रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

रुद्राभिषेक / लघुकथा / सुशील शर्मा

एक बहुत बड़े संत का धार्मिक आयोजन हो रहा था।पूरे शहर में पोस्टर बैनर पटे पड़े थे।बहुत बड़ा यज्ञ था।सारे मंत्री विधायक यज्ञ की देख रेख में लगे थे।हर दिन लाखों मिट्टी के शिवलिंग बना कर शिवार्चन हो रहा था।

आसपास के खेतों से टनों मिट्टी लाई जा रही थी।आसपास के सभी विल्ब के पेड़ शमी के पेड़ों की शाखाएं तोड़ कर लाई जा रही थी।

मेरे आंगन के बिल्ब और शमी का पेड़ भी नही बचा पाया।सभी अपने वाले आ गए कहने लगे भाई साहब पुण्य का काम है मना मत कीजिये।

मैं चुपचाप बिल्ब और शमी के पेड़ को लुटते हुए असहाय सा देख रहा था।

मैदान में रुद्राभिषेक चल रहा था।मैं अनमना सा खड़ा था।तभी चमत्कार हुआ और मैने देखा कि उस ठूंठ से विल्ब के पेड़ पर शिव जी क्रोधित मुद्रा में बैठे हैं।

मैंने डरते हुए पूछा *प्रभु आप यहां आप को तो मैदान में होना चाहिए।*

प्रभु गुस्से में बोले जहां प्रकृति का विनाश करके मेरी पूजा हो वहां पर मैं नही हो सकता।

मैंने कहा प्रभु मैं धन्य हुआ जो आपने मुझे दर्शन दिए।

*"मैं तुम्हे दर्शन देने नही तुम्हे चेतावनी देने आया हूँ।*

*अगर इसी तरह तुम लोग दिखावे में आकर मेरे नाम पर प्रकृति का विनाश करते रहे तो वो दिन दूर नही जब मनुष्य नाम का जीव इस पृथ्वी पर नही बचेगा*।भगवान शिव ने मुझे दुत्कारते हुए कहा।

मैं भय से थरथर कांप रहा था।उन्होंने लगभग लताड़ते हुए कहा"

जाओ और उस पंडाल वाले बाबा से कह दो *"मैं इस दिखावे की प्रकृति विनाश ओर समय बर्बाद वाली पूजा से प्रसन्न नही हो सकता।अगर मुझे पाना हो तो प्रकृति को बचाओ,पौधे लगाओ,पानी बचाओ।क्योंकि मेरी आत्मा प्रकृति में बसती है।"*

इतना कह कर भगवान शिव अंतर्ध्यान हो गए।पंडाल से बुलावा आ गया कि महाराज जी शिव अभिषेक के लिए बुला रहें है।


पंडित मंत्र उच्चारित कर रहे थे"त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्र च त्रिधायुतम्।त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम्।" 

शिव अभिषेक में शिव जी पर बिल्ब पत्र चढ़ाते हुए हर विल्ब पत्र में मुझे शिव जी का क्रोधित चेहरा नजर आ रहा था।
*
विषय:
रचना कैसी लगी:

एक टिप्पणी भेजें

सुशील शर्मा जी बधाई

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget