हाइकु रचनाएं / डा. सुरेन्द्र वर्मा

ताना मारते
खिलखिलाते फूल
बेशर्म गर्मी

पानी ग़ायब
ताल का, तालाब का
सूनी आँख का

तेज सूर्य का
सह न पाई धरा
दरारें पडीं

बंद कमरे
दोपहर खामोश
सर्वत्र मौन

अतृप्त मन
प्यासा ही लौट आया
गागर खाली


अंधेरी रात
ढूँढ़ती बिल्ली काली
जो है ही नहीं

भूखे को रोटी
नंगे तन कपड़ा
हरि श्रृंगार

रास्ते में खड़े
दरकिनार न हों
चाहते प्यार

आपकी बातें
थोड़ी सी हाँ, थोड़ा ना
भ्रमित मन


डा. सुरेन्द्र  वर्मा  / १०/१ सर्कुलर रोड / इलाहाबाद -२११००१ (मो. ९६२१२२२७७८) 

1 टिप्पणी "हाइकु रचनाएं / डा. सुरेन्द्र वर्मा"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.