आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

-------------------

शब्द संधान / शातिर / डा. सुरेन्द्र वर्मा

एक फिल्म आई थी – ब्यूटी विद ब्रेन (Beauty with Brain) ; हिन्दी फिल्म थी इसलिए उसका उप-शीर्षक “शातिर हसीना” रखा गया था। सभी सुन्दर स्त्रियाँ शातिर नहीं होतीं। लेकिन बेशक कुछ तो होती ही हैं। सीधा सादा आदमी उनके जाल में फंस जाता है। उनके संपर्क में आया नहीं कि गया काम से ! बड़े बड़े बुद्धिमान, ऊंचे पदाधिकारी, यहाँ तक कि घाघ राजनीतिज्ञ तक शातिर हसीनाओं के शिकार बनते देखे गए हैं।

कौन होता है शातिर ? शातिर किसे कहते हैं? दिल्ली के मुख्य मंत्री, केजरीवाल के ऊपर जेटली ने हदक- इज्ज़ती का दावा ठोंक दिया है। केजरीवाल के वकील जेठमलानी ने कोर्ट में कहा कि जेटली बड़े शातिर हैं। जेटली ने पूछा, क्या इस शब्द को इस्तेमाल करने के लिए आपको मुख्य-मंत्री ने अनुमति दी है ? यदि हाँ, तो मैं हदक-इज्ज़ती की रकम दुगनी कर दूँगा। यह वाकया यहाँ सिर्फ इसलिए उद्धृत किया गया है कि शब्द “शातिर” सड़क से संसद और संसद से कोर्ट तक आ पहुंचा है। हर छोटे-बड़े शब्द का भला यह भाग्य कहाँ ?

[ads-post]

शातिर मूलत: अरबी भाषा का शब्द है। हिन्दी में इसे कुछ इतनी आत्मीयता से अपना लिया है कि हिन्दी जगत में वह हिन्दी का ही हो कर रह गया हैं। हिन्दी में धृष्ट और ढीठ व्यक्ति को शातिर कहा जाता है। शातिर चालाक और चालबाज़ आदमी होता है। वह बेशक बहुत होशियार और बुद्धिमान होता है लेकिन उसका शातिर दिमाग गलत कामों में ही चलता है। लूटपाट करने वाले, अपराध करने वाले, चोर और जालसाजों को शातिर कहा गया है। वे गलत काम तो करते ही हैं पर बड़ी बुद्धिमानी से करते हैं, बड़े शातिराना अंदाज़ से उन्हें अंजाम देते हैं। समाचार पत्रों में कुछ इस प्रकार के शीर्षक आसानी से देखने को मिल जाते हैं – “शातिरों की तलाश में दबिश”; “चार बाइक के साथ दो शातिर पकडे गए”; “दो लाख एंठने वाला शातिर गिरफ्तार”; “तीन शातिर जालसाज़ चढ़े पुलिस के हत्थे”; “शातिर चोरों के गिरोह का पता चला”; “अप्पे से उड़ा लिए शारिरों के लाखों के गहने”; “तीन साइबर शातिर अपराधी गिरफ्तार”; “शातिर लुटेरों के आगे पुलिस नतमस्तक”; “ जाली नोटों का कारोबार करनेवाला शातिर गिरफ्तार”; “पुलिस वर्दी में ठगी करने वाला शातिर धर दबोचा गया”|

शातिर केवल अपराध के क्षेत्र में ही नहीं होते। अन्य क्षेत्रों में भी शातिरों की कमी नहीं हैं। शतरंज के माहिर खिलाड़ी “शातिर” कहलाते हैं। वस्तुत: जब आप किसी भी क्षेत्र में महारत हासिल कर लेते हैं तो शातिर हो जाते हैं। सचिन तेंदुलकर किकेट के एक शातिर खिलाड़ी रहे हैं। अपराधी भी शातिर इसीलिए कहलाते हैं क्योंकि अपराध करने में वे माहिर होते हैं।

शातिराना अंदाज़ में चंचलता और शोखी का समावेश भी रहता है। कोई भी महिला जब दिलों को अपनी चंचल और शोख अदाओं से जीत्त लेती है तब उसकी पहचान यदि एक शातिर हसीना की तरह हो जाए तो कोई आश्चर्य नहीं ! तेज़ और फुर्तीले नौकर को भी तो “शातिरजाद:” कहा गया है !

अंग्रेज़ी में शातिर के लिए “क्रुक” (crook ) शब्द है। जेठमलानी ने जेटली के लिए शायद इसी शब्द का प्रयोग किया था। rascal, vile, cunning, mischievous, roguish, sly, vicious आदि अंग्रेज़ी के शब्द ‘शातिर’ के लगभग समानार्थी शब्द हैं। लेकिन यदि हम शातिर, शब्द, अंग्रेज़ी में लिखना चाहें तो उसकी स्पेलिंग बहुत कुछ वही होंगीं जो ‘satire’ की होती हैं। अंग्रेज़ी पड़ने-लिखने वाले इसीलिए अक्सर शातिर और satire में घपला कर बैठते हैं। satire, शातिर न होकर, तंज या कटाक्ष है। जब की शातिर में कटाक्ष की ध्वनि बिलकुल नदारद है।

शातिर हसीना, शातिर अपराधी और शातिर खिलाड़ी ही नहीं होते, शातिर दिमाग और शातिर अंदाज़ भी होते हैं। शातिर तरीके और ढंग भी होते हैं। ये दिखाई नहीं देते लेकिन अपना काम बड़ी सफाई से कर जाते हैं

--डा. सुरेन्द्र वर्मा (मो. ९६२१२२२७७८)

१०, एच आई जी / १, सर्कुलर रोड / इलाहाबाद -२११००१

टिप्पणियाँ

  1. शातिर हसीना, शातिर अपराधी और शातिर खिलाड़ी ही नहीं होते, शातिर दिमाग और शातिर अंदाज़ भी होते हैं। शातिर तरीके और ढंग भी होते हैं। ये दिखाई नहीं देते लेकिन अपना काम बड़ी सफाई से कर जाते हैं।
    इस पैराग्राफ से बड़ी आसानी से शातिर का विभिन्न अर्थों में प्रयोग समझ में आया।सुंदर लेख।मनीषा।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.