शुक्रवार, 14 जुलाई 2017

व्यंग्य ॥ मुलायम शब्दों में निंदा। ॥ सुशील यादव

अखबारों में रोज पढ़ते-पड़ते एक बात जेहन में जोरो से उतरने लगी कि, लोग कड़े-शब्दों में निंदा क्यों करते हैं?


कड़े-शब्दों में निंदा का फ्लो, पानी के माफिक रहता है| उप्पर से नीचे | सुर्खियां  भी यहीं से बनती  हैं, जब  ऊपर बैठे आदमी की  निदा, नीचे वाला करे | यो सनसनी  नहीं बनती कि मोठे ने पतले को पीट दिया |सनसनी का मसाला तब होता दिखता है जब  लिझझड़ ने ताकतवर को साउथ के फिल्मों की तरह घसीट-घसीट के मारा हो |

मुझे जब किसी भारी भरकम (बीबी को छोड़) के उप्पर, गुस्सा निकालना होता है और नहीं निकाल पाता, तो साउथ की फ़िल्म देख लेता हूँ | दर असल आम जिंदगी में आम-जन किसी एनी बहाने यही रोज करते पाया जाता  है |

हम लोग ,बनिया ,घूसखोर अफसर ,चालाक ठेकेदार और ईमानदार सज्जन नेता को (जैसा एकबारगी  देखने से पता चलता है) किसी कांड में लिप्त होते दिनबदिन देखते हैं| हमारे भीतर अचानक एक मुखी प्रजातंत्रीय सांड का जागरण होता है | हम गुस्से वाला एक्स्ट्रा सींग लगा के, सिंग साहेब हो जाते हैं| हमें लगता है ,हमारे भीतर की कपड़ा फेक्ट्री में सिर्फ लाल रंग के कपड़े का लहराता उत्पादन जोरों से होने  लगता  है | भैस के आगे बीन बजने पर कोई रिएक्शन भले न हो मगर सांड के आगे लाल कपड़े का लहराना तो रिएक्शन का विस्फोट किये जैसा है |


इस  साँड़ को मीडिया वाला सपोर्ट मिल जाए  तो बल्लियों भर  ऊपर की उछल-कूद देखने का सौभाग्य आमजन को मिल जाता है | एक से एक पटखनी, एक से एक बचाव की मुद्राएं |


                इस सांड़ियाये  नागरिक के पास मुलभूत अधिकार की जुबानी याद की हुई कई धाराएं होती हैं |यह अपने से वंचित किये जाने वाले लाभ-दायक बातों की लंबी सूची लिए रहता है जिसे छोटे-छोटे पोस्टर में सेम्बालिक रूप से लिख के प्रदर्शित करता है |


               इन्हें उचकाने वाला इनसे उम्मीद करता है कि ये वंचित लोग अपनी बातों को कड़े-शब्दों में सामने रखें | इन कड़े-शब्दों की आवाज को बुलन्द करने के लिए इनके मुखिया को माइक भी अक्सर पकड़ा देने के रिवाज हैं|


        मैं बिहार के एक शख्श को पिछले पच्चीस-तीस सालों से जानता हूँ | लोग समझते हैं इनको  जुबान के  फिसले की बीमारी है | मुझे ऐसा कदापि नहीं लगता | उनका बोलना-चालना सब सुनियोजित होता है |


        वे घर से रिहल्सल करके आये होते हैं कि कहाँ मसखरी करना है |कहाँ कड़े- शब्दों में अपनी बात कहनी है | लोग कायल रहते हैं |वैसे हिंदुस्तान में कायल रहने की परंपरा बेहद पुरानी है | यहाँ आपने किसी पर ज़रा सी दया या भलमनसाहत की बात कह या कर  दी वे बरसों तक आपके कायल रहेंगे | यहाँ तक ट्रेन-बस में एक आध रोटी और अपनी बॉटल से पानी पिलवा दो तो वे हर यात्रा -प्रवास में आपका नाम सुमिरते रहेंगे | यही कायल-पने के दम पर नेता लोग  भीड़ जुटाने का माद्दा रखते हैं | इस इंतिजाम को पिछले पांच-छह इलेक्शन से बदस्तूर देखने का तजुर्बा हैं |

        हमारी इस बात पर उनसे चर्चा हुई|

             आप हरदम कड़े-शब्दों का सहारा क्यों लेते हैं? और इसमें मसखरी की चाट मिला के जनता को गाहेबगाहे परोसते हैं इसके पीछे का राज क्या है ?


