रचनाकार

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका

भर्तृहरि (खण्डकाव्य ) // डॉ०'कुसुमाकर'शास्त्री

image
            *वन्दना*
हे कालविधायक जगदीश्वर,.
  तेरी तो  महिमा  है  अपार।
ज्ञानी,  ध्यानी , योगी   हारे ,
कोई भी  पाया  नहीं  पार।।१।।
                    कर   बिन  तू ने सब   विश्व  रचा,
                    किस को तुमने क्या  कुछ न दिया।
                     उसकी     ही   तूने     रक्षा    की,
                    जिसने  भी  तुझे पुकार लिया।।२।।
  तुझ से तो  कुछ भी  छिपा नहीं ,
  प्रभु  तू   सर्वज्ञ   नियामक    है।
  कुछ मुझ पर  भी कर कृपा नाथ ,
  तू  सक्षम  है , सब  लायक   है।၊ ३ ॥

                   बिन  कृपा  तुम्हारी  पत्ता  तक,
                    इस  जगती  में  ना  हिल  पाए ।
                    गर कर दो प्रभु तुम कृपा तनिक ,
                    इक अदना   भी  सब  कर  पाए ॥४॥
योगी  और  भोगी  दुनिया  में ,
आते   हैं ,   रहते ,  जाते   हैं ।
जैसा  तुम  चाहो  नाथ  वही,
सब के सब  करते  जाते  हैं॥५॥
                          तू चाहे  तो इक   रंक   यहाँ ,
                          क्षण में राजा बन  जाता  है।
                          यदि ना  चाहे तो राजा  भी -
                          इक रंक का दर्जा पाता है ॥६॥
ऐसी  ही  एक  कथा  प्रभु   जी ,
तव  पद  में  रखना  चाह   रहा ।
पर  कृपा  बिना तेरी  प्रभु   जी ,
मैं   कर  पा  नहीं  निबाह   रहा ॥७॥

                             
                        चरणों   में   मेरी   विनती   है ,
                   निज सुत की इच्छा पूर्ण करो।
                   जो   आयें   बाधाएं   पथ   में ,
                   प्रभु उसे मसल कर चूर्ण करो॥८॥
धन्य   धन्य   परमात्मा  ,  धन्य  धन्य   महराज ॥
इक राजा योगी बना , ' कुसुमाकर ' किस काज॥९॥

       भर्तृहरि (खण्ड काव्य)

  क्षिप्रा  का  पावन  तट  है ,
   चहुँ ओर  छटा   है   छायी ।
   गहन ,शान्त , गम्भीर , धीर ,
   यह   क्षिप्रा   बहती  आयी ॥१॥

                   कल कल ,छल-छल करती है ,
                    यूँ     जैसे      है    इठलाती ।
                    ऐसा    लगता     है    मानो ,
                    ये    घाट   देखने   जाती ॥ २॥
क्षिप्रा  के  पावन  तट   पर ,
रजनी  के  प्रथम  प्रहर   में।
बहती  थी  पवन  सुगन्धित ,
भरती  थी  सिहरन  उर  में ॥३॥
                   दीपक  जल  रहे  तटों  पर ,
                   पानी   में    पड़ती   छाया।
                   क्षिप्रा  के  पावन  जल   में ,
                   ज्यों गगन  उतर  हो  आया ॥४॥


हो    रही   आरती ,  मन्दिर -
में    बजते    ढोल   मंजीरे।।
ऐसे      में     बैठे      राजा ,
हैं   क्षिप्रा   के   ही  तीरे ॥५॥
                     था   बाहर  ठण्डा   लेकिन ,
                     भीतर    थी   अति   बेचैनी ।
                     इसका  कारण,  जाने क्या?
                     शायद     कोई     मृगनैनी ॥६॥
क्षिप्रा  के  निकट  बसा  था ,
उज्जयिनी   नगर   सुहाना।
गन्धर्वसेन     थे     शासक ,
समृद्धि  चतुर्दिक   नाना।।७॥
                  बीतता  समय  सुख पूर्वक,
                  हर   दर  खुशहाली  छायी।
                  दो-दो  शादियाँ  किये  नृप ,
                  बजती  थी  नित्य   बधाई ॥८॥


