गुरुवार, 18 मई 2017

गुरु रामदास की कृपा से बाँझ बनी तेजस्वी पुत्र की माँ / रमेशराज

-----------------------------------------------------------------

गुरु रामदास जी अपने विचारो से दृढ़, अद्भुत संगठनकर्ता और पारखी महापुरुष थे। वह छूआछूत, भेदभाव ऊंच-नीच, जाति-पांत में विश्वास नहीं रखते थे। गुरु रामदास ने ही अमृतसर की स्थापना की थी जो गुरुजी के समय में रामदास नगर कहलाता था। गुरुजी परमात्मा-स्वरूप थे। उन्होंने अनेक सरोवरों का निर्माण कराया। बावली बनवायी। गुरु जी के बताये रास्ते पर चलने वाले गुरु रामदास पवित्र आचरण की प्रतिभूर्ति थे।

एक बार फिरोजपुर के मालवे नामक गांव का एक जाट आदम जो पीर-फकीरों को बहुत मानता था, अपनी पुत्र-प्राप्ति की इच्छा को लेकर गुरु रामदास के चरणों में गिर गया। गुरुजी ने अपनी अंतर्दृष्टि से उस जाट की आन्तरिक पीड़ा को तुरंत पहचान लिया। उसे अपने चरणों से उठाकर गले लगाते हुए उन्होंने कहा-‘‘ गुरुनानकजी गद्दी की सेवा करते रहो, तुम्हारी हर इच्छा पूर्ण होगी।’’

[ads-post]

गुरु के चक की सेवा में वह जाट और उसकी पत्नी दिन-रात जुट गये। वे दोनों गुरु का ध्यान करते हुए रोज जंगल से सूखी लकड़ी इकट्ठी करते और लंगर में दे आते।

एक बार सर्दियों में भयंकर बरसात हुई। सूखी लड़की भी गीली हो गयीं। सिख-संगत की इस बढ़ती परेशानी को देख उस जाट ने अपने घर जमा समस्त सूखी लकडि़यां संगत में बांट दीं। सर्दी से ठिठुरते लोग सूखी लकड़ी पाकर अत्यंत प्रसन्न हुए। संगत ने जाट के इस कार्य की प्रशंसा जब गुरुजी से की तो गुरुजी उस जाट के प्रति अत्यंत प्रसन्न हुए। गुरुजी ने उससे कहा-‘‘तूने संगत को बहुत खुशी दी है अतः वाहे गुरु तेरी समस्त मनोकामनाओं को पूर्ण करेंगे। कल तू अपनी पत्नी के साथ यहां आना और अपना निवेदन गुरुनानक के चरणों में करना।

दूसरे दिन जाट अपनी पत्नी के साथ गुरु दरबार में आया। गुरुजी को नमन करने के बाद उसने और उसकी पत्नी ने गुरुजी से कहा-‘‘गुरुजी आप तो अन्तर्यामी है। आपको हम क्या बतायें कि हमें क्या कष्ट है।’’

यह सुनकर गुरु रामदास मन ही मन मुस्काये और बोले-‘‘तुम दोनों ने गुरु गद्दी की जो निष्काम सेवा की है, उससे हम अत्यंत प्रसन्न हैं। तुम्हें गुरु-कृपा से केवल पुत्र ही नहीं, ऐसा प्रतापी पुत्र प्राप्त होगा जो आगे चलकर पूरे संसार में अपना नाम रोशन करेगा। अब अपने घर जाओ और सतनाम को स्मरण करो।

इस घटना के उपरांत जाट के घर एक पुत्र ने जन्म लिया। जाट आदम ने गुरुजी से पूछकर उसका नाम भगतू रखा। भगतू ने भक्ति ही नहीं, पराक्रम शौर्य के साथ अपना नाम जग विख्यात बनाया। कैथल के राजा लाल सिंह और ऊधम सिंह भगतू की संतान के रूप में आगे चलकर अत्यंत प्रकाशवान नक्षत्र बने, जिन्होंने महाकवि संतोष सिंह के मार्ग दर्शन में ‘नानक-प्रकाश’ नामक ग्रन्थ लिखवाया।

-----------------------------------------------

सम्पर्क- 15/109, ईसा नगर, अलीगढ़

मोबा.- 9634551630

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------