सोमवार, 24 जुलाई 2017

अमरत्व कौन नहीं चाहता भला // जलज कुमार अनुपम की कविताएँ

तीर्थराज झाला की कलाकृति

१. अमरत्व कौन नहीं चाहता भला


किसको इसकी जरूरत नहीं
हर रुह चाहता अमिट होना
अपनी पहचान बनाना
जो स्थापित हो
स्थाई हो
सबकी स्मृति में रहे
दो धारा हैं अमरत्व में
राम बनना है या रावण
दोनों अमर हैं
उदाहरण योग्य हैं
कर्म योगी भी दोनों है
अच्छे बुरे कर्मों का फर्क है
त्याग और स्वहित का अंतर है
त्याग अमरत्व दिलाता हैं
पर इस युग में यह परे हैं
आसान नहीं हैं त्याग
स्व से अलग होना
आपको योगी बनाता हैं
कर्म योगी,सिद्ध योग
त्याग से अमरत्व
एक सफल सफर हैं
त्याग को इस सफर हेतु
मुसाफिर चाहिए
आइए कदम उठाते
थोड़ा त्याग दिखाते हैं
कर भला हो भला का
राग गुनगुनाते हैं।

[ads-post]

२. कुछ बोझ सा


अटक गया है
सावन खफा है
कल सपने में
गाँव आया था
कुछ चेहरे
उसमें उदासीनता
जो मेरे है
और
जिनका सिर्फ मैं हूँ
साथ में बाँसवारी
ब्रह्म बाबा और माटी की खुशबू
पूजा और झंडा मेला की यादें
साथ लाया था
पलायन की भट्ठी में
झुलस रहा हूँ
खुद गुम और खुद से दुर
होता जा रहा हूँ
जिसने सींचा बचपन
बनाया जवान
वह कराह रहा है
मेरी यादों को संजोए
टकटकी लगाए
बाट जोह रहा है
उसे उम्मीद है
मुझे विश्वास है
कुछ करना है उसके लिए
इसका एहसास है
बुलबुले से ख्वाब
मेरे पास और साथ है

३.कल रात


कुछ ख्वाब
चल कर आए थे
पापा के पास
जो उनके थे
वे ख्वाबों के पीठ पर
प्यार भरी
थपथपाहट देकर
विदा कर दिए
बोले
मेरे ख्वाबों की
उम्र निकल चुकी है
कुछ नौजवान सपने है
बढ़ रहे है
उनको बस बढ़ाना है
अपने मिट कर भी
उनको बचाना है

४.घर की ओरीयानी पर


अब बिजली की रोशनाई है
अपने सब दूर हुए
कह रहे विकास आई है
पूर्वजों की विरासत
हमने हँसी मे लुटाई है
गाँव अब पुराना हुआ
शहर में एक कबूतरखाना
हमने कमा कर बसाई है
कुछ खो चुके
कुछ खोते जा रहे है
बस यही हमारी
विकास वाली कमाई है

५.बाहर सावन चल रहा है


एक सावन अंदर भी है
बिस्तर पर तकिए को
भिगो रहा है
काकी के बेटा को परदेश गए
पाँच साल हो गए
कमाने के नाम पर गया था
घर से
और घर ही भूल गया
हर दिन काकी देवता पीतर को गोहराती
कौवे की काँव काँव मन को भिगो जाती
इस सावन में
घर की पूजा में आने का वादा था
इंतजार में पथराई आँखें
दिल बस पत्थर का नहीं है
सोचती
कैसे खून मेरा हुआ बेईमान
क्या यही है परवरिश का सम्मान
आस बाकी है
साँस बाकी है
सावन का उल्लास बाकी है ।

--

जलज कुमार अनुपम
बेतिया , बिहार

संपर्क सूत्र : +९१९९७१०७२०३२

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------