दस   वर्ष    हो   गये   राजा ,
की   हुईं   शादियां    प्यारी ।
पर  अब  तक  उनके  आंगन -
में ,  गूँजी    ना    किलकारी ॥९॥
              बादल  की  ओट  छिपा  कब ,
              है    सूरज    कहो     छिपाये।
              खुशियों को  द्विगुणित  करते ,
              सूरज   से    दो   सुत   आये।।१०॥
दोनों   ने   पुत्र  . जने   थे ,
दोनों   थे    बड़े    सलोने।
राजा    न्यौछावर    करते ,
थे   निसदिन   चाँदी-सोने ॥११ ॥

                     दोनों   ने   सीखे    विद्या-
                      संग रण कौशल भी सारे।
                      थे मात-पिता  की आंखों - 
                      के , दोनों   ही  सुत  तारे ॥१२ ॥                                      

थी  प्रजा सुखी,सुख समृद्धि ,
  चहुँ  तरफ  वहाँ  थी  छाई।
था    बड़ा    भर्तृहरि   एवं ,
  विक्रम  था   छोटा   भाई ॥१३ ॥
                     दोनों  में   प्रेम    बहुत  था ,
                     दोनों ही सँग - सँग   रहते।
                     कटु बचन किसी को भी वे ,
                     दोनों  थे    कभी  न  कहते। । १४ ॥
बचपन  दोनों  का  यूँ  ही ,
गुजरा  है  खेलते -  खाते।
कब  युवा  अवस्था  आई ,
वे  सोच  भी   नहीं  पाते ॥१५ ।।
                   कल   तक   थे   छोटे   बच्चे ,
                   है     होती    आज    सगाई ।
                   राजा    के    राजमहल    में
              चहुँ दिशि खुशियाँ  हैं  छाई ॥१६॥


शादियाँ  किया   राजा  ने ,
दोनों  की  प्यारी -  प्यारी।
दिन -रात  दिखाई  पड़ती ,
खुशियाँ ही खुशियाँ सारी ॥१७ ॥
                  खुश  राजा सँग सब बच्चे ,
                  खुशियाँ थी  राजमहल  में ।
                  दिन  बीत   रहे  थे  उनके ,
                  बढ़ती खुशियाँ पल-पल में ॥ १८॥
बच्चों   के   बच्चे  आये ,
उन सबकी खुशी बढ़ाते।
लख  नाती - पोते राजा ,
अत्यधिक  नित्य  हर्षाते।।१९॥
               दिन  बीत  रहा  था  उनका ,
               यूँ     हँसी-खुशी  में  सारा।
              कोई  . भी   कमी  नहीं   थी ,
              धन . वैभव  सकल  पसारा ॥ २०॥


पर   समय   बड़ा   निर्मोही ,
किसके  रोके   रुकता  है।
यह  आसमान  सा   ऊँचा ,
किसके सम्मुख झुकता है।।२१॥
                वह समय आ गया राजा ,
                गन्धर्वसेन   तन    त्यागे।
                अब  बने  भर्तृहरि  राजा ,
                फिर भाग्य प्रजा के जागे ॥ २२॥
  हर ओर रही सुख समृद्धि ,
  थे जन-जन  के हितकारी ।
  था   समय  बीतता  जाता ,
   थी प्रजा सुखी अति भारी।।२३॥
                था  नाम  पिंगला  उसका ,
                 थी    भर्तृहरि   की   रानी।
                  था   प्रेम   घना   दोनों  में ,
                  आगे  बढ़  चली   कहानी ॥ २४॥
पिंगला   सच्चरित   रानी ,
सब गुण  सम्पन्न परी-सी।
थे    उसके  बोल  सुहाने ,
लगती थी वह मिश्री - सी ॥ २५ ॥


