शुक्रवार, 2 जून 2017

व्यंग्य : फेल, पास, फर्स्ट क्लास और टॉपर्स / शेफाली पाण्डे

आज नंबरों की इस आपा - धापी के बीच अगर मुझे अपना ज़माना याद आ रहा है तो बच्चे मेरी हंसी उड़ाने लग जा रहे हैं | उस ज़माने में फर्स्ट आना ही मुश्किल होता था और नब्बे प्रतिशत अंक तो सपने में भी नहीं सोच सकते थे | पर मेरा ज़माना इन अर्थों में अलग था कि कोई बच्चा कम नंबर आने या फेल होने की वजह से समाज में नीचा या ऊंचा नहीं सिद्ध होता था |

मेरे ज़माने में फर्स्ट आने वाले को दूसरे ग्रह का प्राणी मान लिया जाता था | फर्स्ट के घर कोई एक आध ही बधाई देने जाता था | अधिकतर लोग रास्ते चलते ही 'बधाई' उछाल देते थे |

[ads-post]

सेकण्ड या थर्ड वाले गठबंधन वाली सरकार की तरह मिल - जुल कर रहते थे | थर्ड वाला भी कम सम्माननीय नहीं होता था, शान से कहता था '' दो - दो बॉडीगार्ड मिले हैं अगल - बगल | फर्स्ट का क्या है कोई इधर से पिचकाएगा तो कोई उधर से'' | 

बच्चों को आजकल की तरह नंबरों से कोई नहीं तोलता था कि, 'वह देखो उसके 89 % हैं या उसके 92 %आए हैं | बस ' पास हो गए' कह देने भर से ही काम बन जाता था | पूछने वाला समझ जाता था कि फर्स्ट डिवीज़न विथ टू बॉडीगार्ड मिले होंगे | सेकेण्ड आने वाला ज़रूर इत्तिला देता था, 'मैं सेकण्ड आया हूँ''| पचपन प्रतिशत वाला गर्व से सर उठाए कहता था '' गुड़ सेकेण्ड आई है, एक नंबर से फर्स्ट क्लास रुक गई''|  

पूरा मोहल्ला फेल होने वाले को सांत्वना देने आता था | तब लगता था कि फेल होना कितना कठिन काम है | फर्स्ट आने वालों को तो आता ही होगा | वो बिना पढ़े ही फर्स्ट आ जाते होंगे | लेकिन फेल होने वाला, फेल होने के लिए बहुत मेहनत करता होगा | फेल होने वाला भी शान से बताता था, ''बस एक ही नंबर से रह गया'' | अधिकतर फेल होने एक ही नंबर से फेल होते थे |

एक नंबर हमारे समय का महत्वपूर्ण नंबर हुआ करता था |

हमारे समय में फेल होने वाले के लिए बहुत सुविधा थी | घरवाले ढाल बन जाते थे | रिश्तेदार मरहम होते थे | पड़ोसी कवच का कार्य करते थे | 

फेल होने वाले बच्चों की माएँ मिल - जुलकर दुःख साझा करती थीं |

पहली माँ - ''आजकल तो रट के आ जाती है फर्स्ट क्लास | हमारा मुन्ना रट नहीं सकता इसीलिए रह गया | रटना भी किस काम का हुआ जब समझ में ही नहीं आ रहा है | रटने वाला तो तोता होता है | हमारा मुन्ना पाठ को अच्छी तरह समझने में यकीन रखता है | वैसे इंटेलीजेंट तो बहुत है हमारा मुन्ना | बस मेहनत ही नहीं करता | ज़रा मेहनत कर लेता तो सीधे टॉप करता | कौन सी बड़ी बात है टॉप करना''|

''हाँ हाँ बहिन! तुम बिलकुल सही कह रही हो | जिसको देखो उसके ही ढेर सारे नंबर आ जा रहे हैं | भला यह भी क्या बात हुई ? नंबर न हुए मुफ्त का माल हो गया | हमारे ज़माने में तो दस - दस साल तक फर्स्ट क्लास नहीं आती थी किसी की | सेकेण्ड आने वाले को ही फर्स्ट की जैसी इज़्ज़त मिलती थी''|

दूसरी माँ - ''नक़ल हो रही थी खुलेआम |  हमारे मुन्ना ने बताया | मुन्ना सीधा - साधा हुआ | नक़ल नहीं करूँगा कहा उसने चाहे फेल हो जाऊं |

प्रेक्टिकल में भी कम नंबर दिए टीचर ने | थियोरी में तो फुल थे | मुन्ने से चिढ़ता था टीचर | ट्यूशन नहीं पढ़ा इसीलिए कम नंबर दिए''|

''सही कहती हो बहिन ! नक़ल का सहारा कब तक लेंगे | इस साल नहीं तो अगले साल लुढ़क जाएंगे | ऊपर वाला कहीं न कहीं हिसाब बराबर कर ही देता है'' |

सारी माएं ऊपर की ओर देखने लगती थीं | ऊपर वाला निश्चित रूप से इतनी जोड़ी आँखों को अपनी ओर ताकता देखकर डर जाता होगा कि अभी तो हिसाब - किताब का पिछला बैकलॉग ही नहीं निपटा और नया काम आ गया | 

तीसरी माँ - ''अपना मुन्ना तो ऐन एग्जाम के समय बीमार पड़ गया था | उसकी बचपन से ही किस्मत खराब हुई | मैंने तो मना भी किया कि मत देने जा पेपर | माना ही नहीं | अरे ! तबीयत ज़्यादा ज़रूरी है कि एग्जाम | लड़खड़ाते हुए एग्जाम देने गया | दो जनों ने इसे पकड़ा और कुर्सी पर बैठाया | अब ऐसे में क्या पास होता ? हमने भी कहा '' कम से कम एग्जाम तो देने की हिम्मत तो की तूने | हमारे लिए तो यही बहुत बड़ी बात है | हमारा मुन्ना तो चलो बीमार हो गया था लेकिन मार्किन इतनी हार्ड हुई कि मुन्ना के आगे पीछे की सारी लाइन गायब है | सब लुढ़क गए | मुन्ना बता रहा था कि क्लास का सबसे होशियार लड़का, सब जवाब देने वाला भी फेल हो गया ''| 

'' शर्म की बात है बहिन ! मार्किंग करने वालों के अपने बच्चे नहीं होते होंगे क्या जो दूसरों के बच्चों को ऐसे फेल कर दिया''|

चौथी माँ - ''हमारे जेठ की साली का लड़का है बहुत्ती होशियार | बचपन से टॉपर | नौकरी लगी विदेश चला गया | ऐसा हाई - फाई हो गया की माँ - बाप को ही नहीं पूछता | शक्ल भी नहीं दिखाता | फोन भी बहुत मुश्किल से करता है | कहता है काम बहुत है | कम्पनी ने बांड भरवा रखा है कि इतने साल तक यहीं रहना है | मैं तो कहती हूँ कि बच्चों को ज़्यादा अक्लमंद नहीं होने चाहिए | बेवकूफ बच्चा सदा माँ - बाप के साथ रहता है | बुढ़ापे में सेवा करता है | अपना राजू दो बार और फेल हो जाए तो परचून की दुकान खुलवा देंगे उसके लिए | जब मन चाहे बैठे | किसी की धौंस नहीं है कि मन हो न हो काम करना ज़रूरी है |

''बिलकुल सही कह रही हो बहिन | क्या चाहिए हो रहा फिर ऐसा होशियार लड़का | इससे तो अपना बेवकूफ ही भला '' | 

