गर्मागर्म हाइकु / प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
हाइकु :
गर्मी/ग्रीष्म/धूप/तपन/घाम
~~~~~~~~~~~~~~
01. करारी धूप
कड़कने लगी है
री ! गर्मी आई ।
☆☆☆

.

02. धूप से धरा
दरकने लगी है
बढ़ी जो ताप ।
☆☆☆

.

03. सूर्य की आग
ग्रीष्म की प्रखरता
बढ़े संताप ।
☆☆☆

.

04. गर्मी प्रखर
प्रणय से खिलता
गुलमोहर ।
☆☆☆

.

05. धूप की आँच
देता अमलतास
पंछी को छाँह ।
☆☆☆

.

06. रवि धधका
धूप में तप कर
झुलसी धरा ।
☆☆☆

.

07. मन गुलाब
झुलसती धूप ने
जलाये ख्वाब ।
☆☆☆

.

08. मीठा सा जल
ले आया तरबूज
मन शीतल ।
☆☆☆

.

09. जेठ-बैशाख
जल की पूजा करें
शीतल ख्वाब ।
☆☆☆

.

10. लू की तपन
झुलस रही धरा
चाह सावन ।
☆☆☆

.

☆☆
□ प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
मो.नं. 7828104111

-----------

-----------

0 टिप्पणी "गर्मागर्म हाइकु / प्रदीप कुमार दाश "दीपक""

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.