            जब   थककर    राजा  आते ,
            सब  राज -काज  निबटा  के ।
            रख  देती  क्षण  में    उनकी ,
             वह   सारी  थकन  मिटा  के ॥२६॥
सुख  पूर्वक   बीत रहा था ,
जीवन   राजा    रानी   का ,
पर  कालबली  क्या  सोचे ?
यह  काम न इस प्राणी का ॥ २७॥
              राजा      को      अनंगसेना ,
               इक  रोज  पड़ी  दिखलाई।
               राजा   ने   परिचय    पूछा ,
               वह  उनके  मन  अति भाई ॥ २८ ॥
फिर क्या था कुछ ही दिन में ,
राजा      ने    रचाई    शादी।
उस    रानी   नवागता    पर , ।
निज सारी   खुशी  लुटा  दी ॥ २९॥
                 पिंगला   से  अधिक  इसको
                 चाहने    लगे     थे     राजा । 
                 दिन - रात बजा  करता  था ,
                 शहनाई ,     दुन्दुभि    बाजा।।३०॥
रानी   की    सुन्दरता    पर ,
राजा     मोहित   थे     ऐसे ।
नाद    मधुर    सुन     करके ,
  होता   मृग  मोहित  जैसे ॥ ३१॥


                 था  सेनापति   अति  सुन्दर ,
                 था  उसका   वदन  गठीला।
                 रानी    ने  उसको      देखा ,
                 लगता था अतिशर्मीला ।।३२॥
उसकी  नजरों   ने   रानी -
की ,  सुन्दरता  को  देखा ,
लगता   था   जैसे   कोई ,
है  खिंची हुई   विधुलेखा ॥ ३३ ॥
                   धीरे-धीरे     दोनों     की ,
                   आंखें   टकरा  जाती  थीं।
                    खुशियाँ उनमें दिखती थीं .
                    पर   थोड़ा  शर्माती   थीं। । ३ ४ ॥
यह   रहा  सिलसिला   जारी ,
दोनों ही छिप -छिप  मिलते।।
मिलने  पर   दोनों   ही    के ,
मन - कमल सदा थे खिलते ॥३५॥
                  दूसरी   ओर    राजा   के ,
                  घोड़ों का   था  रखवाला ।
                  वह  चन्द्रचूड़   भी  रानी ,
                  के    ऊपर  डोरा  डाला ॥३६॥
पैसों  की खातिर   उसने ,
रानी   से   प्रेम   बढ़ाया।
पर सच्चा प्रेम कभी भी ,
ना उससे वह कर पाया।।३ ७॥
                  हाँ ,  राजनर्तकी    से   वह ,
                  था  सच्चा  प्रेम   निभाता।
                  वह   राजनर्तकी     के  भी ,
                  था मन को अतिशय भाता ॥ ३८ ॥


राजा    दरबार    लगाते ,
सुनते    जनता   की   बानी।
इस  ओर  महल  में   उनके ,
चलती   थी   प्रेम   कहानी ॥ ३९॥
                  इक सईस , इक सेनापति ,
                  दोनों    रानी    को   चाहें।
                  रानी  भी  कुछ  ऐसी  थी ,
                  दोनों   से   प्रेम    निवाहें ॥ ४०॥
पर अब तक बात किसी के ,
कानों  तक  पहुँच  न  पाई।
पर प्यार की  बातें हरगिज ,
हैं  छिपती   नहीं  छिपायी ॥४१॥
                  विधि का  विधान  है  कैसा?
                  यह   जान  कौन   पाया  है ?
                  जो कुछ  हो  रहा  जगत  में ,
                  वह  प्रभु  की  ही  माया  है ॥ ४२॥


यह   समय   बड़ा   बेढंगा ,
कब  कैसी   करवट  लेगा।
यह  कोई  जान   न  पाया ,
कब किसको काल छलेगा ?४३॥
                  दिन बीत रहे थे  सुख से ,
                  हर -दर खुशहाली  छायी।
                  पर  काल चक्र  यूँ    घूमा ,
                  कुछ बात समझ ना आयी ॥४४॥
दरबार लगा था  इक  दिन ,
इक विप्र  वहाँ पर  आया।
उसने   राजा  को  अपना ,
शुभ नाम 'जयन्त 'बताया। । ४५॥


