गरमी की कविता / ठंडा है मटके का पानी (बाल कविता) / सुशील कुमार शर्मा

-----------

-----------

image

ठंडा है मटके का पानी
(बाल कविता)
सुशील कुमार शर्मा

गरम धूप में शोर मचाएं
मुन्नू टिल्लू रोते आएं
माँ नानी उनको पुचकारे
जोर जोर से हंसती रानी
ठंडा है मटके का पानी

गई परीक्षा गर्मी आई
नानी ने मंगवाई मिठाई।
धमा चौकड़ी करते भाई।
नानी की न कोई सानी
ठंडा है मटके का पानी।

पुस्तक कापी कौन पढ़े अब।
बच्चों के पीछे हैं पड़े सब।
मौका ऐसा किसे मिले कब।
अब तो छुक छुक रेल चलानी।
ठंडा है मटके का पानी।

शहर छोड़ नानी घर आये।
कूद नदी में खूब नहाए।
पत्थर मार आम गिराए।
नानी से सब सुनी कहानी।
ठंडा है मटके का पानी।

नानी का घर स्वर्ग के जैसा
मिलती मस्ती मिलता पैसा
नाना है तो अब डर कैसा।
नानी जैसा न कोई दानी।
ठंडा है मटके का पानी।

-----------

-----------

0 टिप्पणी "गरमी की कविता / ठंडा है मटके का पानी (बाल कविता) / सुशील कुमार शर्मा"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.