शुक्रवार, 14 अप्रैल 2017

व्यंग्य / वोट न आवे ईवीएम टेढ़ा / विवेक रंजन श्रीवास्तव

vivekranjan.vinamra@gmail.com

बचपन में कभी न कभी "खेलेंगे या खेल बिगाड़ेंगे " का नारा बुलंद किया ही होगा आपने. मैंने भी किया है. मेरी समझ में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का यह पहला प्रयोग बड़ा सफल रहा था. मुझे मेरी बड़ी बहन ने वापस चोर सिपाही के खेल में शामिल कर लिया था. यह और बात है कि कई दिनों बाद मुझे पता चल ही गया  कि इस तरह का शोर मचाने पर माँ की घुड़की से बचने के लिये मुझे "दूध भात" खिलाड़ी के रूप में खिलाया जाता था. मतलब मैं अपने आप में ही फुदकता रहता था खेल पर मेरे प्रयासों का कोई असर नहीं माना जाता था. यानी कुछ कुछ एक्स्ट्रा खिलाड़ी जैसी औकात बना दी जाती थी , छोटे से प्यारे से नन्हें से अपन की. खैर समय भाप की तरह उड़ता गया और हम बच्चे से बड़े बनते गये.

ये और बात है कि आज तक "बड़े" बन नहीं पाये हैं , और यह भी और बात ही है कि लोग अपने को बड़े साहब वगैरह मानते हैं कभी जभी जब ड्राइवर हमें बड़ा मानता है तो कार का दरवाजा खोल देता है , जब कभी मुख्य अतिथि बनाकर कोई संस्था किसी आयोजन में बुला लेती है तो पत्नी जानबूझकर मुझे समय से कुछ विलंब से घर से रवाना करती है , और सचमुच अपने पहुंचते ही जब आयोजक लेने के लिये कार की ओर बढ़ते हैं या सभा कक्ष में  उपस्थित लोग खड़े होकर अपन को कथित सम्मान देते हैं तब भी बड़े होने की भ्रांति पालने में बुरा नहीं लगता. पर जल्दी ही मैं अपने आप को नैतिक शिक्षा के पाठ याद दिला देता हूं और मन ही मन भगवान से प्रार्थना करता हूं  कि हे प्रभु मुझे मैं ही बना दे , ये बड़े बड़े के चक्कर में कहीं ऐसा न हो कि न घर का रहूं और न ही घाट का.

  स्कूल में हिंदी में अपने भरपूर नम्बर आते थे. जो यह लेख पढ़ रहे हों उनके लिये अपनी सफलता का राज डिस्क्लोज कर  रहा हूं , निबंध में लोकप्रिय कवियों की पंक्तियां जरूर उद्धृत करता था और मौका मिल जाये तो गीता या राम चरित मानस से भी कोई उद्धरण कोट कर देता था. महात्मा गांधी और भारतीय संस्कृति के कुछ महत्वपूर्ण नायकों की जीवनियां मैंने एक्स्ट्रा करीक्युलर रूप से पढ़ रखी थीं ,  तो उसमें से भी कुछ कोट कर देने पर निबंध में भी मास्साब पूरे नम्बर दे देते थे.  मैं अपने उत्तरों में कहावतों तथा मुहावरों का भरपूर प्रयोग किया करता था.  नाच न आवे आंगन टेढ़ा ,  न नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी , खिसियानी बिल्ली खम्भा नोंचे , अंगूर खट्टे हैं वगैरह मुहावरों की याद है न आपको !

देश में ईवीएम को लेकर  कुछ उन खिलाड़ियों ने  उछल कूद लगा रखी है जो खेल नहीं पा रहे हैं. उनकी काठ की हांडी दो एक बार चढ़कर राख हो चुकी है. अब जनता के सामने अपना काला मुंह छिपाने के लिये मजबूरी में उन्होंने राग ई वी एम छेड़ रखा है. चोर चोर मौसेरे भाईयों की तरह ऐसे सारे हारे हुये महारथी एक हो गये हैं. यदि ये हारे हुये धुरंधर देर आये दुरुस्त आये को चरितार्थ करते हुये अभी भी जनता के मत को स्वीकार कर लें तो बुरा नहीं. चुनाव आयोग भी कम नहीं है. आयोग ने ताल ठोंककर खुली चुनौती दे दी है , जिसने अपनी माँ का दूध पिया हो वो किसी  मशीन में हेरा फेरी करके दिखाये. और इसके लिये स्वयंवर जैसा कोई आयोजन किया जा रहा है. राजनीति का चीरहरण वगैरह जारी है. देखना है क्या होता है , खोदा पहाड़ निकली चुहिया जैसा ही  कुछ  होगा या जहां आग होती है , धुंआ वहीं उठता है की तर्ज पर कुछ गड़बड़ी भी मिलेगी ?   कुछ गड़बड़ी न मिली तो हम चुनाव आयोग का लोहा मान लेंगे.   फिलहाल उठा पटक जारी है. देखें ऊंट किस करवट बैठता है.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------