सोमवार, 18 सितंबर 2017

रैवन की लोककथाएँ - 2 - : 9 नर गिलहरी और रैवन // सुषमा गुप्ता

एक बार रैवन समुद्र के किनारे किनारे उड़ रहा था। कुछ समुद्री चिड़ियाँ नीचे चट्टानों पर बैठी थीं। उन्होंने उसको देख कर उसे बुरे बुरे नामों से पुकारना शुरू कर दिया - "ओ तुम गन्दी चीज़ें खाने वाले, ओ तुम सड़ा हुआ माँस खाने वाले, ओ तुम काले।"

रैवन पलटा और यह चिल्लाते हुए उड़ गया - "ओ चिड़ियों, तुम लोग मुझे इतने बुरे नामों से क्यों पुकारती हो?"

वह उस पानी के ऊपर से बहुत दूर उड़ गया और पानी के उस पार एक पहाड़ पर आ बैठा।

सामने ही उसको एक नर गिलहरी का बिल दिखायी दिया। उसको देख कर उसने सोचा - "अगर मुर्दा माँस खाना खराब बात है तो अब से मैं ज़िन्दा माँस खाऊॅगा। अब आज से मैं एक हत्यारा बनूँगा।"

यह सोच कर वह उस नर गिलहरी के बिल के आगे खड़ा हो गया और उसमें रहने वाले के आने का इन्तजार करने लगा। जल्दी ही नर गिलहरी अपना खाना ले कर घर वापस आ गया।

नर गिलहरी ने रैवन से कहा - "तुम बिल्कुल ही मेरे घर के दरवाजे के सामने खड़े हो। थोड़ा हट कर खड़े हो जाओ ताकि मैं अपने घर के अन्दर जा सकूँ।"

रैवन बोला - "मैं यहाँ हट कर खड़े होने के लिये नहीं आया हूँ। लोग कहते हैं कि मैं मुर्दा माँस खाता हूँ। आज मैं उनको यह दिखाना चाहता हूँ कि मैं केवल मुर्दा माँस ही नहीं खाता मैं ज़िन्दा माँस भी खाता हूँ इसलिये आज मैं तुमको खा कर ही रहूँगा।"

नर गिलहरी बोला - "ठीक है। पर अगर तुम मुझे खाना ही चाहते हो तो मेरे ऊपर एक ऐहसान कर दो। मैंने सुना है कि तुम बहुत अच्छा नाचते हो तो मेरे मरने से पहले तुम मुझे अपना नाच दिखा दो।

अगर तुम उतना ही अच्छा नाचते हो जितना कि लोग कहते हैं तो तुम्हारा नाच देखने के बाद तो मैं तो खुशी से ही मर जाऊॅगा। अगर तुम नाचोगे तो मैं गाऊॅगा और फिर तुम मुझे खा लेना।"

यह सुन कर तो रैवन खुशी से फूल गया और उसने नाचना शुरू कर दिया और नर गिलहरी ने भी यह दिखाया कि वह उसके नाच का बहुत आनन्द ले रहा था।

नर गिलहरी ने गाया - "ओह रैवन, तुम कितना अच्छा नाचते हो, ओह रैवन तुम कितना अच्छा नाचते हो।"

कुछ देर नाचने गाने के बाद दोनों सुस्ताने के लिये रुक गये। नर गिलहरी बोला - "मैं तुम्हारा नाच देख कर बहुत खुश हुआ रैवन भाई। तुम अपनी आँखें बन्द कर लो और बस एक बार और नाच दो और मैं गाता हूँ।"

रैवन ने अपनी आँखें बन्द कर लीं और कूदना शुरू कर दिया और नर गिलहरी ने गाना शुरू कर दिया - "ओह रैवन, तुम कितनी सुन्दरता से नाचते हो। ओह रैवन, तुम कितने बड़े बेवकूफ हो।" और वह रैवन की टाँगों के बीच से निकल कर सुरक्षित अपने बिल में घुस गया।

फिर वहाँ से उसने अपनी नाक बाहर निकाली और हॅसा - "चिकि चिकि चिकि चिकि। जितने लोगों से मैं अब तक मिला हूँ तुम उनमें सबसे बड़े बेवकूफ हो।

जब तुम नाच रहे थे तो कैसी कैसी हॅसी वाली शक्लें बना रहे थे। मैं तो बड़ी मुश्किल से गा सका, बस हॅसता ही रहा। देखो, मेरी तरफ देखो, मैं कितना मोटा हूँ। क्या तुम मुझे खाना नहीं चाहोगे?"

और वह रैवन को तब तक तंग करता रहा जब तक कि वह तंग होकर वहाँ से उड़ नहीं गया।

इस तरह उस नर गिलहरी ने रैवन से अपनी जान बचायी।

----

सुषमा गुप्ता ने देश विदेश की 1200 से अधिक लोक-कथाओं का संकलन कर उनका हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत किया है. कुछ देशों की कथाओं के संकलन का  विवरण यहाँ पर दर्ज है. सुषमा गुप्ता की लोक कथाओं की एक अन्य पुस्तक - रैवन की लोक कथाएँ में से एक लोक कथा यहाँ पढ़ सकते हैं. इथियोपिया की 45 लोककथाओं को आप यहाँ लोककथा खंड में जाकर पढ़ सकते हैं.

(क्रमशः अगले अंकों में जारी...)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------