पांचवी माँ -- ये जो मेरा चचेरा देवर है ना ! पता है... यह हाईस्कूल में तीन बार फेल हुआ था | आज कितना बड़ा अफसर बन चुका है, और मेरी जेठानी का छोटा भाई है न वह तो लगातार हर साल हर क्लास में दो - दो साल फेल होता था | रिकॉर्ड हुआ उसका | आज कितना सफल बिज़नसमैन है | इससे भी बड़ा एक और उदाहरण है | मेरे हसबैंड के साथ स्कूल में एक बहुत ही होशियार लड़का होता था | फर्स्ट से नीचे कुछ आता ही नहीं था | आज वह उसी बैंक में कैशियर है जहाँ मेरे हसबैंड रोज़ हज़ारों रुपया जमा करने जाते हैं | बेचारा उन्हें देख कर खिसिया जाता है''|

छठी माँ --बहुत होशियार बच्चों को बाद में डिप्रेशन हो जाता है | बच्चों को ज़्यादा बुद्धिमान नहीं होना चाहिए | याद है न हमारे पड़ोस वाले गिरजा कक्का का सुरेश ! हमेशा हर क्लास में टॉप करता था | बाद में किसी कम्पटीशन में नहीं निकला तो डिप्रेशन में आ गया | मानसिक अस्पताल में भर्ती करना पड़ा | बाद में कुछ ठीक हुआ तो घर ले आए लेकिन वह घर से भी भाग गया | बीस साल हो गए अभी तक न अता न पता | अब क्या करना हुआ ऐसे टॉपर का ? बताओ तो |

'आग लगे ऐसी फर्स्ट क्लास'' |

सातवीं माँ एक फेल लड़की की --''फर्स्ट आए चाहे थर्ड, पकानी सबको रोटियां ही हैं | वैसे भी ज़्यादा होशियार या फर्स्ट आने वाली लड़की ससुराल में हमेशा दुखी रहती है | फेल होने वाली बुद्धू लड़कियां ठाठ करती हैं पति उनकी मुट्ठी में रहता है | सास चूं नहीं करती | ममता को ही देख लो तिवारी जी की, तीन बार में पास हुई हाईस्कूल में | आज देखो ! क्या मज़े से कट रही है | हर महीने नया ज़ेवर खरीदती है और नई साड़ी खरीदती है | अरे ! लड़कियों को तो घर के काम में एक्सपर्ट होना चाहिए'' |

''ससुराल में जो पूछ रहा फर्स्ट क्लास को ''|

''ही ही ही ही'' 

''हा हा हा हा''

''हो हो हो हो''

''खी खी खी खी''


सारी माओं की समवेत हंसी चारों ओर घुल जाया करती थी  |

मोहल्ले के फेल हुए सारे बच्चों की माएँ मिलकर निम्न बिंदुओं पर सहमति की मोहर लगाती थीं -----

'कोई बात नहीं | इस साल रह गया तो अगले साल पास हो जाएगा' | 

'जो होता है अच्छे के लिए होता है | इस साल इसीलिए फेल हुआ होगा ताकि अगले साल फर्स्ट आ पाए' |


'पास - फेल तो लगा ही रहता है'| 

'ज़िंदगी के इम्तहान में फेल नहीं होना चाहिए' |

'फर्स्ट डिवीज़न को चाटना हो रहा क्या ? पास हो जाना चाहिए' |

'सभी पास हो जाएंगे तो फेल कौन होगा' ?

'फर्स्ट आने से ज़्यादा महत्वपूर्ण होता है अच्छा इंसान बनना' |

'फर्स्ट आने वाले या टॉप करने वाले कम्पटीशन में नहीं निकल पाते हैं' |

'जो बचपन में बहुत होशियार होता है बाद में गधा हो जाता है'

'जो शुरू में गधे होते हैं बाद में सफलता के झंडे गाड़ देते हैं'|  

'फर्स्ट आने वाले का मन जल्दी ही पढ़ाई से ऊब जाता है' |

'कौन पूछता है बाद में फर्स्ट आया था कि थर्ड' |

'फर्स्ट आने वाले कौन सा कद्दू में तीर मार देते हैं' ?


माओं की ऐसी बातें सुनकर, आत्महत्या किस चिड़िया का नाम होता है तब के समय में कोई बच्चा नहीं जानता था |

(शेफाली पाण्डे के ब्लॉग से साभार)

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------