गुरुवार, 11 मई 2017

प्रेम गीत / प्रेम गरल का प्याला / तेजवीर सिंह 'तेज'

संतोष कुमार की कलाकृति 

गीत

जान-बूझकर पी बैठे हम प्रेम-गरल का प्याला जी।

*पत्थर से टकराके दिल को पत्थर ही कर डाला जी।*

मन्दिर मस्जिद गिरजा देखा उसमें कभी शिवाला जी।

प्रीत भरे दिन बीत गए अब नैना उगलें हाला जी।

जान-बूझकर पी.....

 

इश्क़ मुहब्बत प्यार की बातें केवल हमको भाती थीं।

शोख़ हवाएं भी तब उसके प्रेम सन्देशे लाती थीं।

सागर की लहरें भी उसके सुंदर गीत सुनाती थीं।

मनमोहन सी छवि मोहिनी नैनन घनी सुहाती थीं।

*ज्यों साकी के इंतजार में रहती हो मधुशाला जी।*

जान-बूझकर पी.....

 

चाँद-चकोरी सी जोड़ी को देख जमाना जलता था।

दो जोड़ी नयनों के उर में बीज प्रेम का पलता था।

पल भर का भी छोह हृदय को मानो वर्षों सलता था।

झंझावाती-तूफानों में भी दीप प्रीत का जलता था।

*नैनन नेह-सनेह नैन सों नयना नयन उजाला जी।*

जान-बूझकर पी.....

 

*मोहक मधुरिम मधुर मुरलिया मन-मंदिर में बजती थी।*

कान्ह दरश को पलक-पांवड़े बिछा गुजरिया सजती थी।

कृष्ण-करुण कौमार्य कली सी कोर-कोर सों लजती थी।

*राधे जैसी भई दिवानी श्यामा-श्यामा भजती थी।*

*त्रेता युग की जनकसुता को भाई ज्यों मृगछाला जी।*

जान-बूझकर पी.....

 

पावन-प्रीत पुनीत प्रेम-पथ प्रीतम प्यारी हो न सकी।

बिछड़ गयी नैनों की जोड़ी मैं अंधियारी धो न सकी।

सूख गए नयनों के आंसू चाह रही पर रो न सकी।

हृदयतल में दीर्घकाल प्रीतम की छवि संजो न सकी।

*तेज* विरह की पीर जलाये मनु बाती को ज्वाला जी।

जान बूझकर पी बैठे हम प्रेम गरल का प्याला जी।

*पत्थर से टकरा के दिल को पत्थर ही कर डाला जी।*

तेजवीर सिंह 'तेज'

मथुरा 10/5/17✍

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------