo/Mu_R7RvsEgg/s72-c/%25255BUNSET%25255D.jpg
रचनाकार
http://www.rachanakar.org/2017/04/1_17.html
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/
http://www.rachanakar.org/2017/04/1_17.html
true
15182217
UTF-8
सभी पोस्ट लोड किया गया कोई पोस्ट नहीं मिला सभी देखें आगे पढ़ें जवाब दें जवाब रद्द करें मिटाएँ द्वारा मुखपृष्ठ पृष्ठ पोस्ट सभी देखें आपके लिए और रचनाएँ विषय ग्रंथालय SEARCH सभी पोस्ट आपके निवेदन से संबंधित कोई पोस्ट नहीं मिला मुख पृष्ठ पर वापस रविवार सोमवार मंगलवार बुधवार गुरूवार शुक्रवार शनिवार रवि सो मं बु गु शु शनि जनवरी फरवरी मार्च अप्रैल मई जून जुलाई अगस्त सितंबर अक्तूबर नवंबर दिसंबर जन फर मार्च अप्रैल मई जून जुला अग सितं अक्तू नवं दिसं अभी अभी 1 मिनट पहले $$1$$ minutes ago 1 घंटा पहले $$1$$ hours ago कल $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago 5 सप्ताह से भी पहले फॉलोअर फॉलो करें यह प्रीमियम सामग्री तालाबंद है चरण 1: साझा करें. चरण 2: ताला खोलने के लिए साझा किए लिंक पर क्लिक करें सभी कोड कॉपी करें सभी कोड चुनें सभी कोड आपके क्लिपबोर्ड में कॉपी हैं कोड / टैक्स्ट कॉपी नहीं किया जा सका. कॉपी करने के लिए [CTRL]+[C] (या Mac पर CMD+C ) कुंजियाँ दबाएँ