बुधवार, 19 अप्रैल 2017

गर्मागर्म हाइकु / गरमी ,धूप ,लू ,घाम ,ताप / सुशील शर्मा

हाइकु -86
गरमी ,धूप ,लू ,घाम ,ताप
सुशील शर्मा

तपा अम्बर
झुलस रही क्यारी
प्यासी है दूब।

[ads-post]

सुलगा रवि
गरमी में झुलसे
दूब के पांव।

काटते गेहूं
लथपथ किसान
लू की लहरी।

रूप की धूप
दहकता यौवन
मन की प्यास।

डूबता वक्त
धूप के आईने में
उगता लगे।

सूरज तपा
मुंह पे चुनरिया
ओढ़े गोरिया।

प्यासे पखेरू
भटकते चौपाये
जलते दिन।

खुली खिड़की
चिलचिलाती धूप
आलसी दिन।

सूखे हैं खेत
वीरान पनघट
तपती नदी।

बिकता पानी
बढ़ता तापमान
सोती दुनिया।

ताप का माप
ओजोन की परत
हुई क्षरित।

जागो दुनिया
भयावह गरमी
पेड़ लगाओ।

सुर्ख सूरज
सिसकती नदिया
सूखते ओंठ।

जलते तृण
बरसती तपन
झुलसा तन।

तपते रिश्ते
अंगारों पर मन
चलता जाए।

दिन बटोरे
गरमी की तन्हाई
मुस्काई शाम।

4 blogger-facebook:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 20 अप्रैल 2017 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाइकू अपनी सुन्दर छटा के साथ समय की हलचल बिखेर रहे हैं। इस विधा में रूचि रखने वालों को सीखने का पर्याप्त भण्डार है इस रचना में। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर ! रचना प्रकृति में तालमेल होना आवश्यक है। आभार

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------