आप मीडिया के सामने लुंगी में आके इंटरव्यू दे डालते हैं | आपको इससे अपने इमेज पर खतरा मंडराता नहीं दिखता |


वो बोले इ सब का बा  .....?

" बहुते सवाल किये हो ससुर के नाती .... अंदाज में वे  आदमी  पहचानने की कोशिश करते हैं ...|"


हमसे दो बात उगलवाते ही समझ जाते हैं  कि हम किसी के 'भेजे' हुए मे से नहीं हैं |

स्वतन्त्र निष्पक्ष 'भेजे' वाले आदमी हैं |

उनको जब ये कतिपय विश्वास हो जाए  , कि अगला उठाईगिरी वाली जमात के नहीं है तो खूब सपाट तौर पर मन की बात कह देते हैं |

-देखिये !कटु-शब्दों में निंदा करने के लिए, उस विषय में आपका पारंगत होना जरूरी है |


हमकू अंग्रेजी तंग थी ,हम वो भी सीखे कि नइ    .... सीखे ना ....?

मतलब कोई हमे बेवकूफ न बनाये इसका इंतिजाम पहले करने का ,बाकी सब बाद में ...|

-पुराणों में कहीं लिखा ही ,देख के पढियेगा , ग्यानी लोग इस कटु-निदा प्रवचन के पहले हकदार माने जाते हैं |


_ पहले जमाने में आमने-सामने शास्त्रार्थ टाइप  के वन डे या ट्वेंटी-ट्वेन्टी हो जाया करते थे  | किस्सा खत्म |


इनाम-इकराम की व्यवस्था होती थी |

हारने पर खतरा मंडराता दिखे, जैसा  कुछ नहीं रहता था |

बातों की गांठ नहीं बांधी जाती थी | दंगल खत्म बात खत्म.... वाला जमाना लद गया समझो |

        हाँ ! ऐक दो चाणक्य किसम के अपवाद तो सर्वत्र व्याप्त रहते हैं |

              ये  आग-बबुलाये हुए गाँठ बाँध के डट जाते थे ,वो  अलग बात है |


        आप जानते हो न ....? आज के दिन में कटु-वचन के पासे उलटे पड़ गए तो, खटाल की सारी कमाई धरी  रह जाने का खतरा मंडरा जाता है | सोई हमारे साथ हो रऔ है |


        वे दार्शनिक तरीके से शून्य में ताकते हुए बोले; -कटु-बच्चन जिसके खिलाप कहना है उसके नैतिक-बल की धुरी का अगर गलत माप या अंदाजा लगा लिया तो वचन-कर्ता के  लुढ़कने की गति का किसी को भी एक-बारगी अंदाज नहीं  आ सकता |ये जान लो …


        कटु-फटू वचन ये सब   पूरी पहलवानी दांव-पेच है अभी सीखने की तुम औरो को जिंदगी पड़ी है |एक  बात तुम भी  जानते हो, हम सोई जानत हैं , कि ढीले स्क्रू कसे हुए, न सायकल चल पाती हैं,न लालटेन की ढिबरी उठती है.....  और न आदमी |इतना जानो अभी हमारा स्क्रू पूरी तरह टाईट है |जरूरत पड़े तो दूसरों की ढीली करने का दम  बाकी है |

     वे ऐठने लगे .......उनके गुस्से को संभाला .......

 

        उनके वजनदार बातों से ज़रा सा भी अहसास नहीं होता था कि , हजारो -करोड़ों के मालिकाना हक़ बना पाने में उन्होंने धुप्पल की बेटिंग की होगी  ....? शर्तिया अच्छी बल्लेबाजी के हुनर दिखा के ,कितनी बार कितने बालरो को बाउंड्री पर करवाये होंगे ? ...


        इन सारी खूबियों के जनक ,हमारे  राजा-भैय्या से जाने कहाँ  चूक हो गई ? गलत समय ,मुलायम शब्दों की जगह कड़े-शब्दों में ताल ठोक बैठे |

अगला बाहर जा-जा के 'ज्ञान-चक्षु-चश्मे'  बटोरने में लगा है,

आप उनसे  खिलाफत कर के, लहर विपरीत तैरने वाले होते कौन हैं ....?


बस किसी तरह फिर आपके अच्छे दिन लौट आएं , आमीन
__

सुशील यादव

न्यू आदर्श नगर दुर्ग (छ.ग.)

susyadav7@gmail.com  ०९४०८८०७४२०

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------