                     वह   परम  तपस्वी  ब्राह्मण ,
                     इक  अद्भुत  फल  था लाया I
                     जो तप  कर -कर  के  उसने -
                       था, देवराज से पाया। I४६ ॥
था नाम  'अमरफल ' उसका,
था  काम  अमर  कर   देना।
राजा      ने     पूछा    उससे -
'क्यों   मुझे    चाहते     देना ? ॥४७॥
                    मैं   खुद  खाता  या  पत्नी -
                    को  इसे  खिलाता  राजन्!
                    तो बड़ी  उम्र  तक  करना ,
                    पड़ता   हमको  भिक्षाटन ॥४८॥


इसलिए     आपको      देने -
हित  फल  ये  लाया  प्यारा।
यदि  आप   अमर  होंगे तो ,
हित  जनता  का  हो  सारा ॥४९॥
                 '   हो   अमर   भीख  मैं   माँगू , '
                     यह  मुझको   नहीं   गवारा ।
                     इस  फल  पर  राजन्  पहला
                     अन्तिम   हक   नाथ   तिहारा ॥५०॥
राजा   ने   फल  लेकर   के ,
माथे   से    उसे      लगाया ।
उस  ब्राह्मण  की  इच्छा  के ,
प्रति   अति   आदर  दर्शाया ॥५१॥


                  देकर काफी धन   उसको,
                  राजा ने   विदा   किया  है ।
                  उसकी इक - इक बातों पर ,
                  राजा   ने  गौर  किया    है।।५२॥
मुझको है अति प्रिय रानी ,
यदि वह ही अमर  रहेगी।।
तो  मेरे   जीवन   में   भी ,
सुख-सरिता  सदा  बहेगी।।५३॥
                      यह  निश्चय  करके  राजा ,
                     छोटी   रानी   ढिग   आये,
                     सारा  गुण   वर्णन   करके,
                     फल दिया  कि  रानी खाये ॥५४॥ ॥


रानी ने फल  रख कर के ,
राजा की आवभगत की।
पर मन में क्या था उसके ?
थी सोची अभ्यागत की ॥५५ ॥
                  रानी ने फल  वह  रखकर,
                  कुछ  सोचा और  विचारा।
                  देने  का  फल  उसको  ही ,
                  जो था उसको अति प्यारा '।।५६॥
रानी   ने  कर  दृढ़  निश्चय ,
फल चन्द्र चूड़ हित  छोड़ा।
पर हा!  विपत्ति  से  उसने ,
इस मिस था  नाता   जोड़ा।।५७॥
                      यह  कालचक्र  अब  घूमा ,
                      देखो  विपरीत   दिशा  में ।
                      होनी  हो  कर   है   रहती,
                      कब थमी  किसी के थामें॥५८॥
वह सुन्दर फल लखकर के ,
रानी   के   मन  में   आया ।
यह   चन्द्र  चूड़   को दे  दूँ,
उसने  गर यह  फल खाया ॥५९॥,
                  वह   अमर  रहेगा  जग में ,
                 नव   यौवन    बना   रहेगा '।
                  फिर   प्रेम  हमारा  जग में ,
                  युग-युग  तक अमर  रहेगा॥ ६०॥


जो  पड़ा   प्रेम    के   पाले ,
वह  भला - बुरा   ना  जाने ।
  मजबूर    प्रेम   के    हाथों ,
हित -अनहित ना पहचाने। I६१॥
                     ले चन्द्र चूड़ उस  फल को ,
                     रख  लिया  पास है अपने।
                     फिर तरह-तरह के वह भी ,
                    अब लगा देखने सपने।।६२॥
संयोग  रहा  यह  अच्छा ,
राजा   ने  उसे    बुलाया ,
आदेश मिला फिर  सत्वर ,
नर्तकी    पास    पहुँचाया ॥ ६३॥
                था  चन्द्र   चूड़   भी  इच्छुक ,
                उस  गणिका से  मिलने  का I
                मौका   था    दोनों   जन   के ,
                अरमानों    के    फलने    का ॥६४॥


