गुरुवार, 6 जुलाई 2017

लघुकथा // *गलतफहमी* // श्रद्धा मिश्रा

landscape 1

आज शाम से ही मौसम में कुछ सुहावनपन था,काले,सफेद बादलों के अनेक तरह के चित्रों से आकाश भरा था। हर तरफ एक अजीब सी गंध थी,गंध या खुशबू?शायद इसे लोग खुशबू ही कहते हैं मगर ये गंध मुझे किसी बीते समय में ले जाती है जब मुझे भी पसंद थी इन फूलों की महक में खो जाना। मगर अब ये खुशबू मेरे लिए मात्र एक गंध थी। कभी कभी घुटन भी होती थी इनसे। इतना सोच ही रही थी कि आवाज आई आज पकौड़े हो जायें क्या? ये आवाज नमन की थी । मैंने सुनते ही कहा हाँ क्यों नहीं? आज नमन का मूड कुछ रूमानी है आज बात कर लेनी चाहिए यही सोच कर मैं पकोड़े बनाने की तैयारी में जुट गई। नमन भी मेरी छोटी छोटी मदद कर रहे थे। मैंने सारे वाक्य मन में दुहरा लिए थे क्या क्या कहना है कहा से शुरू करना है। मैंने कहना शुरू किया नमन ऑफिस में सब ठीक है?


हाँ वहाँ क्या होना है। रोज का वही है काम काम काम और बॉस की किचकिच।
अच्छा!अब तो तुम ऊपर के चैम्बर में हो न?
हाँ।
वहाँ कोई खास दोस्त बना या सब वैसे ही हैं?
नहीं कोई नहीं।
अच्छा!
कुछ देर की खामोशी रही।


फिर मैंने ही कहा पकौड़ों के साथ चाय भी बना लूँ क्या?
अरे जान व्हाई नॉट यस प्लीज।
चाय नाश्ता सब मेज पर रखकर मैंने फिर एक बार नमन को देखा और कहा खा कर बताओ कैसे हैं?
तुम भी बैठो न,मुझे कुछ काम निपटाने है तुम खाओ।
ऐसे भी क्या काम ,बाद में होंगे काम बैठो न । मैं बेमन सी बैठ तो गयी मगर वही सवाल बार बार मन में गुलाटियां ले रहा है। इतना ही सोचते हो तो क्या है ये सब क्यों है किसलिए है और कहते क्यों नहीं हो आखिर संकोच कैसा। कई बार हमने लड़ाईयां की बोलचाल भी बंद रही मगर ऐसा खयाल तो कभी नहीं आया मेरे मन में।
तभी तेज हवा के झोंके से खुली खिड़की ने मेरी सोच में खलल डाल दिया।


अरे ये क्या चाय तो आपने ठंढी कर ली मैं फिर गर्म कर देती हूँ।
नो डिअर इसकी जरूरत नहीं तुम नाश्ता करो ये मैं करता हूँ।
नाश्ता ये नाश्ता मेरे प्रश्नों को नहीं मिटा सकता मुझे कहना ही होगा।
नमन मुझे कुछ बात करनी है
हाँ बोलो
मैं तुम्हें तलाक देना चाहती हूँ।
नमन मुस्कुराये आर यू जोकिंग?वैसे डराने का अच्छा तरीका है।
नहीं ये सच है।
नमन मेरे पास आकर बोले क्यों कोई और पसंद आ गया क्या?
नहीं मैं अकेले रहना चाहती हूँ अब।
मगर यहाँ कौन से हजारों हैं? मैं और तुम बस हम ही तो हैं। और वैसे भी संडे को छोड़ दें तो बाकी दिन तुम अकेली ही तो होती हो।

मगर मुझे अब नितांत अकेलापन चाहिए ।

मगर क्यों? कोई वजह भी तो हो?

वजह है नमन

वही तो मैं जानना चाहता हूँ। प्लीज टेल जान।

वजह है तुम्हारी अलमारी में रखे डिवोर्स पेपर।

व्हाट?तो ये बात है तुमने तो मेरी जान ही निकाल दी।

जान तो मेरी निकली थी इन्हें देखकर अगर यही सब करना है तो इतना दिखावा क्यों? साफ कह दो ।

मगर न कहना चाहता हूँ तो?

तो मैंने ये इल्जाम भी हर बार की तरह अपने सिर लिया तुम नहीं कह सकते मैं कहे देती हूँ।

नमन मुस्कुराते हुए मेरे पास आये और बोले ये तो मैंने कभी सोचा ही नहीं। मेरे हाथों को अपने हाथों में लेकर ऐसे पकड़ा की छोड़ना ही न चाहते हो मुझे। मैंने पूछा फिर ये सब क्या?

तभी बदलो की गर्जना होने लगी मुझे लगा नमन के होंठ हिले मगर मैं सुन नहीं पाई।
फिर नमन और करीब आकर बोले वो निम्मी दी बाहर हैं उनके एक क्लाइंट ने रखने को दिए थे ।

क्या? मैं आवक रह गयी। बाहर तेज बारिश शुरू हो गयी थी नमन बोले आज की बारिश में लगता है सारा शहर धूल जाएगा। मैंने धीरे से कहा और मेरा मन भी।
फिर हम दोनों मुस्कुरा दिए।


श्रद्धा मिश्रा

4 blogger-facebook:

  1. मोहब्बत हर इंसान को आजमाती है ।
    किसी से रूठ जाती है किसी को मुस्कराती है ।
    मोहब्बत खेल ही ऐसा है।
    किसी का कुछ नहीं जाता और किसी की जान चली जाती है।
    App kahani bahut badhiya likhi h heard toching .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोहब्बत हर इंसान को आजमाती है।
    किसी से रूठ जाती है किसी पे मुस्कुराती है।
    मोहब्बत खेल ही ऐसा है।
    किसी का कुछ भी नहीं जाता और किसी की जान चली जाती है।
    App ki kavita bahuta achchhi h ....heart toching..

    उत्तर देंहटाएं
  3. ​सुंदर रचना......बधाई|​​

    आप सभी का स्वागत है मेरे ब्लॉग "हिंदी कविता मंच" की नई रचना #वक्त पर, आपकी प्रतिक्रिया जरुर दे|

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/2017/07/time.html




    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------