रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

एबॉर्शन / लघुकथा / सुशील शर्मा

रामचन्द्र खरातमल की कलाकृति

रात के 11 बजे थे दरवाजे पर खटखटाहट हुई शुभा ने दरवाजा खोला आनंद खड़ा था। शुभा को लगभग धकेलता हुआ अंदर आया। दोनों बेटियां सो रही थी।

"डॉ से मेरी बात हुई है कल जांच के लिए चलना है,अगर लड़की हुई तो एबॉर्शन की डेट ले लेंगे "आनंद ने लगभग निर्णय सुनाते हुए कहा।

आनंद और शुभा के दो बेटियां थी। जब तीसरी बार शुभा गर्भवती हुई तो शुभा की सास ने स्पष्ट कह दिया था"देख बेटा आनंद मुझे इस बार पोता ही चाहिए वरना मुझ से बुरा कोई नहीं होगा।"

शुभा तीसरी बार बच्चा नहीं चाहती थी किन्तु आनंद और परिवार की जिद के कारण उसे मानना पड़ा।

किन्तु वह एबॉर्शन किसी भी हालत में नहीं चाहती थी अतः उसने आनंद का प्रतिवाद किया।

"चाहे लड़का हो या लड़की मैं एबॉर्शन नहीं कराउंगी।"

पागल हो तीन तीन लड़कियों की पढ़ाई और शादी का खर्च कैसे पूरा होगा।"आनंद ने गुस्से में कहा।

क्यों लड़का होने पर क्या खर्च कम हो जाएगा क्या?  शुभा ने व्यंग करते हुए कहा।

"लड़के से हमारा वंश चलेगा"आनंद ने प्रतिवाद किया लड़कियों का क्या हैं दूसरे का वंश चलाएंगी। साथ में दहेज और देना पड़ेगा।

"अच्छा जब सुरभि दीदी को राष्ट्रपति पुरुष्कार मिला था तो किसका नाम हुआ था। मंच से किसका नाम पुकारा गया था पिताजी का न कि उनके ससुराल वालों का।

पेपर में सुरिभ दीदी के साथ पिताजी की फ़ोटो देख कर आप कितने खुश थे ।आपने ही कहा था देखो मेरी बहिन ने मेरे परिवार मेरे पिता का नाम रोशन कर दिया"शुभा ने आनंद को पुरानी बात याद दिलाई।

आनंद मैं तो अपनी दोनों बेटियों से ही खुश थी किन्तु आपकी जिद के कारण ये बच्चा आया है। अब ये लड़का हो या लड़की उसे अच्छे मन से स्वीकार करो।

शुभा ने आनंद को प्यार से समझाते हुए कहा।

"लेकिन मम्मी--मम्मी कैसे मानेगीं"

मम्मी का भय आनंद के चेहरे से स्पष्ट झलक रहा था।

शुभा ने कहा तुम उसकी चिंता मत करो मैं उनसे बात करूंगी।

रात को शुभा ने अपनी सास से कहा "मम्मी पंडित जी का फोन आया था कह रहे थे कि अगर एबॉर्शन करवाया तो आनंद की जान को खतरा है। राहु मंगल के साथ मारकेश बना है।"

इतना सुनते ही शुभा की सास सकते में आ गई।

नहीं बेटी हम एबॉर्शन नहीं कराएंगे चाहे बेटा हो या बेटी पंडित जी से कहना वो कोई पूजा बगैरा कर दें ताकि मेरे बेटे के ऊपर से ये अलह टल जाए।

लगभग कांपते हुए शुभा की सास ने शुभा से कहा।

"जी मम्मी जी मैं पंडित जी से कह दूंगी" शुभा मन ही मन मुस्करा रही थी।

"कल ये डॉ के पास जाने की कह रहे थे।"

शुभा ने डरते हुए पूछा।

नहीं कोई जरूरत नहीं है डॉ के पास जाने की। लड़का हो या लड़की हमें दोनों मंजूर हैं। सास ने अपना निर्णय सुना दिया।

शुभा सोच रही थी कि हर माँ को उसकी संतान कितनी प्रिय होती है ये उसकी सास ने साबित कर दिया।

--

संपर्क - archanasharma891@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

सच, अपनी पीड़ा ही समझ आती हैं इन्सान को | बढ़िया लघुकथा

सुन्दर लघु कथा. जब अपने पे बीतती है तभी दर्द महसूस होता है.

सुन्दर लघु कथा. जब अपने पे बीतती है तभी दर्द महसूस होता है.

बहुत अच्छी कहानी है।

जो तन लागे सो तन जाने. अपने दर्द के केवल एहसास ने ही सास को झकझोर दिया.

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget