रविवार, 28 मई 2017

प्राची-अप्रैल 2017–हास्य-व्यंग्य विशेषांक : व्यंग्य लोकतंत्र की हत्या पीयूष पांडेय

लीजिए फिर संसद के पूरे सत्र की हंगामे के बीच हत्या हो गई है. खुलेआम. मजे की बात यह है कि हत्या करने वाला हर पक्ष कह रहा है कि हत्या हो गई है लेकिन लोकतंत्र की. मैंने एक संविधान विशेषज्ञ से पूछा- जनाब बताइए, क्या वास्तव में लोकतंत्र की हत्या हो गई है या ‘अटेम्प्ट टू मर्डर’ वाला मामला भर है.

संविधान विशेषज्ञ जानकार आदमी थे. बोले- देखिए देश में हर रोज कम से कम 50 बार लोकतंत्र की हत्या होती है. कम से कम इस तरह की खबरें आती हैं कि छत्तीसगढ़ के छोटे से गांव से लेकर संसद के भीतर तक लोकतंत्र की हत्या हो गई है. लेकिन लोकतंत्र का आज तलक शव नहीं मिल पाया है. बस इसी चक्कर में लोकतंत्र को मृत घोषित नहीं किया जा पा रहा है. यू नो बेनिफिट ऑफ डाउट. मैंने मूर्खों की श्रेणी में खुद को खड़ा करते हुए पूछा- क्या किसी आरटीआई से जाना जा सकता है कि हर साल कितनी बार लोकतंत्र की हत्या होती है. आजकल तो हर बात आरटीआई से ही जानी जाती है. सरकार बताती नहीं है और उत्साही आरटीआई कार्यकर्ता नेता के कुत्ते पर किए खर्च से लेकर नहाने के साबुन पर किए खर्च तक को पता करके ही दम लेते हैं.

[ads-post]

संविधान विशेषज्ञ मेरी नादानी पर मुस्कुराए. बोले- देखो, ये मामला जटिल है. कुछ ऐसा कि लोकतंत्र खुद संविधान से बाहर निकलकर अगर आरटीआई डाले और पूछे कि बताइए मेरी कितनी बार हत्या हुई है तो उसे भी इस प्रश्न का उत्तर ये कहते हुए नहीं बताया जाएगा कि यह देश की सुरक्षा से जुड़ा मसला है. अलबत्ता लोकतंत्र को गिरफ्तार किया जा सकता है.

मैं कन्फ्यूज था. सांसद हर सुबह नारेबाजी करते हुए, हाथों में तख्तियां लिए हुए, कभी बापू की प्रतिमा के सामने तो कभी सदन के भीतर ताल ठोंक के कहते हैं कि लोकतंत्र की हत्या हो रही है. और मुझे पता नहीं चल पा रहा है कि कैसे और कौन हत्या कर रहा है. और अब लोकतंत्र बच पाएगा या नहीं.

मैं वास्तव में कन्फ्यूज हूं कि सांसदों के हंगामे से लोकतंत्र की हत्या हुई या बांहों पर कालीपट्टी बांधने से या स्पीकर के घर के बाहर प्रदर्शन से. या फिर उस दिन लोकतंत्र की हत्या हुई जिस दिन निर्भया का सामूहिक बलात्कार हुआ और सभ्य समाज के रूप में हम उसे बचा नहीं पाए.

या फिर उस दिन लोकतंत्र की हत्या हुई जिस दिन दो ट्रेनें एक ही जगह पर दो अलग अलग ट्रैक पर ट्रैक से उतर गईं और 29 लोगों की मौत आंकड़ा बन गई. ट्रेनें इसलिए उतर गईं क्योंकि ट्रैक की पेट्रोलिंग हो नहीं रही थी और बाद में कहा गया कि प्राकृतिक आपदा की वजह से ट्रैक के नीचे से मिट्टी बह गई. या लोकतंत्र की हत्या उस दिन हुई, जिस दिन पाकिस्तान में बैठी एक गूंगी बहरी भारतीय लड़की की सुध भारतीय अधिकारियों ने इसलिए ली क्योंकि बजरंगी भाईजान फिल्म के बाद अचानक वो लड़की सुर्खियों में आ गई थी. यानी फिल्म नहीं आती तो वो लड़की गुमनामी में पड़ी रहती. कुल मिलाकर समझ नहीं पा रहा कि किस दिन लोकतंत्र की कायदे से हत्या हुई. वैसे, इससे सहमत हूं कि हत्या हुई. निकृष्टता की तोप से, धूर्तता की बंदूक से और छल कपट के बमों से लोकतंत्र की हत्या हुई है. काश! लोकतंत्र की हत्या पर ठप पड़ी संसद दो मिनट का मौन भी रखे.

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------