370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये / रमेशराज

--------------------------------------------------------------------

अपने-अपने धर्म और अलग-अलग ईश्वरों दैव-शक्तियों को लेकर भेद उन्हें ही जान पड़ता है, जो वास्तविकता से परे, अपने अधूरे ज्ञान के बूते फूले नहीं समाते हैं। सच्चे संत के लिये मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा अर्थात् समस्त प्रकार के पूजास्थल भेदहीन ही नहीं, इन सब में एक ही परमात्मा के वास की अलौकिक अनुभूति करता है।

[ads-post]

सिखों के प्रथम गुरु नानक भी उन पहुंचे हुए संतों में से एक थे, जिन्हें सर्वत्र एक ही ईश्वर की लीला दिखायी देती थी। एक बार गुरुजी मुसलमानों के पवित्र स्थान मक्का गये। जब रात हुई तो वे काबे के निकट काबे की तरफ पैर करके सो गये। एक अन्जान व्यक्ति को काबा की ओर पैर कर सोते हुए देखकर वहां का काजी गुस्से से भर उठा। वह लाल-पीला होते हुए बोला-‘‘ तू कौन काफिर है जो खुदा के घर की ओर पैर कर सो रहा है और इस तरह पैर पसार कर सोना खुदा का अपमान है।’’

गुरु नानक बड़े ही सहज और विनम्र भाव के साथ बोले-‘‘ भइया मुझे क्षमा करना, मैं थका-हारा था मुझे यह पता ही नहीं चला कि यह खुदा का घर है, अतः अज्ञानतावश खुदा के घर की ओर पैर करके सो गया।’’

काजी उनकी बात सुनकर और आग बबूला हो गया। उसने आव देखा न ताव गुरुजी के पैर पकड़े और काबे के विपरीत दिशा में घसीट दिये। लेकिन जब उसने देखा कि काबे के विपरीत पैर करने के बावजूद काबा उसी ओर दिखायी पड़ रहा है जिसे ओर नानक जी के पैर हैं तो उसने पुनः गुरु जी के पैरों को विपरीत दिशा में पलट दिया। इस बार भी काजी यह देखकर हैरत में रह गया कि अब भी पैर उसी दिशा में है जिधर खुदा का घर है। काजी ने इस क्रिया को कई बार किया और बार-बार देखा कि काबा उसी ओर घूम जाता है जिसे ओर नानक जी के पैर होते हैं तो वह अचम्भे में आते हुए वहां से मक्का के मुजाहिर के पास चला गया और मुजाहिर को विस्मय के साथ यह सारी घटना बता दी। फिर क्या था, जहां नानक सोये थे, वहां अनेक हाजी इकट्ठे हो गये। वहां के बड़े काजी तुकरुद्दीन, पीर जलालुद्दीन व बहाउद्दीन ने गुरुजी से ढेर सारे सवालों की झड़ी लगा दी। उन सवालों के उत्तर गुरुजी बड़ी ही विनम्रता से एक-एक कर देते रहे। जब सब शंकाहीन और निरुत्तर हो गये तो पीर बहाउद्दीन ने अपने समस्त धार्मिक साथियों को सम्बोधिात करते हुए कहा, ‘‘ ऐसा फकीर है जो हम सबसे ऊपर है। इसके लिए तो समस्त जहान ही खुदा का घर है। ये हम सब पीरों का पीर है जिसे खुदा ने ही हम सबको सच्ची राह दिखाने के लिए भेजा है।’’

पीर बहाउद्दीन के इन बचनों को सुनकर वहां एकत्रित समस्त हाजी पीर नानक के प्रति भक्तिभाव से भर उठे और उन्हें प्रणाम करने के बाद क्षमा-याचना करने लगे। गुरु जी ने सबको सम्बोधित करते हुए कहा-‘‘ गुनाहों और बुरे कामों से तौबा कर, समस्त जगत को समान भाव से देखने वाला और जगत का कल्याण करने वाला ही ईश्वर का सच्चा भक्त होता है। ईश्वर और अल्लाह एक ही हैं।’’

------------------------------------------------------------

सम्पर्क- 15/109,ईसानगर, अलीगढ़

मोबा.- 09359988013

आलेख 4126537368113150632

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव