आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये / रमेशराज

--------------------------------------------------------------------

अपने-अपने धर्म और अलग-अलग ईश्वरों दैव-शक्तियों को लेकर भेद उन्हें ही जान पड़ता है, जो वास्तविकता से परे, अपने अधूरे ज्ञान के बूते फूले नहीं समाते हैं। सच्चे संत के लिये मंदिर, मस्जिद, चर्च, गुरुद्वारा अर्थात् समस्त प्रकार के पूजास्थल भेदहीन ही नहीं, इन सब में एक ही परमात्मा के वास की अलौकिक अनुभूति करता है।

[ads-post]

सिखों के प्रथम गुरु नानक भी उन पहुंचे हुए संतों में से एक थे, जिन्हें सर्वत्र एक ही ईश्वर की लीला दिखायी देती थी। एक बार गुरुजी मुसलमानों के पवित्र स्थान मक्का गये। जब रात हुई तो वे काबे के निकट काबे की तरफ पैर करके सो गये। एक अन्जान व्यक्ति को काबा की ओर पैर कर सोते हुए देखकर वहां का काजी गुस्से से भर उठा। वह लाल-पीला होते हुए बोला-‘‘ तू कौन काफिर है जो खुदा के घर की ओर पैर कर सो रहा है और इस तरह पैर पसार कर सोना खुदा का अपमान है।’’

गुरु नानक बड़े ही सहज और विनम्र भाव के साथ बोले-‘‘ भइया मुझे क्षमा करना, मैं थका-हारा था मुझे यह पता ही नहीं चला कि यह खुदा का घर है, अतः अज्ञानतावश खुदा के घर की ओर पैर करके सो गया।’’

काजी उनकी बात सुनकर और आग बबूला हो गया। उसने आव देखा न ताव गुरुजी के पैर पकड़े और काबे के विपरीत दिशा में घसीट दिये। लेकिन जब उसने देखा कि काबे के विपरीत पैर करने के बावजूद काबा उसी ओर दिखायी पड़ रहा है जिसे ओर नानक जी के पैर हैं तो उसने पुनः गुरु जी के पैरों को विपरीत दिशा में पलट दिया। इस बार भी काजी यह देखकर हैरत में रह गया कि अब भी पैर उसी दिशा में है जिधर खुदा का घर है। काजी ने इस क्रिया को कई बार किया और बार-बार देखा कि काबा उसी ओर घूम जाता है जिसे ओर नानक जी के पैर होते हैं तो वह अचम्भे में आते हुए वहां से मक्का के मुजाहिर के पास चला गया और मुजाहिर को विस्मय के साथ यह सारी घटना बता दी। फिर क्या था, जहां नानक सोये थे, वहां अनेक हाजी इकट्ठे हो गये। वहां के बड़े काजी तुकरुद्दीन, पीर जलालुद्दीन व बहाउद्दीन ने गुरुजी से ढेर सारे सवालों की झड़ी लगा दी। उन सवालों के उत्तर गुरुजी बड़ी ही विनम्रता से एक-एक कर देते रहे। जब सब शंकाहीन और निरुत्तर हो गये तो पीर बहाउद्दीन ने अपने समस्त धार्मिक साथियों को सम्बोधिात करते हुए कहा, ‘‘ ऐसा फकीर है जो हम सबसे ऊपर है। इसके लिए तो समस्त जहान ही खुदा का घर है। ये हम सब पीरों का पीर है जिसे खुदा ने ही हम सबको सच्ची राह दिखाने के लिए भेजा है।’’

पीर बहाउद्दीन के इन बचनों को सुनकर वहां एकत्रित समस्त हाजी पीर नानक के प्रति भक्तिभाव से भर उठे और उन्हें प्रणाम करने के बाद क्षमा-याचना करने लगे। गुरु जी ने सबको सम्बोधित करते हुए कहा-‘‘ गुनाहों और बुरे कामों से तौबा कर, समस्त जगत को समान भाव से देखने वाला और जगत का कल्याण करने वाला ही ईश्वर का सच्चा भक्त होता है। ईश्वर और अल्लाह एक ही हैं।’’

------------------------------------------------------------

सम्पर्क- 15/109,ईसानगर, अलीगढ़

मोबा.- 09359988013

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.