रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

परिवार बच्चों की प्रथम पाठशाला / गीता दुबे

माँ बच्चों की प्रथम शिक्षिका और परिवार बच्चों की प्रथम पाठशाला होती है. परिवार में बच्चे जो देखते हैं, जो सुनते हैं उससे ही उनका संस्कार बनता है. देखा गया है कि संस्कारी परिवार के बच्चे संस्कारी ही होते हैं. बच्चे कुम्हार की  गीली मिट्टी की तरह होते हैं, जैसे कुम्हार गीली मिट्टी को सांचे में डालकर जैसा रूप देना चाहता है वैसा रूप दे देता है, उसी तरह बच्चे को भी जिस तरह के सांचे में ढालेंगे वैसा ही उनका व्यक्तित्व होगा.

[ads-post]

यदि माता पिता झूठ बोलते हैं और बच्चों से कहते हैं कि झूठ नहीं बोलना चाहिए  तो बच्चा झूठ बोलेगा ही. बच्चों में अच्छे संस्कार देने के लिए माता पिता को पहले  स्वयं को संस्कारित करना अति आवश्यक है. बचपन में जो संस्कार पड़ जाते हैं वह जीवन भर साथ रहते हैं. लेकिन बदलते परिवेश में परिवार का मतलब सिर्फ पति, पत्नी और बच्चे तक ही सीमित रह गया है. पति पत्नी दोनों ही रेस में भाग रहे हैं और बच्चे  नौकरों और दाईयों के सहारे पल रहे हैं. नौकरों और दाईयों के सहारे पले हुए बच्चे अपनी सारी भावनाओं को दबाने के अभ्यस्त हो जाते हैं . नतीजा बच्चे  मानसिक विकृतियों के शिकार होते पाए जा रहे हैं,  सातवीं या आठवीं कक्षा  के बच्चों द्वारा आत्महत्या  की खबरें भी अब नई नहीं लगती. आपराधिक गतिविधियों का  शिकार होना ,नशा करना  टूटते पारिवारिक सरोकार का ही नतीजा है. यह घोर चिंतन का विषय है.

       बच्चे देश का भविष्य होते हैं. भविष्य में इन्हीं बच्चों पर देश का भार होगा. यह माता पिता का कर्तव्य है कि चाहे जैसा भी माहौल हो वह अपने बच्चों के साथ समय बिताए, घर के बुजुर्गों का सम्मान करे, बच्चे से हर विषय पर खुल कर बातें करें, चर्चा करें, ऐसा करने से बच्चे अपने माता पिता से खुलते हैं, अपनी बातें कहते हैं, अपनी परेशानी बताते है. माता पिता को बच्चे की छोटी से छोटी उपलब्धियों पर खुश होना चाहिए, उनका हौसला बढ़ाना चाहिए, ऐसा करने से बच्चों  का आत्मविश्वास बढ़ता है और वे भविष्य में और बेहतर करने के लिए प्रेरित होते हैं. बच्चों में अच्छे संस्कार रहेंगे तब ही हमारे देश का भविष्य भी उज्ज्वल होगा.

गीता दुबे

जमशेदपुर, झारखण्ड   

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget