ज़िंदगी // कविताएँ // संजीव ठाकुर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

1

बिजली के तारों पर

ऊंचे अटकी, फड़फड़ाती

फटी पतंग होती है

ज़िंदगी

शीत,घाम ,मेह सहती

खत्म हो जाती है ।


2

चक्रवर्ती गणित का

सबसे कठिन सवाल

होती है ज़िंदगी

हल करने में ही

निकल जाती है

पूरी ज़िंदगी ।


3

आकाश में

घर बनाने की कोशिश

ही तो है यह ज़िंदगी

मुर्दा सम्बन्धों की ईंटों को

ढोकर

वहाँ तक पहुँचाना

आसान भी तो नहीं ?


4

बिना दीवारों वाला घर

नफरत की आँधी में

भूल न जाए अपनी चौहद्दी

तो इसे

ज़िंदगी समझ लीजिए ।


5

हवा को सोखने की ताकत

बादल को पी जाने का जज्बा

बिजली को मुट्ठी में बंद करने की कूबत

पछाड़ सकती है

ज़िंदगी के दैत्य को ।


6

टूटी पड़ी है ज़िंदगी

खंडहर के किसी कोने में

कौन इसे उठाएगा ?

श्मशान पहुँचाएगा ?


7

ज़िंदगी की कहानी से

कविता निकल गई देखो ,

आलोचक खड़ा है पास

लुकाठी लेकर

तुम भी चढ़ाओ शूल पाठकगण

इसकी मज़ार पर !


8

मिटाना होता आसान ,

मिटा देता

रबर से

पेंसिल के निशान की तरह

ज़िंदगी !


9

शायद किसी मोड़ पर

मिल जाए

मेरी खोई हुई ज़िंदगी

चिपका हूँ इसीलिए

तुमसे ,

ऐ ! ज़िंदगी ।


10

कुत्ते की दुम होती है

ज़िंदगी

सीधी नहीं होती

हिलती –डुलती रहती है

फिर भी ।


11

एक नाव

अचानक

फँस गई हो दलदल में

कह सकते हैं इसे परिभाषा

ज़िंदगी की !


12

जुआ है ज़िंदगी

खेलना नहीं आया जिसे

हार जाएगा

युधिष्ठिर की तरह !

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "ज़िंदगी // कविताएँ // संजीव ठाकुर"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.