नृप  मदिरा   पी-पी  कर  के
जब   थे  मदहोश  हुये   तब |
वह    चन्द्र   चूड़   पा   मौका ,
फल दिया बता कर  गुण सब  ॥६५॥
                   नर्तकी     रूपलेखा      ने ,
                   फल ले कर के रख छोड़ा।
                   इन   लोगों  के  जाने   पर,
                   है    सारा   तथ्य   निचोड़ा ॥६६॥
क्या  लाभ  अमर  होने  से ,
है  जीवन   घृणित   हमारा ।
हो  अमर  करूँगी  क्या  मैं ,
यह  तन  है  अधम  हमारा ॥६७॥
                 क्या करूँ बहुत दिन जी कर ,
                 मैं       नारकीय      गुणहीना
                 बन   तो    जाऊँगी    ना    मैं ,
                अति    पूता   परम     प्रवीना ॥६८॥


राजा   हैं  गुणी   हमारे ,
उनको  यह   फल  दे आऊँ।
वे   खाकर  इसे   अमर  हों,
मैं    धन्य-धन्य    हो   जाऊँ॥ ६९॥
                 ले    समय    नर्तकी    राजा ,
                 से   मिलती  राज  महल   में ,
                 सब गुण बतला कर फल का ,
                 था   डाल  दिया  हलचल  में ॥७०॥
राजा   ने  फल  को   देखा ,
पहचान गये   वो  क्षण में ॥
तलवार   उठाकर   गरजे ,
ज्यों जाते  होवें   रण में ॥७१॥
             राजन  मैं  परम  अघी  हूँ ,
             हो अमर भला क्या पाती।
             इसलिए  आपके  ढिग यह ,
             लेकर फल हूँ मैं  आती ॥७२॥


हैं    आप   हमारे  राजा ,
गर आप अमर हो जायें।
तो सारी प्रजा  सुखी हो ,
प्रभु का जैकार मनाये।।७३॥
               राजा  ने पूछा- "आखिर ,
               यह  फल तू कैसे पायी?"
              डर कर फिर उसने सारा -
              ही ,राज उन्हें बतलायी।।७४॥
राजा ने  उसको  धन दे ,
महलों से बिदा किया है।
फिर फल लेकर सत्वर ,
रानी को दर्श  दिया है ॥७५॥
                असमय आना उनका लख ,
                 है    रानी   अति   घबड़ाई ।
                 जैसे   उसके   सिर   ऊपर ,
                 है आफत कोई आई।।७६॥
राजा     ने     पूछा- 'रानी -
  क्या तूने वह फल  खाया ?'
'हाँ - हाँ कह कर  रानी  ने ,
सिर अपना  खूब  हिलाया ॥७७॥
                  राजा   ने    खड्ग   सम्भाला ,
                  और फल सम्मुख दिखलाया।
                   रानी     थी    असमंजस   में ,
                   फल   इन  तक  कैसे  आया ? ॥७८॥


आखिर  डर  कर   के  रानी -
ने ,  सारा   सच  कह डाला।
था   चन्द्रचूड़     को      मैंने,
यह     सुन्दर  फल दे  डाला ॥७९॥
                  जब    चन्द्रचूड़    को   राजा -
                   ने , अपने    पास     बुलाया।
                   उसने    अपने   सँग    सेना -
                   पति  , का भी नाम  बताया ॥ ८० ॥
है    होनहार    जो    होनी ,
वह  समय  पड़े   होती  है।
कोई   इसमें    हँसता    है ,
कोई    इसमें    रोती     है ॥ ८१॥
                   राजा   ने    सेनापति   को ,
                   है   मृत्युदण्ड   दे    डाला।
                   अरु  निज सईस को  उनने,
                   दे  डाला    देश    निकाला ॥ ८२॥


वह  रात  अमावस  की  थी ,
हर   दर   था  घोर   अंधेरा।
रानी       अनंग - सेना     ने,
निज   जीवन  से  मुँह  फेरा ॥ ८३॥
                 अपने   ही   बीच   महल  के ,
                  मर   गई   चिता  में  जल  के।
                  राजा   सन्तप्त   अधिक    थे ,
                  बाहर   ना  गये    महल    के ॥ ८४॥
अनमने     रह   रहे   राजा ,
कुछ समझ  नहीं था आता।
लगती  थी    दुनिया  नीरस,
दिल   उनका   ऊबा   जाता।।८५ ॥


                  जिस  पर   मम   प्रेम  सवाया,
                  वह   और   किसी  को    चाहे ।
                  किस  तरह  मनुज इस जग में ,
                  अपना      सत्प्रेम        निबाहे ॥८६॥
निःसार   जगत    है  सारा ,
कोई   अपना  न  यहाँ  है।
जो साथ  सदा  दे  जग  में ,
वह  अपना  कौन  यहाँ  है?॥८७॥
                  ऐसा   करके    रानी    ने  ,
                  था उनको बहुत सँभाला।
                  अवसाद ग्रस्त  राजा  को ,
                  था उससे शीघ्र  निकाला।।८८॥


  ऐसे  में   राजा   जी   को ,
रानी    पिंगला     सँभाले।
दिल में जो भरी व्यथा थी ,
आहिस्ता  उसे    निकाले ॥८ ९॥
               कुछ   दिन   ऐसे  ही   बीते ,
               कुछ  स्वस्थ  हुये जब राजा ।
               आखेट    के   लिए    रानी -
                ने  उनको  बन   में  भेजा।।९०॥
रानी   की  सोच  यही  थी ,
कुछ  उनका मन  बहलेगा।
जो   सदमा  दिल  में  बैठा ,
धीरे - धीरे     निकलेगा ॥९१॥
                 आखेट  के  समय   बन   में ,
                 इक  गया   सिपाही    मारा।
                 इकलौता   पति  पत्नी  का ,
                 वह  था  किस्मत  का  मारा ॥९२॥
जब  पता  चला   पत्नी  को ,
आयी   जँह   मरा   अभागा।
फिर चिता लगा शव  रखकर ,
खुद भी सँग जल तन त्यागा॥९३॥


                   राजा     था   विस्मित   भारी ,
                   लख उसकी   करुण कहानी |
                   इक वह थी , इक थी उन की ,
                   वह    लाड़ - लड़ैती     रानी ॥९४॥
इक   तरफ  रूपलेखा   थी ,
जो  भला  चाहती   उनका।
कुछ  समझ न  पाया  राजा ,
क्या करता  उस  दुर्गुन का ॥९५॥
                   नारी   बन    गई     पहेली ,
                   राजा कुछ समझ  न पाया।
                   "नारी को वह  क्या समझे ?
                   अपना    या  अन्य  पराया ॥९६॥
ये   सारी   बातें    मन    में ,
उस  वक्त घुमड़ती    रहतीं।
सोते-जगते   हर   क्षण   ये ,
जाने क्या- क्या थी  कहती ॥। ९७ ॥


                  इक  रोज  लिवाकर  उनको ,
                  आखेट    के    लिये    रानी ।
                  चल   पड़ी गहन  कानन  में ,
                  अब   आगे   बढ़ी    कहानी ॥९८ ॥
पूरे    दिन  राजा  भटके ,
पर कहीं न कुछ मिल पाया।
घर  वापस   होने    खातिर ,
राजा   ने   कदम   बढ़ाया।।९९॥
               तब तलक झुण्ड हिरणों का ,
               उनके   सम्मुख   है    आया ।
               रानी     ने    रोका    लेकिन ,
               राजा      ने    तीर    चलाया।। १००॥
राजा   का  तीर  लगा    तो ,
गिर पड़ा हिरन  धरती  पर।
आत्मा   तब उसकी  बोली ,
राजा  क्यूँ रहम न मुझ पर।।१०१ ॥
                 तुमने   ये   किया   न   अच्छा ,
                 मुझ  निरपराध    को    मारा।
                 अब   जो   कहता हूँ  सुन  ले ,
                 कहना    ये     मान     हमारा।।१०२॥


  श्रृंगी     बाबा     को      सीगें ,
  दे  चख   चञ्चल  नारी   को।
  ये  त्वचा    साधु-सन्तों   को ,
  या    पूत     ब्रह्मचारी    को ॥१०३॥
               मेरे   पैर   भागने    वाले ,
               चोरों   को   तुम  दे  देना।
               मेरे    शरीर   की    मिट्टी ,
               पापी    राजा   को   देना ॥१०४॥
इस   करुण  कथा   ने   राजा ,
को , द्रवित  कर दिया क्षण  में ।
जो   कभी  न   विचलित  होते ,
थे,   भीषण - भीषण   रण  में ॥ १०५॥
                   घोड़े  पर  हिरन - कलेवर ,
                   ले   राजा    आगे   आये ।
                   गोरखनाथ   मिले  पथ  में ,
                   राजा  कुछ  साहस  पाये ॥१०६॥


राजा    ने      सारी     बातें ,
गोरखजी    को    बतलायी I
मृग को   जिन्दा  करने  की , 
उनसे   है   विनय    सुनाई ॥१०७॥
                    सुन    सारी     कथा   गुरु   ने ,
                    नृप   की   सब    बातें   मानी।
                    पर    शर्त    लगा   दी    उनसे ,
                    अतिरोचक  हुई    कहानी' ।।१०८ ॥
हे  राजन  !यह मृग जिन्दा ,
कर  दूँगा पर यह  सुन  लो ।
इसके   जिन्दा   होने    पर ,
शिष्यत्व   हमारा  चुन   लो ॥१०९॥
                गुरु    गोरख    की    शर्तों   पर ,
                राजा     ने     हामी     भर    दी ।
                 गुरु  ने  फिर  चन्द  पलों  में ,
                मृत मृग को  जीवित  कर  दी ॥११०॥


राजा  के  सिर   से   भारी ,
अपराध   बोध  था   छूटा।
जो भी मिलता था नृप को ,
उनको  ही  जी  भर  लूटा।।१११॥
                  सब छोड़ - छाड़ कर राजा ,
                  बन  गोरख   के   अनुगामी ।
                  चल  पड़े  साथ  उनके  ही ,
                  पर वे   न  बने   थे  स्वामी ॥११२॥
गुरु  गोरख  ने  फिर  दूजी ,
इक  भारी  शर्त  लगा  दी ।
राजा को लगा ज्यूँ  गुरु ने ,
है  उनको  बड़ी  सजा  दी ॥११३॥
                   माता   सम्बोधन    करके ,
                  पिंगला  से  भिक्षा  लाओI
                  इक  भण्डारा  दे   कर  के
                  मेरे   चेला   बन    जाओ ॥११४॥


राजा   बन   चले    भिखारी ,
भिक्ष   माँगें   अब    दर-दर ।
किस्मत  क्या खेल  दिखाये ,
है    खानी   पड़ती   ठोकर ॥११५ ॥
                थे  भगवा  वस्त्र  पहन  कर ,
                वे   खड़े   महल   के  द्वारे I
               "माँ  पिंगला   भिक्षां   देहि "
                कह  कर  के  उसे  पुकारे' ॥११६॥
राजा   का  स्वर  पहचानी ,
झट  पिंगला  बाहर  आयी।
  देखा   स्वरूप   राजा  का ,
  उसकी  आँखें  भर  आयीं ॥११७ ॥
                "  यह  सजा   मुझे  क्यों   देते?
                   है    क्या   अपराध    हमारा?
                   तज   बीच   भँवर   में   नैया ,
                   क्यों  तुमने  किया किनारा ॥ "११८॥


इस  स्वार्थ  भरी  दुनिया  में ,
निःस्वार्थ   न    कोई   पाया।
किस पर  विश्वास  करें  हम ,
विश्वासी    है     ना    पाया  ॥११९ ॥
                 मैं,   मेरा, तू   और   तेरा ,
                 यह सब ही तो  है  माया।
                 इनमें  पड़  कर के  हमने ,
                 ए  नाहक  जन्म   गँवाया ॥१२० ॥
"हूँ   मैं    तेरी   अर्द्धांगिनि,
  तू   पति   मेरे    हो   प्यारे I
इस तरह  मुझे बिसरा   कर ,
ना  जा  आंखों  के   तारे ॥१२१॥
                 इस  तरह  न  तुम  ठुकराओ ,
                 अपनी   इस   परिणीता  को ।
                  क्या    अग्नि- परीक्षा    देनी ,
                  है    शेष   अभी   सीता  को॥१२२॥.
''मां  अब  कुछ  भी  ना  लेना-
ना,   देना     शेष     रहा     है।
बस  इक   चुटकी  भर  भिक्षा,
ही     पाना    शेष     रहा    है।। १२३॥
                    जो कुछ भी भाल लिखा है ,
                     वह  मिलता  ही  है  माता ।
                     है   रंक  यहाँ    पर   कोई ,
                     कोई    है    भूप    कहाता ॥१२४॥


"यह  उचित  नहीं   है   राजन् ,
परिणीता     को      ठुकराना।
यह   कैसे    जी     पायेगी ,
क्या  इसको भी   है  जाना'॥१२५॥
                     जो  भाग्य  लिखा  है  उसको ,
                     वह   ही  है   मिलता   माता ।
                     भिक्षा    दे   दो    योगी   को ,
                     या ,  बिन  भिक्षा  है जाता ॥१२६॥

रो-रोकर     रानी ,    राजा -
से यह सब कुछ कहती थी।
पर    दोनों  आँखों  से  ही -
अविरल  धारा  बहती  थी ॥१२७॥
               जब  मना - मना कर  रानी ,
               निज  राजा   को   है   हारी।
               फिर   भिक्षा   दे   देने   की -
               ही    उसने   बात    बिचारी ॥१२८॥


रानी  जब  भिक्षा   लेकर,
है    नंगे    पाँवों    आयी।
उसकी  आंखों  ने  सावन -
भादों   की  झड़ी   लगाई ॥१२९॥
              लो   योगी   भिक्षा   ले   लो ,
              यह   अन्तिम   भेंट   हमारी।
              पर   रखना   याद    तुम्हारी ,
              भी   थी   इक   कोई    नारी।।१३०॥
तुम बन में तप  करते  हो ,
वह तपती निज महलों में |
पर अन्तर कुछ भी था ना ,
इन दोनों  के ही  फलों  में।।१३१॥
                  लेकर    भिक्षा    योगी  ने,
                  है  अलख   जगाया  भारी।
                 ''माँ सुखी रहो" यह कहकर ,
                  की    चलने   की    तैयारी ॥१३२॥
दिल  टूट  चुका   रानी   का,
वह   जा  महलों   में   सोई।
पति योगी हो , गति  उसकी ,
समझे   विरला   जन  कोई ॥१३३॥


X                  X               X
                बारह   वर्ष  तपस्या   कर -
                के , बने  सिद्ध   वे  योगी।
                ऐसी   दृढ़   प्रतिज्ञता   भी ,
                बिरले   ही  जन  में  होगी ॥१३४॥


X.                     X                     X
दशहूँ दिशाओं तीनों कालों में  है परिपूर्ण ,
            चैतन्य स्वरूप जो अनन्त  कहलाता है।
वही अनुभव गम्य  , शान्त , तेजोमय ब्रह्म ,
            जिसकी उपासना में चित्त चैन पाता है ॥
केवल विरक्ति बनी उनकी थी संगीनी औ'
               देवन के देव महादेव   मन भाता है

'कुसुमाकर' ऐसे ही थे भूप भर्तृहरि योगी ,
      भक्ति - भागीरथी में लगाते रहे गोता है।।१३५।।
                              ०००

विषय:

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

रचनाकार में ढूंढें...

आपकी रूचि की और रचनाएँ -

randompost

कहानियाँ

[कहानी][column1]

हास्य-व्यंग्य

[व्यंग्य][column1]

लघुकथाएँ

[लघुकथा][column1]

कविताएँ

[कविता][column1]

बाल कथाएँ

[बाल कथा][column1]

लोककथाएँ

[लोककथा][column1]

उपन्यास

[उपन्यास][column1]

तकनीकी

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

वर्ग पहेलियाँ

[आसान][column1][http://vargapaheli.blogspot.com]
[blogger][facebook]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget