370010869858007
नीचे टैक्स्ट बॉक्स से रचनाएँ अथवा रचनाकार खोजें -
 नाका संपर्क : rachanakar@gmail.com अधिक जानकारी यहाँ [लिंक] देखें.

****

Loading...

रैवन की लोककथाएँ - 1 - : 16 रैवन ने आदमियों को मारा // सुषमा गुप्ता

image

वैसे तो अलास्का के लोगों में रैवन की चालाकी और धोखे से दूसरे जानवरों को मारने की कई लोक कथाएँ कही सुनी जाती हैं पर रैवन की यह लोक कथा एस्किमो लोगों की कुछ लोक कथाओं में से एक ऐसी लोक कथा है जिसमें वह आदमियों के साथ चालाकी खेलता है, उन्हें मारता है और खाता है।

यह कहानी इससे पहले वाली कहानी "रैवन की पहले आदमी से मुलाकात" से बिल्कुल उलटी है। कहते हैं कि बहुत पहले की बात है जब रैवन आदमियों को खाया करता था क्योंकि उनको धोखा देना आसान था।

[ads-post]

एक बार वह आर्कटिक समुद्र के ऊपर उसके किनारे किनारे उड़ रहा था कि उसने एक गाँव देखा। उसको बहुत भूख लगी थी सो उसने वहाँ से खाना लेने का विचार किया।

वह उस गाँव के ऊपर थोड़ा सा नीचे की तरफ उतरा और चिल्लाया - "तुम्हारे दुश्मन आ रहे हैं। तुम्हारे दुश्मन आ रहे हैं।"

यह सुन कर सारे लोग अपना अपना भाला ले कर अपने अपने इगलू से निकले और रैवन से पूछा कि दुश्मनों से निपटने के लिये उनको क्या करना चाहिये।

रैवन एक ऊँची पहाड़ी पर बैठ गया और उनसे बोला - "इस से पहले कि वे तुम्हारे गाँव तक पहुँचें तुमको उन पर हमला बोल देना चाहिये। अभी तुम लोग जाओ ओर उस पहाड़ी की तलहटी में अपने डेरे डाल लो और सुबह तक उनके आने का इन्तजार करो।"

रैवन की चाल से बेखबर गाँव के आदमियों ने रैवन को धन्यवाद दिया और पहाड़ी की तलहटी की तरफ दुश्मनों का मुकाबला करने के लिये चल दिये जैसा कि रैवन ने कहा था।

वहाँ पहुँच कर उन्होंने अपने अपने डेरे लगाये और सुबह के लिये दुश्मन को मारने की योजना बनाने लगे। कुछ देर बाद उन्होंने अपने सील मछली के तेल से जलने वाले लैम्प बुझाये और सो गये।

जब सब जगह अँधेरा हो गया और सभी लोग सो गये तो रैवन उड़ा और उस पहाड़ी की एक चोटी से निकली बरफ की एक बहुत बड़ी सी शाख पर जा कर बैठ गया

पर उसने देखा कि बरफ की वह शाख उसका बोझ नहीं सह पायेगी और जरा से झटके में टूट सकती थी सो वह वहाँ से उस शाख पर दो तीन बार कूदा।

वह शाख कमजोर तो थी ही रैवन के दो तीन बार कूदने पर ही टूट गयी और सारा का सारा बरफ उन सोते हुए आदमियों के ऊपर गिर पड़ा। वे सारे आदमी उस बरफ में दब गये और मर गये।

बरफ बहुत ज़्यादा थी और रैवन क्योंकि आलसी था इसलिये वह इतनी सारी बरफ उसी समय खोद कर उन आदमियों को अपने खाने के लिये निकालना नहीं चाहता था, सो वह वसन्त आने का इन्तजार करता रहा ताकि तब तक सब बरफ पिघल जाये और वह उन आदमियों को खा सके।

धीरे धीरे वसन्त आया और बरफ पिघली। रैवन बहुत खुश था कि अब की बार उसको इतना सारा माँस खाने को मिलेगा। उसको अपने शिकार की पहले ऑख फोड़ना और फिर ऑखें निकाल कर खाना बहुत अच्छा लगता था।

सारे वसन्त वह वहीं उस पहाड़ी के आस पास ही रहा ताकि वह अपने उन शिकारों की रक्षा कर सके जो उसकी चाल में आ गये थे।

----

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं की एक अन्य पुस्तक - रैवन की लोक कथाएँ में से एक लोक कथा यहाँ पढ़ सकते हैं. इथियोपिया की 45 लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी...)

लोककथा 4213959601896111608

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

emo-but-icon

मुख्यपृष्ठ item

रचनाकार में छपें. लाखों पाठकों तक पहुँचें, तुरंत!

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं.

   प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 14,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही रचनाकार से जुड़ें.

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है. किसी भी फ़ॉन्ट में रचनाएं इस पते पर ईमेल करें :

rachanakar@gmail.com
कॉपीराइट@लेखकाधीन. सर्वाधिकार सुरक्षित. बिना अनुमति किसी भी सामग्री का अन्यत्र किसी भी रूप में उपयोग व पुनर्प्रकाशन वर्जित है.
उद्धरण स्वरूप संक्षेप या शुरूआती पैरा देकर मूल रचनाकार में प्रकाशित रचना का साभार लिंक दिया जा सकता है.

इस साइट का उपयोग कर आप इस साइट की गोपनीयता नीति से सहमत होते हैं.

नाका में प्रकाशनार्थ रचनाएँ भेजने संबंधी अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

आवश्यक सूचना : कृपया ध्यान दें -

कविता / ग़ज़ल स्तम्भ के लिए, कृपया न्यूनतम 10 रचनाएँ एक साथ भेजें, छिट-पुट एकल कविताएँ कृपया न भेजें, बल्कि उन्हें एकत्र कर व संकलित कर भेजें. एकल व छिट-पुट कविताओं को अलग से प्रकाशित किया जाना संभव नहीं हो पाता है. अतः उन्हें समय समय पर संकलित कर प्रकाशित किया जाएगा. आपके सहयोग के लिए धन्यवाद.

*******


कुछ और दिलचस्प रचनाएँ

फ़ेसबुक में पसंद करें

---प्रायोजक---

---***---

ब्लॉग आर्काइव