बुधवार, 30 अगस्त 2017

व्यंग्य // समय, परिस्थिति और भाईलोग // कुबेर

सोमेश सोनी की कलाकृति

समय और परिस्थिति दोनों अभिन्न मित्र हैं।

एक दिन, समय जब आराम करने जा रहा था, उसके मोबाइल की घंटी बजने लगी। उसने फोन रिसीव किया। फोन परिस्थिति का था। समय ने हुलसते हुए कहा - ’’देखा! अनुमान कितना सही होता है, मेरा। दिल के मामलों में ऐसा ही होता है।

जरूर, जरूरी और महत्वपूर्ण बात होगी, अन्यथा इस समय वह फोन नहीं करता।’’फिर दोनों में बातें हुई, एकदम संक्षिप्त।

इस संक्षिप्तता ने समय को चिढा दिया। उसने कहा - ’’धत्! बस इतना ही पूछना था कि मैं घर पर हूँ या नहीं।’’ आराम करना स्थगित कर वह मित्र की प्रतीक्षा करने लगा।

प्रतीक्षा भी संक्षिप्त रही।

दुख-सुख की बातें करने के लिए मनुष्य बनना जरूरी होता है। परिस्थिति को मनुष्य के रूप में देखकर समय का मन करुणा से भर उठा। उसके चेहरे के भावों को वह पढ़ नहीं सका।

दुआ-सलाम के बाद परिस्थिति ने कहा -’फूल देखे थे अक्सर जनाजों में मैंने,कल गोरखपुर में फूलों का जनाजा देखा।’

’’वाह! क्या बात है?’’ समय ने दाद देते हुए कहा - ’’शायर कब से बन गये?’’

’’मैं क्यों शायर बनने लगा? शायर बनकर क्या फायदा? औकात नामक कोई चीज होती भी है, शायरों के पास? इसे अखबार में पढ़ा था। गुलजार नामक किसी व्यक्ति का है।’’

’’गुलजार के बारे में ऐसी बातें करते हो?’’

’’क्यों? शायर ही तो है, कोई भाई-वाई तो नहीं? .... अच्छा, सुन। खुशखबरी है।’’

’’खुशखबरी?’’

’’हाँ! यहाँ के भाई लोगों को जानते हो न?’’

’’हाँ, हाँ ... क्यों नहीं। उन्हें कौन नहीं जानता होगा। सभी भय खाते हैं उनसे।’’

’’हाँ! सभी भय खाते हैं उनसे। तुमसे तो कुछ होता नहीं। मैं भी काफी तनाव में रहता था। सब तो उनकी दरबार में हाजिरी लगाते हैं। कल से मैंने भी लगाना शुरू कर दिया है। अपना सब कुछ उन्हें अर्पित कर दिया है। आरती करके आ रहा हूं अभी - ’तुम्हीं हो माता, पिता तुम्हीं हो .....।’ देखा, आरती का असर। सारा भय, सारा टेंशन जाता रहा।’’

समय के चेहरे पर एक रहस्यमयी मुस्कान तैर गयी।

समय के चेहरे पर मुस्कान देखकर परिस्थिति को अचरज हुआ।

समय ने पूछा - ’’पर ये सब सूझी कैसे तुम्हें?’’

’’चैनलवाले और अखबारवाले आजकल काम की बड़ी-बड़ी चीजें परोस रहे हैं। नहीं पढा़ क्या - ’बन के हादसा, बाजारों में आ जायेगा।जो न होगा, अखबारों में आ जायेगा।चोर उचक्कों की करो कद्र, कि मालूम नहीं,कौन, कब, कौन सी सरकार में आ जायेगा।’है न काम की बात?’’

सुनकर समय के मुस्कान की रहस्यमयता और गाढ़ी हो गई। उसका चेहरा और अधिक रहस्मय लगने लगा।

परिस्थिति को कुछ समझ में नहीं आया। उसे उलझन होने लगी - ’भाई लोगों के दरबार में कहीं इसने भी तो ...... ।’’

000kuber000

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------