आलेख || कविता ||  कहानी ||  हास्य-व्यंग्य ||  लघुकथा || संस्मरण ||   बाल कथा || उपन्यास || 10,000+ उत्कृष्ट रचनाएँ. 1,000+ लेखक. प्रकाशनार्थ रचनाओं का  rachanakar@gmail.com पर स्वागत है

रमेशराज के प्रेमपरक दोहे


तुमसे अभिधा व्यंजना तुम रति-लक्षण-सार
हर उपमान प्रतीक में प्रिये तुम्हारा प्यार |
  

+मंद-मंद मुसकान में सहमति का अनुप्रास
जीवन-भर यूं ही मिले यह रति का अनुप्रास |
  


तुमसे कविता में यमक तुमसे आता श्लेष
तुमसे उपमाएं मधुर तुम रति का परिवेश |
  

तुमसे मिलकर यूं लगे एक नहीं हर बार
सूरज की पहली किरण प्रिये तुम्हारा प्यार |
  

गहरे तम के बीच में तुम प्रातः का ओज
तुमसे ही खिलता प्रिये मन के बीच सरोज |
  

नयन कमल से किन्तु हैं उनके वाण अचूक
बोल तुम्हारे यूं लगें ज्यों कोयल की कूक |
  

और चलाओ मत प्रिये यूं नैनों के वाण
होने को है ये हृदय अब मानो निष्प्राण |
  

तुम प्रत्यय-उपसर्ग-सी तुम ही संधि-समास
शब्द-शब्द वक्रोक्ति की तुमसे बढ़े मिठास |
  

तुम लोकोक्ति-मुहावरा तुम शब्दों की शक्ति
तुमसे गूंगी वेदना पा जाती अभिव्यक्ति |
 

चन्दन बीच सुगंध तुम पुष्पों में बहुरंग
हर पल चंदा से दिपें प्रिये तुम्हारे अंग |
 

छा जाता आलोक-सा मन के चारों ओर
गहरे तम के बीच प्रिय तुम करती हो भोर |
 

कमल खिलें, कलियाँ हंसें तुम वो सुखद प्रभात
तुम्हें देख जल से भरें सूखे हुए प्रपात |
 

तन में कम्पन की लहर प्रिये उठे हर बार
तुमको छूकर ये लगे तुम बिजली का तार |
 

तुम सावन का गीत हो झूला और मल्हार
रिमझिम-रिमझिम बरसता प्रिये तुम्हारा प्यार |
 
     

प्रिये तुम्हें लखि मन खिला, मौन हुआ वाचाल
कुंदन-काया कामिनी कल दो करो निहाल |
   

तू ही तो रति-भाव है, यति गति लय तुक छंद
प्रिय तेरे कारण बसा कविता में मकरंद |
 
------------------------------------------------------------------
रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
Mo.-9634551630

टिप्पणियाँ

----------

10,000+ रचनाएँ. संपूर्ण सूची देखें.

अधिक दिखाएं

ऑनलाइन हिन्दी वर्ग पहेली खेलें

---

तकनीक व हास्य -व्यंग्य का संगम – पढ़ें : छींटे और बौछारें

Google+ Followers

फ़ेसबुक में पसंद/अनुसरण करें

परिचय

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. अपनी रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com

अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

डाक का पता:

रचनाकार

रवि रतलामी

101, आदित्य एवेन्यू, भास्कर कॉलोनी, एयरपोर्ट रोड, भोपाल मप्र 462030 (भारत)

कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.

उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.


इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.